20 Nov 2019

Jeet kinare par baithkar nahi milti hai

Shayari

जीत किनारे पर बैठकर नहीं मिलती है।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Win
Win

हताश क्यों हो रहे हो?
सफर अभी बाकी है।
हार से परेशान क्यों हो रहे हो?
मंजिल अभी बाकी है।

माना आज तुमने
कोशिश तो भरपूर की थी।
पर ठोकर कुछ अभी बाकी है।
चोटें भी अभी कुछ ही मिली हैं
आगे पुराने जख्म तक
हरे हो जाएँगे।
पर अपना बहता लहू देख
आज जो तुम डर जाओगे।
इतिहास क्या खाक बनाओगे?
जो तुम आज खुद से ना लड़ पाओगे।

सो उठाओ कदम!
बुलन्द कर अपने हौसले को।
करो चढ़ाई अपने अंदर के डर पे
और करलो फतह अपने किले को।
Win
Win☺







hataash kyon ho rahe ho?

saphar abhi baaki hai।

haar se pareshaan kyon ho rahe ho?

manjil abhi baaki hai।


maanaa aaj tumne

koshish to bharpur ki thi।

par thokar kuchh abhi baaki hai।

choten bhi abhi kuchh hi mili hain

aage puraane jakhm tak

hare ho jaaange।

par apnaa bahtaa lahu dekh

aaj jo tum dar jaaoge।

etihaas kyaa khaak banaaoge?

jo tum aaj khud se naa ld paaoge।


so uthaao kadam!

buland kar apne hausle ko।

karo chdhaai apne andar ke dar pe

aur karlo phatah apne kile ko।


Written by sushil kumar
Shayari

19 Nov 2019

Kaun apna,kaun paraya

Shayari

कौन अपना कौन पराया

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

कल तक जिस पर मुझे
खुद से भी ज्यादा भरोसा था।
जो अपना सबसे बड़ा
शुभचिंतक हुआ करता था।
आज वो मीर जाफर
विरोधी गुट में जाकर मिल गया है।
और आत्मघाती हमले की
योजना बना रहा है।

कौन अपना
कौन पराया
ये समझ पाना मुश्किल हो रहा है।
हर कोई यहाँ अपनेपन की
मुखौटा पहने घूम रहै हैं।
जिसे अपना समझकर
हम अपने गले लगा रहे थे
वो भी सिंहनख अपने हाथों में
कब से छुपा रखे थे।





kal tak jis par mujhe

khud se bhi jyaadaa bharosaa thaa।

jo apnaa sabse bdaa

shubhachintak huaa kartaa thaa।

aaj vo mir jaaphar

virodhi gut men jaakar mil gayaa hai।

aur aatmghaati hamle ki

yojnaa banaa rahaa hai।


kaun apnaa

kaun paraayaa

ye samajh paanaa mushkil ho rahaa hai।

har koi yahaan apnepan ki

mukhautaa pahne ghum rahai hain।

jise apnaa samajhakar

ham apne gale lagaa rahe the

vo bhi sinhanakh apne haathon men

kab se chhupaa rakhe the।


Written by sushil kumar
Shayari






18 Nov 2019

Maa:-ek ishwariya aashirwad

Shayari

माँ:-एक ईश्वरीय आशीर्वाद।

kavitadilse.top द्वारा हर माँ को समर्पित है।

Maa
Maa





दुनिया के भागम भाग में
भले मैं कहीं से कहीं पहुँच जाऊँ।

आसमा के आँचल में
कहीं सितारा बन
सभी तारों के संग टिमटिमाऊँ।
Maa
Maa💗

या फिर किसी शायरों के महफ़िल में
तेरी बन्दगी में
दो नगमे सुना जाऊँ।

हार से निराश ना होकर
अपनी सफलता के लिए जी जान लगा डालूँ।
और अपनी जीत का सारा श्रेय
तेरे दिए हुए अनमोल संस्कार को दे जाऊँ।

शायद ही ऐसा कोई दिन
कोई पल होगा माँ
जब तुम मेरे साथ नहीं थी।

तुम्हारे दिए हुए संस्कार ही तो
आज बोल रहे हैं।

और रब से भी कुछ ज्यादा नहीं
बस तेरा साथ और आशीर्वाद ही तो
हर लम्हा माँगा है।

Maa
Maa😊






duniyaa ke bhaagam bhaag men

bhale main kahin se kahin pahunch jaaun।


aasmaa ke aanchal men

kahin sitaaraa ban

sabhi taaron ke sang timatimaaun।



Maa💗


yaa phir kisi shaayron ke mahfil men

teri bandgi men

do nagme sunaa jaaun।


haar se niraash naa hokar

apni saphaltaa ke lia ji jaan lagaa daalun।

aur apni jit kaa saaraa shrey

tere dia hua anmol sanskaar ko de jaaun।


shaayad hi aisaa koi din

koi pal hogaa maan

jab tum mere saath nahin thi।


tumhaare dia hua sanskaar hi to

aaj bol rahe hain।


aur rab se bhi kuchh jyaadaa nahin

bas teraa saath aur aashirvaad hi to

har lamhaa maangaa hai।



Written by sushil kumar
Shayari





17 Nov 2019

Badle hum,ek sakaratmak badlav ke lie

shayari

बदलें हम,एक सकारात्मक बदलाव के लिए।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


ये जीवन ऊपर वाले की देन है
इसे व्यर्थ में तू बर्बाद ना कर।

जो थोड़ा समय बचा हुआ है
तेरे खाते में।
उसे काम में ला
किसी ज़रूरतमंद के लिए।

बहुत कर ली मनमानी तूने।
खूब लुत्फ उठा लिए
जवानी के लहर को।
अब सम्भल जरा
थाम अपने कदम को।
देख तेरे साथ वाले छोड़ गए
कब के तेरे घर को।

