Showing posts with label love shayari. Show all posts
Showing posts with label love shayari. Show all posts

21 Nov 2019

Jara sambhal ke rahna mujhse

Shayari

जरा संभल के रहना मुझसे।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


मुझे चुप देखकर
मेरे सहनशीलता को लोग
बुजदिली से नाप रहे हैं।

उनके मन में
मुझ पर हावी होने के
नए नए विचार कुलबुला रहे हैं।

वो चाह रहे हैं मुझपर
अपना हक जताने को।
अनचाहे काम भी
वो चाह रहे हैं हमसे करवाने को।

उनकी धृष्ठता देख देख
मैं मन ही मन
मुस्कुरा रहा हूँ।

क्यों चिंगारी ले
मेरे मन में दबे बारूद को
फिर से वो सुलगा रहे हैं।

जाने अनजाने कहीं भस्म ना हो जाए
मुझसे यूँही
वो खेलते खेलते।






mujhe chup dekhakar

mere sahanshiltaa ko log

bujadili se naap rahe hain।


unke man men

mujh par haavi hone ke

naye naye vichaar kulabulaa rahe hain।


vo chaah rahe hain mujhapar

apnaa hak jataane ko।

anchaahe kaam bhi

vo chaah rahe hain hamse karvaane ko।


unki dhriashthtaa dekh dekh

main man hi man

muskuraa rahaa hun।


kyon chingaari le

mere man men dabe baarud ko

phir se vo sulgaa rahe hain।


jaane anjaane kahin bhasm naa ho jaaa

mujhse yunhi

vo khelte khelte।


Written by sushil kumar

Shayari

12 Nov 2019

Jitni baar mai tere karib aaya

Shayari

जितनी बार मैं तेरे करीब आया

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


जितनी बार मैं तेरे करीब आया
उतनी बार दिल में
बड़ा सुकून पाया है।

सारे गम,सारे तनाव
पुराने सारे दर्द को भूल
दिल में
एक इत्मिनान सा आया है।

मेरी इर्दगिर्द की फैली सारी दुनिया
एक पल में मानो
तेरे इश्क में सिमट
तुझमे समाया है।




jitni baar main tere karib aayaa

utni baar dil men

bdaa sukun paayaa hai।


saare gam,saare tanaav

puraane saare dard ko bhul

dil men

ek etminaan saa aayaa hai।


meri erdagird ki phaili saari duniyaa

ek pal men maano

tere eshk men simat

tujhme samaayaa hai।




Written by sushil kumar
Shayari

10 Nov 2019

Ishq ka safar itna asaan nahin hota hai

Shayari

इश्क का सफर इतना आसान नही होता है।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


इश्क़ तो बहुत किया मैने
पर सफल कभी ना हो पाया
अपने जीवन में।

जिसे भी पसन्द किया
वो पीछे हटी।
क्योंकि कोई और था
पहले से
उनके जीवन में।


पर मैने कभी भी हिम्मत नहीं हारी थी
अपने हृदय से।
मना करने वालो की सूची बनाना शुरू की
अपने डायरी में।

उनचास तो हो चले थे
मना करने वालों की सूची में।
पर भरोसा नहीं छोड़ा था
आज भी अपने जिगर में।


कोई तो होगा
जिसे मैं पसन्द आऊँगा।
मेरे लिए भी किसी का
दिल ज़रूर धड़केगा।

पर कौन है?
कहाँ है?
और वो कब मुझे मिलेगी?
ईश्वर ने
कहाँ छुपा रखा है??
मेरी होने वाली जोड़ी को।

उसी सोच की दरिया में
डूबता हुआ जा रहा था।
मैसेज का ट्यून ने बजकर
मुझे दरिया से बाहर निकाला था।
व्हाट्सएप्प किसी ने किया था
अपना दिल💓 मुझे उपहार में भेजा था।
कोई फिरकी ले रहा है
मेरा दिमाग ने
सख्ती से चेताया था।

मैने रिप्लाई किए बगैर उसका
अपना कॉल ईश्वर से फिर जोड़ा था।
देख ना भगवान
अब तो कुछ दया कर
लोगो ने अब मजा लेना भी
शुरू कर दिया था।

