Showing posts with label deshbhakti. Show all posts
Showing posts with label deshbhakti. Show all posts

10 Aug 2019

Vatna mere vatna ve.

Shayari

वतना मेरे वतना वे

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


वतना मेरे वतना वे
तेरा इश्क़ मेरे सर चढ़ चढ़कर बोल रहा है।
एक जन्म क्या है
मेरे वतना
मैं लाखो जन्म तेरे उल्फ़त में कुर्बान कर दूँ।
ये कैसा पागलपन है?
ये कैसा दीवानापन है?
मुझे नहीं पता।
अपने लहू से तिलक करने को
तेरे तिरंगे में लिपट जाने को
तेरी मिट्टी में समा जाने को
तेरे हवाओं में घुल जाने को
पुनः तेरे मिट्टी रूपी गोद में जन्म लेकर
तेरे चरणों में पुनः बलिदान होने को
मैं आतुर हूँ माँ।
मैं आतुर हूँ।

जब एक माँ को छोड़
दूसरे माँ के पास गाँव जाता हूँ।
दिल तड़प उठता है
उस बिछड़न के सोच मात्र से।
मैं काँप उठता हूँ।
कि माँ तेरी रक्षा में
तेरा ये सपूत नहीं रहेगा
सरहद पर।
कहीं मेरा सपना व्यर्थ ना चला जाए।
कहीं मैं वो अवसर खो ना दूँ।
कहीं मेरे अरमान धूल में ना मिल जाए।
मैं तेरी रक्षा करते करते
अपने खून के कतरे कतरे से
तेरा स्नान कराना चाहता हूँ माँ।
दुश्मनो के दिलो में अपनी वीरता का
खौफ पैदा कर जाना चाहता हूँ माँ।
कि उनके कदम थर थर्रा जाए
जो उनके नापाक कदम
कभी हमारी धरती पर पड़े
जो माँ।
वन्दे मातरम।।
जय हिंद।।
जय भारत।।







vatnaa mere vatnaa ve

teraa eshk mere sar chdh chdhakar bol rahaa hai।

ek janm kyaa hai

mere vatnaa

main laakho janm tere ulft men kurbaan kar dun।

ye kaisaa paagalapan hai?

ye kaisaa divaanaapan hai?

mujhe nahin pataa।

apne lahu se tilak karne ko

tere tirange men lipat jaane ko

teri mitti men samaa jaane ko

tere havaaon men ghul jaane ko

punah tere mitti rupi god men janm lekar

tere charnon men punah balidaan hone ko

main aatur hun maan।

main aatur hun।


jab ek maan ko chhod

dusre maan ke paas gaanv jaataa hun।

dil tdap uthtaa hai

us bichhdan ke soch maatr se।

main kaanp uthtaa hun।

ki maan teri rakshaa men

teraa ye saput nahin rahegaa

sarahad par।

kahin meraa sapnaa vyarth naa chalaa jaaa।

kahin main vo avasar kho naa dun।

kahin mere armaan dhul men naa mil jaaa।

main teri rakshaa karte karte

apne khun ke katre katre se

teraa snaan karaanaa chaahtaa hun maan।

dushmno ke dilo men apni virtaa kaa

khauph paidaa kar jaanaa chaahtaa hun maan।

ki unke kadam thar tharraa jaaa

jo unke naapaak kadam

kabhi hamaari dharti par pde

jo maan।

vande maataram।।

jay hind।।

jay bhaarat।।


Written by sushil kumar

Shayari


27 May 2019

Aankhen band thi.

Shayari

आँखे बंद थी।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Army



आँखे बंद थी
पर चेहरे पर सुकून साफ झलक रहा था।
मेरा भाई जैसा दोस्त
लिपट तिरंगे में
बेखौफ अपने माँ के आँचल में
सो रहा था।
मानो जैसे मुझे वो
चिढ़ा रहा हो
खुद पर बहुत
इतरा रहा हो।
देख जीत ली भाई
बाज़ी फिर से मैंने ना
ऐसा कह कर मुझे
नीचा दिखा रहा हो।

याद है मुझे उसकी
पिछली मुलाकात।
जब घर पर आया था मिलने को
मेरा जिगरी यार।
बहुत ही खुश था वह
फ़ौज में भर्ती पाकर।
खूब सुनाई वीर सैनिकों की गथाएं
जो उसने सुन रखी थी
वहाँ पर।
कहते कहते सभी की कहानियां
आक्रोषित हो उठा था वह।
दुश्मनों से अपना लोहा मनवाने को
उसने जिद्द जो अपनी
ठान रखी थी।
Army

