4 Aug 2019

Aap kya ho????

Shayari

आप क्या हो???

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


तुम मुझे मारते रहो
मुझे कुछ परवाह नहीं।
मुझे तबाह करते रहो
मेरे अस्तित्व को नेस्तनाबूद कर दो
पर मैं उफ़ तक नहीं करूँगा।
मैं सहता रहूँगा।
मैं देखना चाहूँगा तुम्हारी हद
कि किस हद तक तुम मुझे बर्बाद कर सकते हो।
जब तुम थक जाओगे
तब तुम खुद ही रुक जाओगे।
पर मैं तुमपर पलटवार कभी नहीं करने वाला।
क्योंकि मैं गांधी हूँ।😡

तुम्हारे हर हमले का जवाब दूँगा
मेरा अगर लहू का एक बूंद गिरा
मैं तुम्हें लहू लुहान कर दूँगा।
तुम्हें बर्बाद करके रख दूँगा।
कि अगली बार
कोई हमपर हमले करने की सोच से भी डर जाए।
क्योंकि मैं सुभाषचंद्र बोस हुँ।😳

मैं तो सुभाष हूँ।
मैं गांधी नहीं
जिसकी अहिंसा वाली सोच के चलते
हम इतने कायर ना हो जाएँ
कि हम अपने अस्तित्व को खंगालने को मजबूर हो जाएँ।
ईंट का जवाब पत्थर से देना हमें पसन्द है।
और हम चुप रहकर सहने वालो में से नहीं।
बल्कि अपनी गर्जना से संसार को हिलाने वालो में से हैं।
मैं सुभाष हूँ, मैं चन्द्रशेखर आज़ाद हूँ, मैं बिस्मिल हूँ।
पर गांधी कभी नहीं।

आप क्या हो???








tum mujhe maarte raho

mujhe kuchh parvaah nahin।

mujhe tabaah karte raho

mere astitv ko nestnaabud kar do

par main uf tak nahin karungaa।

main sahtaa rahungaa।

main dekhnaa chaahungaa tumhaari had

ki kis had tak tum mujhe barbaad kar sakte ho।

jab tum thak jaaoge

tab tum khud hi ruk jaaoge।

par main tumapar palatvaar kabhi nahin karne vaalaa।

kyonki main gaandhi hun।😡


tumhaare har hamle kaa javaab dungaa

meraa agar lahu kaa ek bund giraa

main tumhen lahu luhaan kar dungaa।

tumhen barbaad karke rakh dungaa।

ki agli baar

koi hamapar hamle karne ki soch se bhi dar jaaa।

kyonki main subhaashachandr bos hun।😳


main to subhaash hun।

main gaandhi nahin

jiski ahinsaa vaali soch ke chalte

ham etne kaayar naa ho jaaan

ki ham apne astitv ko khangaalne ko majbur ho jaaan।

int kaa javaab patthar se denaa hamen pasand hai।

aur ham chup rahakar sahne vaalo men se nahin।

balki apni garjnaa se sansaar ko hilaane vaalo men se hain।

main subhaash hun, main chandrshekhar aajaad hun, main bismil hun।

par gaandhi kabhi nahin।


aap kyaa ho???



Written by sushil kumar

Shayari

1 Aug 2019

Rastrapita ya?????

Shayari

राष्ट्रपिता या ?????


kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



वो क्रांति की ज्वाला जगा गया था
पर कुछ देशद्रोहियों ने उसे बुझा डाला।
अपनी राजगद्दी बचाने के खातिर
फिर कुछ मीर जाफर ने खेल रचा डाला।

बना डाला उसे राष्ट्रपिता
जो मुसलमानों के खैरियत की सदा सोचता रहा।
बना डाला पाकिस्तान
और हमारे मातृभूमि के विभाजन का एक मात्र कारण बना।
गणेश विद्यार्थी को मारने वाले मुसलमानों को
कभी अहिंसा का पाठ पढ़ाया था नहीं उसने।
भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की शहादत को
रोकने के लिए हाथ कभी बढ़ाया नहीं था उसने।
स्वयं को निष्पक्ष, अहिंसावादी मानने वाला
क्या उसने कभी हिंदुओ के दर्द को समझा था कभी।
लाखों हिंदुओं का कत्लेआम हुआ था पाकिस्तान में
माँ बहिनों की इज़्ज़त सरेआम नीलाम हुआ था कभी।
पर शिकन उसके चेहरे पर एक तनिक भी नहीं दिखी थी ।
क्योंकि शायद ये अहिंसा का खुलेआम प्रचार जो हुआ था।
अहिंसा का पाठ केवल हिंदुओ के लिए था
मुसलमान तो सदा अहिंसावादी ही रहे थे।
राष्ट्रपिता शब्द का अपमान हुआ था उसदिन
जिसदिन ये उपनाम उसके नाम के आगे लगा था।











vo kraanti ki jvaalaa jagaa gayaa thaa

par kuchh deshadrohiyon ne use bujhaa daalaa।

apni raajagaddi bachaane ke khaatir

phir kuchh mir jaaphar ne khel rachaa daalaa।


banaa daalaa use raashtrapitaa

jo musalmaanon ke khairiyat ki sadaa sochtaa rahaa।

banaa daalaa paakistaan

aur hamaare maatribhumi ke vibhaajan kaa ek maatr kaaran banaa।

ganesh vidyaarthi ko maarne vaale musalmaanon ko

kabhi ahinsaa kaa paath pdhaayaa thaa nahin usne।

bhagat sinh, sukhdev aur raajaguru ki shahaadat ko

rokne ke lia haath kabhi bdhaayaa nahin thaa usne।

svayan ko nishpaksh, ahinsaavaadi maanne vaalaa

kyaa usne kabhi hinduo ke dard ko samjhaa thaa kabhi।

laakhon hinduon kaa katleaam huaa thaa paakistaan men

maan bahinon ki ejjt sareaam nilaam huaa thaa kabhi।

par shikan uske chehre par ek tanik bhi nahin dikhi thi ।

kyonki shaayad ye ahinsaa kaa khuleaam prchaar jo huaa thaa।

ahinsaa kaa paath keval hinduo ke lia thaa

musalmaan to sadaa ahinsaavaadi hi rahe the।

raashtrapitaa shabd kaa apmaan huaa thaa usadin

jisadin ye upnaam uske naam ke aage lagaa thaa।



Written by sushil kumar

Shayari

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...