3 Jan 2020

Meri zindagi mere rules,मेरी जिंदगी मेरे रूल्स।

Shayari


मेरी जिंदगी 

मेरे रूल्स।
अपने हिस्से के गम किसी से बाँटता नहीं।
खुशी के लम्हों को सहेज कर रखता नहीं।

जो भी पल आए
जैसा भी समय दिखाए।
जिंदादिली के साथ 
जीने की कोशिश में रहता हूँ मैं।

कोई शिकवा नहीं
किसी से शिकायत नहीं।
मेरे रोजमर्रे की जिंदगी के
लायक हूँ मैं।

जितना मिला!
बहुत दिया इस जिंदगी ने
अपने भाग्य पर बहुत इतराता हूँ मैं।
कर्म ऐसे हों
जिससे सभी का भला हो
ऐसी सोच रखकर दिल में
कदम बढ़ाता हूँ मैं।

Meri zindagi


meri jindgi 

mere ruls।

apne hisse ke gam kisi se baanttaa nahin।

khushi ke lamhon ko sahej kar rakhtaa nahin।


jo bhi pal aaa

jaisaa bhi samay dikhaaa।

jindaadili ke saath 

jine ki koshish men rahtaa hun main।


koi shikvaa nahin

kisi se shikaayat nahin।

mere rojamarre ki jindgi ke

laayak hun main।


jitnaa milaa!

bahut diyaa es jindgi ne

apne bhaagy par bahut etraataa hun main।

karm aise hon

jisse sabhi kaa bhalaa ho

aisi soch rakhakar dil men

kadam bdhaataa hun main।





Written by sushil kumar


2 Jan 2020

Duniya ko badalne mai chala tha.दुनिया को बदलने चला था

Shayari




दुनिया को बदलने चला था

लोगों ने मुझे बदल दिया।
अँधेरा छाँटते छाँटते मंजर से
मैं खुद तमस में घुल गया।

ऐसा कैसे हुआ?
क्यों हुआ?
मुझे जरा भी अंदाजा ना हुआ।

शायद मैं लड़ते लड़ते
अंधेरे से थक गया।
या फिर
किसी को न्याय दिलाने के खातिर
मैं अपनी आहुति दे गया।
या फिर किसी अपने ने
पीठ में छुरा भोंक दिया।
जिसके लिए मैने
जिंदगी भर था लड़ा।



duniyaa ko badalne chalaa thaa

logon ne mujhe badal diyaa।

andheraa chhaantte chhaantte manjar se

main khud tamas men ghul gayaa।


aisaa kaise huaa?

kyon huaa?

mujhe jaraa bhi andaajaa naa huaa।


shaayad main ldte ldte

andhere se thak gayaa।

yaa phir

kisi ko nyaay dilaane ke khaatir

main apni aahuti de gayaa।

yaa phir kisi apne ne

pith men chhuraa bhonk diyaa।

jiske lia maine

jindgi bhar thaa ldaa।





Written by sushil kumar

1 Jan 2020

Happy new year 2020!नव वर्ष २०२० की शुभकामनाएं।

Shayari


मेहनत इतनी करो

की आदत बन जाए।
हार से फर्क कुछ ना पड़े
पर जीत सुनिश्चित हो जाए।

जो मंजिल आसानी से मिल जाए
फिर क्या मजा दिल को आए?
जब तक कि चोट लगे नहीं जबरदस्त
गिरे धड़ाम से नहीं जमीन पर!
पर कदम नहीं थमने को तैयार हो
आसमान को छूने को बेकरार हो।
ऐसे गन्तव्य को पाने का
आनन्द की कुछ और है।

सो डटे रहो हमारे संग
अपने जीवन के
बुलन्दियों को स्पर्श करने को।

सभी को २0२0 की ढेर सारी शुभकामनाएं।

जय हिंद!
जय भारत!


mehanat etni karo

ki aadat ban jaaa।

haar se phark kuchh naa pde

par jit sunishchit ho jaaa।


jo manjil aasaani se mil jaaa

phir kyaa majaa dil ko aaa?

jab tak ki chot lage nahin jabaradast

gire dhdaam se nahin jamin par!

par kadam nahin thamne ko taiyaar ho

aasmaan ko chhune ko bekraar ho।

aise gantavy ko paane kaa

aanand ki kuchh aur hai।


so date raho hamaare sang

apne jivan ke

bulandiyon ko sparsh karne ko।


sabhi ko 2020 ki dher saari shubhkaamnaaan।


jay hind!

jay bhaarat!