आखिरकार उस हठी ने
अपना हठ पूरा कर ही गया।
और कूद गया दुश्मनों के बीच में
दाँत खट्टा करने को उनके।
सुना है
उसने अपनो की जान बचाने को
अभिमन्यु बन कूद पड़ा था
बीच मैदान में।
गोलियों से जिस्म छलनी होती रही
पर कहाँ थमा था वह।
शेर सा दहाड़ता हुआ
सारे दुश्मनों पर
वह भारी पड़ रहा था
अकेला ही।
आखिरी साँस तक उसने
अपना हथियार नहीं गिराया था।
दुश्मनों को अकेला ही
वह खदेड़ कर भगाया था।
खूब लड़ा मर्दाना वह तो
भारत माँ का लल्ला था।
Army

आज हर हिंदुस्तानी
उस नादान परिंदे के जिद्द के आगे नतमस्तक है।
और सभी उसकी बहादुरी और कुर्बानी पर
दिल से सलाम कर रहे हैं।

जय हिंद।
जय भारत।








aankhe band thi

par chehre par sukun saaph jhalak rahaa thaa।

meraa bhaai jaisaa dost

lipat tirange men

bekhauph apne maan ke aanchal men

so rahaa thaa।

maano jaise mujhe vo

chidhaa rahaa ho

khud par bahut

etraa rahaa ho।

dekh jit li bhaai

baaji phir se mainne naa

aisaa kah kar mujhe

nichaa dikhaa rahaa ho।


yaad hai mujhe uski

pichhli mulaakaat।

jab ghar par aayaa thaa milne ko

meraa jigri yaar।

bahut hi khush thaa vah

fauj men bharti paakar।

khub sunaai vir sainikon ki gathaaan

jo usne sun rakhi thi

vahaan par।

kahte kahte sabhi ki kahaaniyaan

aakroshit ho uthaa thaa vah।

dushmnon se apnaa lohaa manvaane ko

usne jidd jo apni

thaan rakhi thi।




aakhirkaar us hathi ne

apnaa hath puraa kar hi gayaa।

aur kud gayaa dushmnon ke bich men

daant khattaa karne ko unke।

sunaa hai

usne apno ki jaan bachaane ko

abhimanyu ban kud pdaa thaa

bich maidaan men।

goliyon se jism chhalni hoti rahi

par kahaan thamaa thaa vah।

sher saa dahaadtaa huaa

saare dushmnon par

vah bhaari pd rahaa thaa

akelaa hi।

aakhiri saans tak usne

apnaa hathiyaar nahin giraayaa thaa।

dushmnon ko akelaa hi

vah khaded kar bhagaayaa thaa।

khub ldaa mardaanaa vah to

bhaarat maan kaa lallaa thaa।




aaj har hindustaani

us naadaan parinde ke jidd ke aage natamastak hai।

aur sabhi uski bahaaduri aur kurbaani par

dil se salaam kar rahe hain।


jay hind।

jay bhaarat।



Written by sushil kumar

Shayari











24 Apr 2019

Rastrawad

Shayari

राष्ट्रवाद

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


कोई ऐसा तूफान नहीं
जो मेरे इरादे को हिला सके।
कोई ऐसा सैलाब नहीं
जो मेरे हौसले को बहा सके।

मैं नहीं वो महान सिकन्दर
जो मगध की विशाल सेना देख
कदम को पीछे हटा लिया।
मैं हूँ वो वीर पुरु
जो सिकन्दर के जलजले देख भी
खुद को ना रोक सका।

बहुत देखे ऐसे कायर महाबली
जो कमजोर पर राज करते हैं।
मैं आया हूँ इस धरती पर
सभी के दिलों पर राज करने को।

मैं हूँ प्रेम
मैं ही हूँ बलिदान।
अगर मैं नहीं तो
नहीं हो किसी देश का सम्मान।

मैं ही हूँ
जो सीमा पर रहता हूँ तैनात।
मैं ही हूँ
जो देश के लिए जान देने को रहता हूँ तैयार।
मैं ही हूँ
देश की विकास में।

