Showing posts with label whatsapp. Show all posts
Showing posts with label whatsapp. Show all posts

12 Oct 2019

facebook par hui hamari dosti Whatsapp par kiya hamne chat.

Shayari

facebook पर हुई हमारी दोस्ती

Whatsapp पर किया हमने चैट।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



facebook पर हुई हमारी दोस्ती
Whatsapp पर किया हमने चैट।
लगे रहे हम दिन रात
बिना किसी रोक टोक के
हम थे साथ साथ।

Facebook और whatsapp से
हम पक रहे थे।
करना चाहते थे
एक दूसरे से
हम मुलाकात।

फिर क्या?
मैने सुझाया एक सुझाव
क्यों ना हम करे
Whatsapp और facebook पर
वीडियो चैट।

फिर क्या?
शुरू हुआ
हम दोनों के बीच वीडियो चैट का
दौर शुरू।
घण्टों तक हम बैठे रहते थे
Facebook और whatsapp के
वीडियो चैट पर।

ना खाने की फिक्र
ना सोने की फिक्र।
भूख और प्यास जाने
कहीं खो गया था।
बस whatsapp-Facebook
Facebook-Whatsapp।
बस यहीं पर
हमारी दुनिया सिमटकर रह गई थी।

जो कभी फोन डिस्चार्ज हो जाए
और facebook और whatsapp से
कनेक्शन जो कट जाए।
फिर क्या?
फिर तो दिल और दिमाग
और भी बेचैन हो उठता था।
फोन को चार्जिंग पर लगा
फिर से whatsapp और facebook पर
वीडियो चैट शुरू हो जाता था।
तब जाकर हमदोनो को शुकुन मिलता था।
हमारी दुनिया
हम दो और हमारे दो।
यानी हम दोनों और
Facebook और whatsapp पर
ही सिमट कर रह गई थी।








facebook par hui hamaari dosti

Whatsapp par kiyaa hamne chait।

lage rahe ham din raat

binaa kisi rok tok ke

ham the saath saath।


Facebook aur whatsapp se

ham pak rahe the।

karnaa chaahte the

ek dusre se

ham mulaakaat।


phir kyaa?

maine sujhaayaa ek sujhaav

kyon naa ham kare

Whatsapp aur facebook par

vidiyo chait।


phir kyaa?

shuru huaa

ham donon ke bich vidiyo chait kaa

daur shuru।

ghanton tak ham baithe rahte the

Facebook aur whatsapp ke

vidiyo chait par।


naa khaane ki phikr

naa sone ki phikr।

bhukh aur pyaas jaane

kahin kho gayaa thaa।

bas whatsapp-Facebook

Facebook-Whatsapp।

bas yahin par

hamaari duniyaa simatakar rah gayi thi।


jo kabhi phon dischaarj ho jaaa

aur facebook aur whatsapp se

kanekshan jo kat jaaa।

phir kyaa?

phir to dil aur dimaag

aur bhi bechain ho uthtaa thaa।

phon ko chaarjing par lagaa

phir se whatsapp aur facebook par

vidiyo chait shuru ho jaataa thaa।

tab jaakar hamdono ko shukun miltaa thaa।

hamaari duniyaa

ham do aur hamaare do।

yaani ham donon aur

Facebook aur whatsapp par

hi simat kar rah gayi thi।



Written by Sushil kumar

Shayari

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे। Shayari मेरे भारत देश के मिट्टी की  बात बड़ी ही निराली है। यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में छिपी हुई एक...