अब उठ
खड़ा हो।
कदम बढ़ा ले आगे।
सवेरा नया तैयार है
तेरे स्वागत में।

एक नई सोच
एक नई क्रांति
लिए मन में।
चलें हम रोशन करने
दुनिया को खुशयों से।

परम सुख का एहसास करना है जो
लोगों की खुशयों के
आधार बने हम तुम।
संतृप्ति कहाँ मिलती थी
इस दुनिया में???
आज से पहले
कहाँ पता था हमें??






ye jivan upar vaale ki den hai

ese vyarth men tu barbaad naa kar।


jo thodaa samay bachaa huaa hai

tere khaate men।

use kaam men laa

kisi jruratamand ke lia।


bahut kar li manmaani tune।

khub lutph uthaa lia

javaani ke lahar ko।

ab sambhal jaraa

thaam apne kadam ko।

dekh tere saath vaale chhod gaye

kab ke tere ghar ko।


ab uth

khdaa ho।

kadam bdhaa le aage।

saveraa nayaa taiyaar hai

tere svaagat men।


ek nayi soch

ek nayi kraanti

lia man men।

chalen ham roshan karne

duniyaa ko khushyon se।


param sukh kaa ehsaas karnaa hai jo

logon ki khushyon ke

aadhaar bane ham tum।

santriapti kahaan milti thi

es duniyaa men???

aaj se pahle

kahaan pataa thaa hamen??




written by sushil kumar

shayari



15 Nov 2019

Aaraam se chal abhi bahut dur jana hai.

Shayari

आराम से चल अभी बहुत दूर जाना है।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

आराम से चल
अभी बहुत दूर जाना है।
जीवन के रथ को
अभी बहुत दूर चलाना है।

पर मन कहाँ दिमाग की
सुनने वाला है।
लक्ष्य अभी दिखी नहीं है
कदम को तेजी से बढ़ाना है।

ज्यादा जल्दी ना मचा
थक जाएगा बहुत जल्दी तू।
सफर को बना सुहाना
ना स्वाहा कर
उसे जीतने की होड़ में।

हार जीत के दायरे से
खुद को तू ऊपर उठा।
हौसले को चट्टान सा
ऊँचा और अडिग रख।

गिर भले तू हज़ार बार
पर कदम को तू मजबूती से रख।
मंजिल मिले ना मिले
पर हर पग को
संगीतमय कर।






aaraam se chal

abhi bahut dur jaanaa hai।

jivan ke rath ko

abhi bahut dur chalaanaa hai।


par man kahaan dimaag ki

sunne vaalaa hai।

lakshy abhi dikhi nahin hai

kadam ko teji se bdhaanaa hai।


jyaadaa jaldi naa machaa

thak jaaagaa bahut jaldi tu।

saphar ko banaa suhaanaa

naa svaahaa kar

use jitne ki hod men।


haar jit ke daayre se

khud ko tu upar uthaa।

hausle ko chattaan saa

unchaa aur adig rakh।


gir bhale tu hjaar baar

par kadam ko tu majbuti se rakh।

manjil mile naa mile

par har pag ko

sangitamay kar।




Written by sushil kabira
Shayari





13 Nov 2019

Tere haq ka hai,to chhin lo.

Shayari

तेरे हक का है तो छीन लो।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

अपने हक के लिए
तुम्हें आवाज खुद उठाना होगा।
आएगा नहीं आगे कोई
तुम्हें न्याय दिलाने लिए।

वाचाल तो बहुत मिलेंगे
तुम्हे राह से भटकाने के लिए।
पर हक तो तुम्हारा है
पग आगे बढ़ा
उसे पाने के लिए।

तू जो ठान ले आज
तो क्या मजाल
कि हक तेरा
कोई छीन ले।

भीख मिलती है आज
खैरात में।
तेरे हक का है तो
छीन लो।
Snatch






apne hak ke lia

tumhen aavaaj khud uthaanaa hogaa।

aaagaa nahin aage koi

tumhen nyaay dilaane lia।


vaachaal to bahut milenge

tumhe raah se bhatkaane ke lia।

par hak to tumhaaraa hai

pag aage bdhaa

use paane ke lia।


tu jo thaan le aaj

to kyaa majaal

ki hak teraa

koi chhin le।


bhikh milti hai aaj

khairaat men।

tere hak kaa hai to

chhin lo।



Written by sushil kumar
Shayari

12 Nov 2019

Yaadon ki baraat.

Shayari

यादों की बारात।


kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


क्या करें ??
उन यादों के पन्नों को जो
हमने पलटा है ।
दिल फिर से भावभिवोर हो
उनकी स्मृति में भावुक हो चला है।

कुछ तो बात होती है
उन भूले बिसरे यादों में।
जिनके एहसास मात्र से ही
नैनों से अश्रु बह निकल पड़ते हैं।
क्योंकि कुछ लोग
और उनकी यादें
दिल से बहुत ही करीब होते हैं।
बहुत ही करीब।




kyaa karen ??

un yaadon ke pannon ko jo

hamne paltaa hai ।

dil phir se bhaavabhivor ho

unki smriati men bhaavuk ho chalaa hai।


kuchh to baat hoti hai

un bhule bisre yaadon men।

jinke ehsaas maatr se hi

nainon se ashru bah nikal pdte hain।

kyonki kuchh log

aur unki yaaden

dil se bahut hi karib hote hain।

bahut hi karib।



Written by sushil kumar
Shayari

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...