क्योंकि मैं हूँ
वीरों की वीरगति की गाथा में
उनके बहते हुए खून और पसीने के पराक्रम में।
मैं ही हूँ।
मैं ही हूँ।
मैं ही हूँ।
।।राष्ट्रवाद।।

जय हिंद।।
जय भारत।।
Rastrawad










koi aisaa tuphaan nahin

jo mere eraade ko hilaa sake।

koi aisaa sailaab nahin

jo mere hausle ko bahaa sake।


main nahin vo mahaan sikandar

jo magadh ki vishaal senaa dekh

kadam ko pichhe hataa liyaa।

main hun vo vir puru

jo sikandar ke jalajle dekh bhi

khud ko naa rok sakaa।


bahut dekhe aise kaayar mahaabli

jo kamjor par raaj karte hain।

main aayaa hun es dharti par

sabhi ke dilon par raaj karne ko।


main hun prem

main hi hun balidaan।

agar main nahin to

nahin ho kisi desh kaa sammaan।


main hi hun

jo simaa par rahtaa hun tainaat।

main hi hun

jo desh ke lia jaan dene ko rahtaa hun taiyaar।

main hi hun

desh ki vikaas men।


kyonki main hun

viron ki viragati ki gaathaa men

unke bahte hua khun aur pasine ke paraakram men।

main hi hun।

main hi hun।

main hi hun।

।।raashtrvaad।।


jay hind।।

jay bhaarat।।




Written by sushil kumar

Shayari



18 Apr 2019

Ek rastrawadi ki aakhiri khwahish.

Shayari

एक राष्ट्रवादी की आखिरी ख्वाहिश।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Rastrawad

माँ आज मैं बहुत खुश हूँ।
जिस मिट्टी से मैने जन्म लिया
उस राष्ट्र की एक आखिरी सेवा करने का समय
जो आज निकट आ गया है।

मेरे भस्म को गंगा में प्रवाहित नहीं होना है।
ना ही उसे मिट्टी में मिलना है।
जिस क्षण मैं भस्म बनूँ
आँधी और तूफान मेरे भस्म को उड़ा ले जाएँ।
और सारे भारत के हवा के कण कण में उसे समाहित कर दें।
और मैं हर भारतीय के साँस में
हवा बन प्रवाहित हो जाऊँ।
उनके खून में मिल
राष्ट्रवाद की अखण्ड ज्वाला बन उनके हृदय में
सदा सदा के लिए ज्वलित हो जाऊँ।
और अपने भारत को पूर्ण राष्ट्रवादी देश बना
अपनी प्रिय माता से अलविदा ले
संसार से मुक्ति पाऊँ।
और हिंदुस्तान की सोच में
मैं सदा जीवित रहूँ
एक राष्ट्रवाद की अखण्ड क्रान्ति बनकर।


जय हिंद।।
जय भारत।।







maan aaj main bahut khush hun।

jis mitti se maine janm liyaa

us raashtr ki ek aakhiri sevaa karne kaa samay

jo aaj nikat aa gayaa hai।


mere bhasm ko gangaa men prvaahit nahin honaa hai।

naa hi use mitti men milnaa hai।

jis kshan main bhasm banun

aandhi aur tuphaan mere bhasm ko udaa le jaaan।

aur saare bhaarat ke havaa ke kan kan men use samaahit kar den।

aur main har bhaartiy ke saans men

havaa ban prvaahit ho jaaun।

unke khun men mil

raashtrvaad ki akhand jvaalaa ban unke hriaday men

sadaa sadaa ke lia jvalit ho jaaun।

aur apne bhaarat ko purn raashtrvaadi desh banaa

apni priy maataa se alavidaa le

sansaar se mukti paaun।

aur hindustaan ki soch men

main sadaa jivit rahun

ek raashtrvaad ki akhand kraanti banakar।



jay hind।।

jay bhaarat।।



Written by sushil kumar

Shayari

29 Mar 2019

Hamare priya modi ji ki hi sarkar aa rahi hai.

