1 Sep 2018

Sakaratmakta apnao aur failao

Shayari

Sakaratmakta apnao aur failao


जीवन की धार जो
यूँही बहती जा रही है।।
समय का पहिया भी
नहीं थमता नज़र आ रहा है।।
कल भी मैं प्यासा था
आज भी मैं प्यासा ही हूँ।।
कल भी मैं भूखा था
आज भी मैं भूखा ही हूँ।।
उम्र बदल गई है
पर दिल से
अभी भी बच्चा हूँ।।
बहुत लोग संग आए
कुछ दूर साथ निभाए।।
फिर धीरे धीरे
हमारा साथ
सभी छोड़
कहीं गुम गएँ।।
उनमें से कुछ लोग
हमारे जहन में समाए।।
जिनकी अच्छाई और सादगी ने
हमारे दिल में घर बसाए।।
आज भी उनकी याद आते ही
रक्त का संचार तेज़ हो जाए।।
उनकी सकरात्मक ऊर्जा से
हमारी आयु में वृद्धि हो जाए।।
छोटी सी आयु है
छोटा सा जीवन है
क्यों ना सकारात्मकता अपनाकर
स्वयं को दीर्घायु बनाए।।
सभी के लिए अच्छा सोचे
सभी को साथ लेकर चलें।।
छोटी सी दुनिया है
क्यों ना खुशियों के रंग से
सभी के जीवन को रंग दे।।






jivan ki dhaar jo

yunhi bahti jaa rahi hai।।

samay kaa pahiyaa bhi

nahin thamtaa njar aa rahaa hai।।

kal bhi main pyaasaa thaa

aaj bhi main pyaasaa hi hun।।

kal bhi main bhukhaa thaa

aaj bhi main bhukhaa hi hun।।

umr badal gayi hai

par dil se

abhi bhi bachchaa hun।।

bahut log sang aaa

kuchh dur saath nibhaaa।।

phir dhire dhire

hamaaraa saath

sabhi chhod

kahin gum gan।।

unmen se kuchh log

hamaare jahan men samaaa।।

jinki achchhaai aur saadgi ne

hamaare dil men ghar basaaa।।

aaj bhi unki yaad aate hi

rakt kaa sanchaar tej ho jaaa।।

unki sakraatmak urjaa se

hamaari aayu men vriaddhi ho jaaa।।

chhoti si aayu hai

chhotaa saa jivan hai

kyon naa sakaaraatmaktaa apnaakar

svayan ko dirghaayu banaaa।।

sabhi ke lia achchhaa soche

sabhi ko saath lekar chalen।।

chhoti si duniyaa hai

kyon naa khushiyon ke rang se

sabhi ke jivan ko rang de।।


Written by sushil kumar

30 Aug 2018

Yuva bharat sambhal jao

Shayari


युवा भारत संभल जाओ।

मातृभूमि के खातिर तो बदल जाओ।।
देश को तुम्हारी जरूरत है।
जरा आँखें खोल के देखो पास।।

दीमक बनकर खा रहे हैं।
देश के भ्रष्ट नेता और
कुछ गद्दार।।
केंद्र में खड़े होकर
देखो
कैसे उपद्रव मचा रहे हैं।।

अफ़ज़ल हम शर्मिंदा हैं
तेरे कातिल जिंदा हैं
के नारे
लगा लगा कर
कैसे असहिष्णुता फैला रहे हैं।।

भारत की पवित्र धरती पर
द्वेष का बीज बोए जा रहे हैं।।
अंग्रेजों के बनाए फॉर्मूले को
अब अपने नेता ही
हमपर अपना रहे हैं।।

अगर आज नहीं हम उठ खड़े होंगे।
तो कहीं शायद
कल हो जाएँ ना अपंग।।
फिर से लाखों कुर्बानियाँ देनी पड़ेगी।
कराना होगा अगर देश को स्वतंत्र।।

हिन्दू मुस्लिम सिख इसाई नहीं।
भारतीय हैं हम पहले आज।।
ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य शुद्रा नहीं
ना शिया,ना सुन्नी हैं हम।
हमें धर्म जाति में अब बाँटो नहीं।
हम बंध मुठ्ठी हैं अब।।
हम भारत में जन्में हैं।
हमें भारतिय कहलाने पर
होता है गर्व।।

जय हिंद।।
जय भारत।।
वन्दे मातरम।।






yuvaa bhaarat sambhal jaao।

maatribhumi ke khaatir to badal jaao।।

desh ko tumhaari jarurat hai।

jaraa aankhen khol ke dekho paas।।


dimak banakar khaa rahe hain।

desh ke bhrasht netaa aur

kuchh gaddaar।।

kendr men khde hokar

dekho

kaise upadrav machaa rahe hain।।


afjl ham sharmindaa hain

tere kaatil jindaa hain

ke naare

lagaa lagaa kar

kaise asahishnutaa phailaa rahe hain।।


bhaarat ki pavitr dharti par

dvesh kaa bij boa jaa rahe hain।।

angrejon ke banaaa pharmule ko

ab apne netaa hi

hamapar apnaa rahe hain।।


agar aaj nahin ham uth khde honge।

to kahin shaayad

kal ho jaaan naa apang।।

phir se laakhon kurbaaniyaan deni pdegi।

karaanaa hogaa agar desh ko svatantr।।


hindu muslim sikh esaai nahin।

bhaartiy hain ham pahle aaj।।

braahman kshatriy vaishy shudraa nahin

naa shiyaa,naa sunni hain ham।

hamen dharm jaati men ab baanto nahin।

ham bandh muththi hain ab।।

ham bhaarat men janmen hain।

hamen bhaaratiy kahlaane par

hotaa hai garv।।


jay hind।।

jay bhaarat।।

vande maataram।

Written by sushil kumar

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...