तभी मोबाइल की फिर से घण्टी बजी
देखा कोई अननोन नंबर था।
उठाया जैसे ही
उसके हेलो की आवाज़ से
दिल मेरा जोर से धड़का था।
इतनी मधुर स्वर सुनकर
मेरे दिल में जबरदस्त तरंगे जागी थी।
क्या यही है?
मेरे मौला।
जिसे तूने
मेरे लिए
इस दुनिया में चुना था।

आगे जो बोला उसने
मेरा दिल चकनाचूर हो चला था।
अपने पोस्टपेड बिल का भुगतान करें जल्द
वरना अगले दो दिनों में
आपका नम्बर बंद कर दिया जाएगा।

क्या भगवन!
तुम भी फिरकी ले रहे हो मेरी।
अब तो किस्मत खोल
बहुत हो गई देरी।
मरूँगा कुँवारे ही क्या?
बनाना भूल गए हो क्या
मेरी जोड़ी।

तभी फिर से मैसेज ट्यून बजी
देखा फिर वही अननोन नम्बर से
आया है व्हाट्स एप्प मैसेज।
पूरा पढ़ा तो पाया मैने
ये पहली वाली प्रेमिका का था नम्बर।
उसने लिखा था कि
मै पसन्द हूँ उसे।
उसके जीवन मे
कभी नहीं था कोई।

मैं धन्य हुआ
ईश्वर की माया देख।
मेरा प्रेम
सफल जो हुआ था।




eshk to bahut kiyaa maine

par saphal kabhi naa ho paayaa

apne jivan men।


jise bhi pasand kiyaa

vo pichhe hati।

kyonki koi aur thaa

pahle se

unke jivan men।



par maine kabhi bhi himmat nahin haari thi

apne hriaday se।

manaa karne vaalo ki suchi banaanaa shuru ki

apne daayri men।


unchaas to ho chale the

manaa karne vaalon ki suchi men।

par bharosaa nahin chhodaa thaa

aaj bhi apne jigar men।



koi to hogaa

jise main pasand aaungaa।

mere lia bhi kisi kaa

dil jrur dhdkegaa।


par kaun hai?

kahaan hai?

aur vo kab mujhe milegi?

ishvar ne

kahaan chhupaa rakhaa hai??

meri hone vaali jodi ko।


usi soch ki dariyaa men

dubtaa huaa jaa rahaa thaa।

maisej kaa tyun ne bajakar

mujhe dariyaa se baahar nikaalaa thaa।

vhaatsapp kisi ne kiyaa thaa

apnaa dil💓 mujhe uphaar men bhejaa thaa।

koi phirki le rahaa hai

meraa dimaag ne

sakhti se chetaayaa thaa।


maine riplaai kia bagair uskaa

apnaa kal ishvar se phir jodaa thaa।

dekh naa bhagvaan

ab to kuchh dayaa kar

logo ne ab majaa lenaa bhi

shuru kar diyaa thaa।


tabhi mobaael ki phir se ghanti baji

dekhaa koi annon nambar thaa।

uthaayaa jaise hi

uske helo ki aavaaj se

dil meraa jor se dhdkaa thaa।

etni madhur svar sunakar

mere dil men jabaradast tarange jaagi thi।

kyaa yahi hai?

mere maulaa।

jise tune

mere lia

es duniyaa men chunaa thaa।


aage jo bolaa usne

meraa dil chaknaachur ho chalaa thaa।

apne postped bil kaa bhugtaan karen jald

varnaa agle do dinon men

aapkaa nambar band kar diyaa jaaagaa।


kyaa bhagavan!

tum bhi phirki le rahe ho meri।

ab to kismat khol

bahut ho gayi deri।

marungaa kunvaare hi kyaa?

banaanaa bhul gaye ho kyaa

meri jodi।


tabhi phir se maisej tyun baji

dekhaa phir vahi annon nambar se

aayaa hai vhaats epp maisej।

puraa pdhaa to paayaa maine

ye pahli vaali premikaa kaa thaa nambar।

usne likhaa thaa ki

mai pasand hun use।

uske jivan me

kabhi nahin thaa koi।


main dhany huaa

ishvar ki maayaa dekh।

meraa prem

saphal jo huaa thaa।


Written by sushil kumar
Shayari






8 Nov 2019

Azab prem ki gazab shayari.

