Showing posts with label maa shayari. Show all posts
Showing posts with label maa shayari. Show all posts

15 Feb 2020

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ
बैठता हूँ
बोलता हूँ
सुनता हूँ
सोता हूँ
जागता हूँ
पर माँ
तुझे कभी नहीं भूलता हूँ।

कुछ यादें
आती जाती रहती हैं।
कुछ बातें
दिल में रहकर भी
लब्ज पर नहीं आती हैं।
पर माँ तुम
और तुम्हारी संस्कार
सदा मेरा साथ निभाती है।

लाख मुश्किलों में घिरा हूँ।
आगे पहाड़
पीछे खाई हो।
पर कहाँ कोई चट्टान
तेरे संस्कार के जिद्द से टकरा पाया है।
पल भर में
वह भरभराकर
जमीन में समाया है।

अजीबोगरीब संसार की
यहाँ भी माया है।
जहाँ तहाँ ईश्वर के स्वरूप को जगा डाला है।
मन्नतें माँगने को लोगों ने
धरा की परिक्रमा तक
लोगों ने कर डाला है।
पर तब भी किसी ने दिल में
सुकून नहीं पाया है।

मेरे लिए
मेरी माँ ही
उस ईश्वर की छाया है।
उसके रूप में
उस ईश्वर का स्वरूप नज़र आया है।
उसकी खुशी में
मेरे खुशी ने
अपना घर बसाया है।
सारा जीवन
उसकी सेवा में
मैने समय अपना लगाया है।
संसार का मानना है कि
मरने के बाद मोक्ष मिलता है।
पर जीते जी मैने यहाँ
निर्वाणा को पाया है।






main chaltaa hun

baithtaa hun

boltaa hun

suntaa hun

sotaa hun

jaagtaa hun

par maan

tujhe kabhi nahin bhultaa hun।


kuchh yaaden

aati jaati rahti hain।

kuchh baaten

dil men rahakar bhi

labj par nahin aati hain।

par maan tum

aur tumhaari sanskaar

sadaa meraa saath nibhaati hai।


laakh mushkilon men ghiraa hun।

aage pahaad

pichhe khaai ho।

par kahaan koi chattaan

tere sanskaar ke jidd se takraa paayaa hai।

pal bhar men

vah bharabhraakar

jamin men samaayaa hai।


ajibogrib sansaar ki

yahaan bhi maayaa hai।

jahaan tahaan ishvar ke svrup ko jagaa daalaa hai।

mannten maangne ko logon ne

dharaa ki parikrmaa tak

logon ne kar daalaa hai।

par tab bhi kisi ne dil men

sukun nahin paayaa hai।


mere lia

meri maan hi

us ishvar ki chhaayaa hai।

uske rup men

us ishvar kaa svrup njar aayaa hai।

uski khushi men

mere khushi ne

apnaa ghar basaayaa hai।

saaraa jivan

uski sevaa men

maine samay apnaa lagaayaa hai।

sansaar kaa maannaa hai ki

marne ke baad moksh miltaa hai।

par jite ji maine yahaan

nirvaanaa ko paayaa hai।







Written by sushil kumar

18 Nov 2019

Maa:-ek ishwariya aashirwad

Shayari

माँ:-एक ईश्वरीय आशीर्वाद।

kavitadilse.top द्वारा हर माँ को समर्पित है।

Maa
Maa





दुनिया के भागम भाग में
भले मैं कहीं से कहीं पहुँच जाऊँ।

आसमा के आँचल में
कहीं सितारा बन
सभी तारों के संग टिमटिमाऊँ।
Maa
Maa💗

या फिर किसी शायरों के महफ़िल में
तेरी बन्दगी में
दो नगमे सुना जाऊँ।

हार से निराश ना होकर
अपनी सफलता के लिए जी जान लगा डालूँ।
और अपनी जीत का सारा श्रेय
तेरे दिए हुए अनमोल संस्कार को दे जाऊँ।

शायद ही ऐसा कोई दिन
कोई पल होगा माँ
जब तुम मेरे साथ नहीं थी।

तुम्हारे दिए हुए संस्कार ही तो
आज बोल रहे हैं।

और रब से भी कुछ ज्यादा नहीं
बस तेरा साथ और आशीर्वाद ही तो
हर लम्हा माँगा है।

Maa
Maa😊






duniyaa ke bhaagam bhaag men

bhale main kahin se kahin pahunch jaaun।


aasmaa ke aanchal men

kahin sitaaraa ban

sabhi taaron ke sang timatimaaun।



Maa💗


yaa phir kisi shaayron ke mahfil men

teri bandgi men

do nagme sunaa jaaun।


haar se niraash naa hokar

apni saphaltaa ke lia ji jaan lagaa daalun।

aur apni jit kaa saaraa shrey

tere dia hua anmol sanskaar ko de jaaun।


shaayad hi aisaa koi din

koi pal hogaa maan

jab tum mere saath nahin thi।


tumhaare dia hua sanskaar hi to

aaj bol rahe hain।


aur rab se bhi kuchh jyaadaa nahin

bas teraa saath aur aashirvaad hi to

har lamhaa maangaa hai।



Written by sushil kumar
Shayari





कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...