Shayari
Written by sushil kumar

30 Dec 2019

ऐसा कोई दिन नहीं।aisa koi din nahin.

Shayari


ऐसा कोई दिन नहीं

जब तुम्हें मैने याद ना किया हो।
ऐसा कोई पल नहीं
जब तुम मेरे ख्याल में ना आए हो।
तुमसे झगड़ता हूँ
तुमसे लड़ता हूँ
पर प्यार भी उतना ही करता हूँ।

दो पल के लिए
जो तुम नज़रों से ओझल क्या होते हो?
दिल बेचैन सा हो जाता है
मन में हड़कंप सी मच जाती है।
और तुम्हारी खैरियत के लिए रब से दुआ में
शीश झुकने लगते हैं।

तुम्हारे आते ही
सारे ख्याल एक क्षण में
कहीं खो से जाते हैं।
बाँसुरी के मंत्रमुग्ध धुन
पीछे से बज पड़ते हैं।
एक जादू भरे पल का
फिर से आगाज़ हो जाता है।
मैं और तुम एक दूसरे में
फिर से जी उठते हैं।



aisaa koi din nahin

jab tumhen maine yaad naa kiyaa ho।

aisaa koi pal nahin

jab tum mere khyaal men naa aaa ho।

tumse jhagdtaa hun

tumse ldtaa hun

par pyaar bhi utnaa hi kartaa hun।


do pal ke lia

jo tum njron se ojhal kyaa hote ho?

dil bechain sa ho jaataa hai

man men hdakamp si mach jaati hai।

aur tumhaari khairiyat ke lia rab se duaa men

shish jhukne lagte hain।


tumhaare aate hi

saare khyaal ek kshan men

kahin kho jaate hain।

baansuri ke mantramugdh dhun

pichhe se baj pdte hain।

ek jaadu bhare pal kaa

phir se aagaaj ho jaataa hai।

main aur tum ek dusre men

phir se ji uthte hain।


Written by sushil kumar

26 Dec 2019

मुझे कोई बदल नहीं सकता mujhe koi badal nahin sakta.

मुझे कोई बदल नहीं सकता।


kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


मेरे अश्क़ पोंछने को
कोई दिखा नहीं।
मेरे दर्द बाँटने को
कोई बचा नहीं।
पर हाँ कुछ मौकापरस्त लोग
आ पहुँचे हैं मेरे करीब।
जो मेरे बर्बादी के चीते पर भी
अपनी रोटियां सेंकने से
बाज नहीं आ रहे।

मैं जैसा कल को था
वैसा ही आज भी रह गया।
रईसी चली गई
पर दानवीरता नहीं छूटी।
बनावटी दुनिया में
मैं ठगाता चला गया।
लोगों ने मेरे मलबे से
अपने महल तक बना लिए।


mere ashk ponchhne ko

koi dikhaa nahin।

mere dard baantne ko

koi bachaa nahin।

par haan kuchh maukaaparast log

aa pahunche hain mere karib।

jo mere barbaadi ke chite par bhi

apni rotiyaan senkne se

baaj nahin aa rahe।


main jaisaa kal ko thaa

vaisaa hi aaj bhi rah gayaa।

risi chali gayi

par daanvirtaa nahin chhuti।

banaavti duniyaa men

main thagaataa chalaa gayaa।

logon ne mere malbe se

apne mahal tak banaa lia।





Written by sushil kumar




18 Dec 2019

खामख्वाह ही तू मुझसे उलझे जा रहा था:- khaamakhvaah hi tu mujhse uljhe jaa rahaa thaa