Shayari

अजब प्रेम की गजब शायरी।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


जब तलक था जिंदा
तेरे चक्कर में ना जाने कहाँ कहाँ
भटकता रह गया।
आज मिट्टी में मिल जाने के बाद भी
एक खुशबू बन
तेरे जुल्फों में कैद होकर रह गया।

मुझे नहीं था पता
मेरी रूह कब की
तेरे रूह से जुड़ चुकी थी।
आज चोट तुझे लगती है
दर्द असहनीय मेरा हो जाता है यहाँ।

इसलिए कहता हूँ
जरा संभल कर चला कर
जीवन के पथ पर।
रस्ते में पड़े हुए हैं
छोटे बड़े कंकर।
वरना मेरे मरने की सिलसिलों में
नहीं आएगी कभी कमी।
जितनी बार चोट तुझे लगेगी
उतनी बार मौत आएगी मेरी।





jab talak thaa jindaa

tere chakkar men naa jaane kahaan kahaan

bhataktaa rah gayaa।

aaj mitti men mil jaane ke baad bhi

ek khushbu ban

tere julphon men kaid hokar rah gayaa।


mujhe nahin thaa pataa

meri ruh kab ki

tere ruh se jud chuki thi।

aaj chot tujhe lagti hai

dard asahniy meraa ho jaataa hai yahaan।


esalia kahtaa hun

jaraa sambhal kar chalaa kar

jivan ke path par।

raste men pde hua hain

chhote bde kankar।

varnaa mere marne ki silasilon men

nahin aaagi kabhi kami।

jitni baar chot tujhe lagegi

utni baar maut aaagi meri।


Written by sushil kumar
Shayari

3 Nov 2019

Mera mehboob mil gaya

Shayari

मेरा मेहबूब मिल गया।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


मुझे क्या पता था
तू मेरे जहन में
ना जाने कब से बसा था।
जब भी आंखों को बंद किया करता था
एक धुंधला सा चेहरा
हमें दिख जाया करता था।
मानो जैसे कोई
बहुत ही गहरा रिश्ता हो
उस चेहरे से
मानो जैसे कोई
जन्मों का नाता था।
आज जो तुझे देखा
वो धुंधली सी छवि
साफ होती चली गई।
मेरा हमसफ़र
मेरा महबूब जो मिल गया था
जिसे ढूंढ रहा था
ना जाने कब से
गली गली।






mujhe kyaa pataa thaa

tu mere jahan men

naa jaane kab se basaa thaa।

jab bhi aankhon ko band kiyaa kartaa thaa

ek dhundhlaa saa chehraa

hamen dikh jaayaa kartaa thaa।

maano jaise koi

bahut hi gahraa rishtaa ho

us chehre se

maano jaise koi

janmon kaa naataa thaa।

aaj jo tujhe dekhaa

vo dhundhli si chhavi

saaph hoti chali gayi।

meraa hamasfar

meraa mahbub jo mil gayaa thaa

jise dhundh rahaa thaa

naa jaane kab se

gali gali।




Written by sushil kumar
Shayari

2 Nov 2019

Sachcha aashiq

Shayari

सच्चा आशिक।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।





मैं नहीं बोलता हूँ कि
तू मेरी जानशीन ही बन जाओ।
मुझे तो अगर तुम एक दोस्त ही बनाकर
अगर अपने हृदय में
एक छोटी सी जगह दे दो
तो मैं ये सारा जीवन
खुशी खुशी गुजार लूँगा।

ये मुमकिन नहीं कि
हर चाहने वाले को
उसकी चाहत नसीब ही हो जाए।
परिस्थितियों के अनुसार
अपने चाहत के दायरे को तय करना ही
सच्चे आशिक की पहचान है।

