6 Aug 2019

३७० dhara se azadi.

Shayari

३७० धारा से आज़ादी।सम्पूर्ण भारत की पूर्ण आज़ादी।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

370


क्या बताएँ !
आज एक बार फिर से
देश की जय जयकार करने को
दिल कर रहा है।

क्या बताएँ !
आज एक बार फिर से
देश के लिए अभिमान करने को
दिल कर रहा है।

जय हिंद तो बस एक अभिव्यक्ति है
पर अनगिनत सलामी
और अनगिनत नमन
एक सैलाब बन
आज भारत माँ के चरण को अनगिनत बार स्पर्श करने
दिल मचल रहा है।

ऐसा लग रहा है
कि आज इस मिट्टी के गुलाल में रंग कर
एक हो जाऊँ।
उस मिट्टी में समा जाऊँ।

आज लाखों शहीदों की कुर्बानी की
जीत का दिन है।
उनकी फतह के जश्न का दिन है।
आज भारत माँ का
अपने सपूतो पर गर्व करने का दिन है।

भले देश आजाद हो गया था हमारा
उन्नीस सौ सैंतालीस में।
पर भारत माँ के शीश पर पर ३७० धारा लगा
एक घिनौनी राजनीति रचाई थी
कुछ गद्दारों ने।

कितने सपूतो की कुर्बानियों की वजह से
आज ये दिन हम देख पाए हैं।
हमारे वीर मोदी और शाह ने
ये करिश्माई कारनामा कर दिखाए हैं।
यही अच्छे दिन देखने को इन्हें हम
सत्ता में लेकर आए हैं।

बहुत जगह कुछ गद्दारो ने
अपने फन भी उठाए हैं।
पर कोई बात नहीं
आज भोंक लो
जितना भोंकना है।
आने वाले दिनो में
तुम्हारी तेरहवी की तैयारी है।








kyaa bataaan !

aaj ek baar phir se

desh ki jay jaykaar karne ko

dil kar rahaa hai।


kyaa bataaan !

aaj ek baar phir se

desh ke lia abhimaan karne ko

dil kar rahaa hai।


jay hind to bas ek abhivyakti hai

par anaginat salaami

aur anaginat naman

ek sailaab ban

aaj bhaarat maan ke charan ko anaginat baar sparsh karne

dil machal rahaa hai।


aisaa lag rahaa hai

ki aaj es mitti ke gulaal men rang kar

ek ho jaaun।

us mitti men samaa jaaun।


aaj laakhon shahidon ki kurbaani ki

jit kaa din hai।

unki phatah ke jashn kaa din hai।

aaj bhaarat maan kaa

apne saputo par garv karne kaa din hai।


bhale desh aajaad ho gayaa thaa hamaaraa

unnis sau saintaalis men।

par bhaarat maan ke shish par par 370 dhaaraa lagaa

ek ghinauni raajniti rachaai thi

kuchh gaddaaron ne।


kitne saputo ki kurbaaniyon ki vajah se

aaj ye din ham dekh paaa hain।

hamaare vir modi aur shaah ne

ye karishmaai kaarnaamaa kar dikhaaa hain।

yahi achchhe din dekhne ko enhen ham

sattaa men lekar aaa hain।


bahut jagah kuchh gaddaaro ne

apne phan bhi uthaaa hain।

par koi baat nahin

aaj bhonk lo

jitnaa bhonknaa hai।

aane vaale dino men

tumhaari terahvi ki taiyaari hai।



Written by sushil kumar

Shayari

4 Aug 2019

Aap kya ho????

Shayari

आप क्या हो???

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


तुम मुझे मारते रहो
मुझे कुछ परवाह नहीं।
मुझे तबाह करते रहो
मेरे अस्तित्व को नेस्तनाबूद कर दो
पर मैं उफ़ तक नहीं करूँगा।
मैं सहता रहूँगा।
मैं देखना चाहूँगा तुम्हारी हद
कि किस हद तक तुम मुझे बर्बाद कर सकते हो।
जब तुम थक जाओगे
तब तुम खुद ही रुक जाओगे।
पर मैं तुमपर पलटवार कभी नहीं करने वाला।
क्योंकि मैं गांधी हूँ।😡

तुम्हारे हर हमले का जवाब दूँगा
मेरा अगर लहू का एक बूंद गिरा
मैं तुम्हें लहू लुहान कर दूँगा।
तुम्हें बर्बाद करके रख दूँगा।
कि अगली बार
कोई हमपर हमले करने की सोच से भी डर जाए।
क्योंकि मैं सुभाषचंद्र बोस हुँ।😳

मैं तो सुभाष हूँ।
मैं गांधी नहीं
जिसकी अहिंसा वाली सोच के चलते
हम इतने कायर ना हो जाएँ
कि हम अपने अस्तित्व को खंगालने को मजबूर हो जाएँ।
ईंट का जवाब पत्थर से देना हमें पसन्द है।
और हम चुप रहकर सहने वालो में से नहीं।
बल्कि अपनी गर्जना से संसार को हिलाने वालो में से हैं।
मैं सुभाष हूँ, मैं चन्द्रशेखर आज़ाद हूँ, मैं बिस्मिल हूँ।
पर गांधी कभी नहीं।

आप क्या हो???








tum mujhe maarte raho

mujhe kuchh parvaah nahin।

mujhe tabaah karte raho

mere astitv ko nestnaabud kar do

par main uf tak nahin karungaa।

main sahtaa rahungaa।

main dekhnaa chaahungaa tumhaari had

ki kis had tak tum mujhe barbaad kar sakte ho।

jab tum thak jaaoge

tab tum khud hi ruk jaaoge।

par main tumapar palatvaar kabhi nahin karne vaalaa।

kyonki main gaandhi hun।😡


tumhaare har hamle kaa javaab dungaa

meraa agar lahu kaa ek bund giraa

main tumhen lahu luhaan kar dungaa।

tumhen barbaad karke rakh dungaa।

ki agli baar

koi hamapar hamle karne ki soch se bhi dar jaaa।

kyonki main subhaashachandr bos hun।😳


main to subhaash hun।

main gaandhi nahin

jiski ahinsaa vaali soch ke chalte

ham etne kaayar naa ho jaaan

ki ham apne astitv ko khangaalne ko majbur ho jaaan।

int kaa javaab patthar se denaa hamen pasand hai।

aur ham chup rahakar sahne vaalo men se nahin।

balki apni garjnaa se sansaar ko hilaane vaalo men se hain।

main subhaash hun, main chandrshekhar aajaad hun, main bismil hun।

par gaandhi kabhi nahin।


aap kyaa ho???



Written by sushil kumar

Shayari

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे। Shayari मेरे भारत देश के मिट्टी की  बात बड़ी ही निराली है। यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में छिपी हुई एक...