Shayari




खामख्वाह ही तू मुझसे उलझे जा रहा था।


मैं तो चला जा रहा था अपनी धुन में
अपने मंजिल की ओर।
तू ही रोड़ा बन
मेरे राह में अड़चन बने जा रहा था।

खामख्वाह ही तू मुझसे उलझे जा रहा था।

तेरी जिक्र भी कहाँ कर रहा था
किसी भी बातों में कहीं भी।
तू खुद ही मेरे हर बात से
खुदको जोड़े जा रहा था।

खामख्वाह ही तू मुझसे उलझे जा रहा था।

मदमस्त था अपनी ज़िंदगी में
गुनगुनाता जा रहा था मीठे गीत।
पर क्यों तुझे
मेरे हर सुरीले गीत में भी
अपशब्द नज़र आ रहा था।

खामख्वाह ही तू मुझसे उलझे जा रहा था।

मैं नहीं चाहता था
कभी किसी से फालतू का भिड़ना।
पर अगर कोई मच्छर बार बार
तेरे कान में भिनभिनाए जा रहा हो।
और तेरे धैर्य की परीक्षा
वो बार बार लिए जा रहा हो।
तो जाहिर है
एक ताली में उसे
नरक के द्वार पहुँचाना आता है मुझे।

खामख्वाह ही तू मुझसे उलझे जा रहा था।




khaamakhvaah hi tu mujhse uljhe jaa rahaa thaa।


main to chalaa jaa rahaa thaa apni dhun men

apne manjil ki or।

tu hi rodaa ban

mere raah men adchan bane jaa rahaa thaa।


khaamakhvaah hi tu mujhse uljhe jaa rahaa thaa।


teri jikr bhi kahaan kar rahaa thaa

kisi bhi baaton men kahin bhi।

tu khud hi mere har baat se

khudko jode jaa rahaa thaa।


khaamakhvaah hi tu mujhse uljhe jaa rahaa thaa।


madamast thaa apni jindgi men

gunagunaataa jaa raha thaa mithe git।

par kyon tujhe

mere har surile git men bhi

apashabd njar aa rahaa thaa।


khaamakhvaah hi tu mujhse uljhe jaa rahaa thaa।


main nahin chaahtaa thaa

kabhi kisi se phaaltu kaa bhidnaa।

par agar koi machchhar baar baar

tere kaan men bhinabhinaaa jaa rahaa ho।

aur tere dhairy ki parikshaa

vo baar baar lia jaa rahaa ho।

to jaahir hai

ek taali men use

narak ke dvaar pahunchaanaa aataa hai mujhe।



khaamakhvaah hi tu mujhse uljhe jaa


rahaa thaa।


Written by sushil kumar





14 Dec 2019

मन बावरे संभल जा।man bavre sambhal ja.

Shayari


मन  बावरे संभल जा।

                   क्यों भटक रहा है इधर उधर।
ईश्वर की भक्ति को छोड़,
                    क्यों फँस रहा है नए नए बन्धनों में।
ये दुनिया है बड़ी ही शातिर
                  पहले तो मीठे मीठे बोल बोलकर रिझाएगी तुझे।
जब फंस गया जो उसके चाल में
                         तो बीच मंझधार में छोड़कर
                            चुप चाप निकल जाएगी फुर्ररर से।


man  baavre sambhal jaa।

                   kyon bhatak rahaa hai edhar udhar।

ishvar ki bhakti ko chhod,

                    kyon phnas rahaa hai naye naye bandhnon men।

ye duniyaa hai bdi hi shaatir

                  pahle to mithe mithe bol bolakar rijhaaagi tujhe।

jab phans gayaa jo uske chaal men

                         to bich manjhdhaar men chhodkar

                            chup chaap nikal jaaagi phurrarar se।





Written by sushil kumar

मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ।main jitni daphaa tumse bichhudtaa hun

Shayari मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ उतनी ही दफा मैं घुट घुट कर मरता हूँ। तुम कहते हो कि मैं गायब होता जा रहा हूँ। पहले ७० कि...