मोहब्बत केवल पाने का नहीं
बल्कि कुर्बानी का भी नाम है।
अगर जो तुम अपने माशूका की खुशी पूरी करने को
पूरी जद्दोजहद से कोशिश की
तो उससे बड़ी प्रेम की मिसाल
दुनिया में नहीं मिल सकती है।






main nahin boltaa hun ki

tu meri jaanshin hi ban jaao।

mujhe to agar tum ek dost hi banaakar

agar apne hriaday men

ek chhoti si jagah de do

to main ye saaraa jivan

khushi khushi gujaar lungaa।


ye mumakin nahin ki

har chaahne vaale ko

uski chaahat nasib hi ho jaaa।

paristhitiyon ke anusaar

apne chaahat ke daayre ko tay karnaa hi

sachche aashik ki pahchaan hai।


mohabbat keval paane kaa nahin

balki kurbaani kaa bhi naam hai।

agar jo tum apne maashukaa ki khushi puri karne ko

puri jaddojahad se koshish ki

to usse bdi prem ki misaal

duniyaa men nahin mil sakti hai।


Written by sushil kumar
Shayari

Ishq ko sajda

Shayari

इश्क़ को सजदा।

Kavita dilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।




क्या सही है?
क्या गलत है?
हमें कुछ भी फर्क नहीं पड़ता।
हम तो चले थे कल
इश्क के अम्बर में घर बनाने।
एक छोटा सा प्यार का घोसला बना
अपने जिंदगानी को संवारने।

हमें क्या पता था?
इतने घनघोर अंधेरे
हमारे आस पास फैले हुए हैं।
राक्षस हमारे आशियाने को
तोड़ने को आतुर खड़े हैं।
पर हम नहीं मानते इन भटके हुओं को
अपना कोई दुश्मन।
ये अभागे बेचारे
अछूते रह गए हैं
मोहब्बत के साये से।

आज इनकी नफरत के आग को
हम अपनी मोहब्बत के बरसात से शांत कर देंगे।
हम इन्हें भी अपनी तरह
इश्क़ को सजदा करना सिखा देंगे।







kyaa sahi hai?

kyaa galat hai?

hamen kuchh bhi phark nahin pdtaa।

ham to chale the kal

eshk ke ambar men ghar banaane।

ek chhotaa saa pyaar kaa ghoslaa banaa

apne jindgaani ko sanvaarne।


hamen kyaa pataa thaa?

etne ghanghor andhere

hamaare aas paas phaile hua hain।

raakshas hamaare aashiyaane ko

todne ko aatur khde hain।

par ham nahin maante en bhatke huon ko

apnaa koi dushman।

ye abhaage bechaare

achhute rah gaye hain

mohabbat ke saaye se।


aaj enki napharat ke aag ko

ham apni mohabbat ke barsaat se shaant kar denge।

ham enhen bhi apni tarah

eshk ko sajdaa karnaa sikhaa denge।



Written by sushil kumar

Shayari

1 Nov 2019

Bepanaah mohabbat

Shayari।

बेपनाह मोहब्बत।

Kavita dilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


तुझसे बेपनाह मोहब्बत जो करता हूँ
तू रहे कहीं भी
तेरे मौजूदगी को सुनता हूँ।

मैं साँस ले रहा हूँ
आज जो यहाँ पर।
तेरा दिल जो धड़क रहा है
आज इस जहाँ में।

मेरे जीवन की पतंग
तेरे साँसों से जुड़ी है।
तू जो वहाँ हँसी है
मेरा हृदय खिल उठा है।

कभी भी तू नैनो से अपने
अश्रु ना बहाना।
मेरा दिल कहीं बैठ ना जाए
तेरे सिसकियों के आहट से।








tujhse bepnaah mohabbat jo kartaa hun

tu rahe kahin bhi

tere maujudgi ko suntaa hun।


main saans le rahaa hun

aaj jo yahaan par।

teraa dil jo dhdak rahaa hai

aaj es jahaan men।


mere jivan ki patang

tere saanson se judi hai।

tu jo vahaan hnsi hai

meraa hriaday khil uthaa hai।


kabhi bhi tu naino se apne

ashru naa bahaanaa।

meraa dil kahin baith naa jaaa

tere sisakiyon ke aahat se।



Written by sushil kumar
Shayari

25 Oct 2019

Bewafa:-mann se bhale nikal diya hai,tujhe kabse.

Shayari

बेवफा:-मन से भले निकाल दिया है

तुझे कब से।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


मन से भले निकाल दिया है
तुझे कब से।
पर दिल को अभी भी कुछ उम्मीद बाकी है।
एक छोटी सी खुफिया जगह छुपाकर दुनिया से
ना जाने से कब से बचाकर रखी है।

मुसाफिर बहुत आए
और चले गएँ।
कुछ तो किराए पर चाहे
लेने को मेरा आशियाना।
पर कहाँ मान रहा था
मेरा दिल ये दीवाना।

बेवफा से वफ़ा की जो
लौ जगाकर रखी है।
दिल तो बड़ा ही पागल है
कहाँ किसी की सुनता है।
अभी भी एक आस
दिल ने जगाकर रखी है।
मेरा बेवफा मेहबूब
भूले भटके
कहीं वापस
मेरे घोसले पर ना आ जाए।




man se bhale nikaal diyaa hai

tujhe kab se।

par dil ko abhi bhi kuchh ummid baaki hai।

ek chhoti si khuphiyaa jagah chhupaakar duniyaa se

naa jaane se kab se bachaakar rakhi hai।


musaaphir bahut aaa

aur chale gan।

kuchh to kiraaa par chaahe

lene ko meraa aashiyaanaa।

par kahaan maan rahaa thaa

meraa dil ye divaanaa।


bevphaa se vfaa ki jo

lau jagaakar rakhi hai।

dil to bdaa hi paagal hai

kahaan kisi ki suntaa hai।

abhi bhi ek aas

dil ne jagaakar rakhi hai।

meraa bevphaa mehbub

bhule bhatke

kahin vaapas

mere ghosle par naa aa jaaa।




Written by sushil kumar
Shayari

Ishq karne ka samay nahin hota hai.

Shayari

इश्क करने का समय नहीं होता है।

kavitadilse.top द्वारा आपस भी पाठकों को समर्पित है।



बचपन की दहलीज पार कर
जो जवानी में कदम थी रखी।
हर सुंदर स्त्री को देख
मेरे दिल में मची थी खलबली।

कभी कभी तो मेरे नैन भी
कुछ ज्यादा ही हो जाते थे अश्लील।
अपने से अधेड़ उम्र की औरत को देख
हृदय भी दे जाती थी दलील।

मोहब्बत उम्र देख कर कहाँ होती है?
मोहब्बत तो बस हो जाती है।

भले वो सभी को बदसूरत दिखती हो
पर अगर वो मेरे दिलोदिमाग पर छा जाए।
और मेरा इश्क सर चढ़कर बोले
तो फिर कौन सा गुनाह मैने किया।

पूरा माहौल ही उस वक़्त
इश्क नुमा सा प्रतीत होने लगता था।
वो नदी का सागर में विलय होने में भी
एक शायरी लफ्ज बनकर मुँह से निकल पड़ता है।

सच में वो समय लाजवाब होता है।












bachapan ki dahlij paar kar

jo javaani men kadam thi rakhi।

har sundar stri ko dekh

mere dil men machi thi khalabli।


kabhi kabhi to mere nain bhi

kuchh jyaadaa hi ho jaate the ashlil।

apne se adhed umr ki aurat ko dekh

hriaday bhi de jaati thi dalil।


mohabbat umr dekh kar kahaan hoti hai?

mohabbat to bas ho jaati hai।


bhale vo sabhi ko badsurat dikhti ho

par agar vo mere dilodimaag par chhaa jaaa।

aur meraa eshk sar chdhakar bole

to phir kaun saa gunaah maine kiyaa।


puraa maahaul hi us vkt

eshk numaa saa prtit hone lagtaa thaa।

vo nadi kaa saagar men vilay hone men bhi

ek shaayri laphj banakar munh se nikal pdtaa hai।


sach men vo samay laajvaab hotaa hai।



Written by sushil kumar

Shayari

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे। Shayari मेरे भारत देश के मिट्टी की  बात बड़ी ही निराली है। यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में छिपी हुई एक...