Shayari

हमारे प्रिय मोदी जी की ही सरकार आ रही है।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Bharat

हम भारत देश में जन्म लिए।
हम भारत के हित की सोचेंगे।
हम स्वयं अपना कदम बढ़ाएंगे।
भारत को भी खींच उठाएँगे।
हम शांति दूत हैं इस विश्व के
पर हम कायर नहीं
जो विरोधियों के दबाव में,
अपने कदम पीछे हटाएँगे।
वो दौर कोई और था
ये दौर कोई और है।
पहले स्वयं के हित की सोच थी
आज देश के हित की सोच है।
पहले कायरता की खाई में गिरे थे हम सभी
पर आज हिमालय की वीरता के गोद में बैठे हैं हम।
Bharat,narendra modi

आज हमारी सोच में ललकार है
दुश्मनों के लिए।
तो बहुत सारा प्यार है वहीं
अपनो के लिए।
आज सारे देश में विकास की लहर है
गाँव - गाँव और शहर- शहर में
बिजली और सड़क है।
आज अपने सुनहरे देश की भविष्य
हमें उसकी छवि में नजर आ रही है।
आज हर दिल एक स्वर में
बस यही राग पुकार रही है।
इस बार फिर से
हमारे प्रिय मोदी की ही सरकार
आ रही है।
Bharat,narendra modi

जय हिंद।।
जय भारत।।












ham bhaarat desh men janm lia।

ham bhaarat ke hit ki sochenge।

ham svayan apnaa kadam bdhaaange।

bhaarat ko bhi khinch uthaaange।

ham shaanti dut hain es vishv ke

par ham kaayar nahin

jo virodhiyon ke dabaav men,

apne kadam pichhe hataaange।

vo daur koi aur thaa

ye daur koi aur hai।

pahle svayan ke hit ki soch thi

aaj desh ke hit ki soch hai।

pahle kaayartaa ki khaai men gire the ham sabhi

par aaj himaalay ki virtaa ke god men baithe hain ham।




aaj hamaari soch men lalkaar hai

dushmnon ke lia।

to bahut saaraa pyaar hai vahin

apno ke lia।

aaj saare desh men vikaas ki lahar hai

gaanv - gaanv aur shahar- shahar men

bijli aur sdak hai।

aaj apne sunahre desh ki bhavishy

hamen uski chhavi men najar aa rahi hai।

aaj har dil ek svar men

bas yahi raag pukaar rahi hai।

es baar phir se

hamaare priy modi ki hi sarkaar

aa rahi hai।




jay hind।।

jay bhaarat।।


Written by sushil kumar.

Shayari

20 Mar 2019

Holi ka tyohar hai.

Shayari

होली का त्योहार है

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

होली का त्योहार है
रंग और गुलाल भरी खुशियोंं की बौ-छार है।

हर दिल में
आज वो बचपन का उमंग
पुनः जाग उठा है।

सारे मन के मैल
मानो आज इस पावन त्योहार पर धूल चुके हैं।

और हम सभी
जातिवाद, धर्मवाद और सभी विकारों से ऊपर उठ
पूरे जोश खरोश और उमंग के साथ
होली के रंग में
एक साथ
सतरंगी खुशियों के झरने में
भींगे जा रहे हैं।

और तो और
हमारे साथ सारी प्रकृति भी
इस त्योहार के प्रभाव से बच नहीं पाई हैं।
दिन ढलने को है और
सारे अम्बर की लालिमा
हमें ऐसा आभास करा रही है।
मानो धरती ने अम्बर को
लाल गुलाल से रंग दिया हो।
और ठीक वैसे ही
धरती की हरियाली देख
ऐसा आभास हो रहा है
जैसे अम्बर ने भी हरे रंग के गुलाल से
धरती को रंगने का मौका नहीं गंवाया है।

कितना मनोहर दृश्य है
मानो सारी प्रकृति आज खुशी में
झूम रही हो।


आज के इस शुभ पल के अवसर पर
मैं फिर से सारे दोस्त,सारे रिश्तेदार व सबसे महत्वपूर्ण मेरे फौजी भाइयों व बहनों को होली की ढेर सारी शुभकामनाएं दिल से देता हूँ।ईश्वर से यही प्रार्थना करता हूँ कि आप सभी लोगों की सारे मनोकामनाएं पूर्ण हो।।ईश्वर सदा आपका सही मार्गदर्शन करें।

धन्यवाद

।।जय हिंद।।

।।जय भारत।

और फिर से
होली की दिल से सभी भारतीयों को ढेर सारी शुभकामनाएं।

सुशील कुमार

।।एक नई क्रांति की ज़रूरत है भारत को।।
।।राष्ट्रवाद की क्रांति।।

सुशील कुमार
Holi

Holi

हैप्पी होली।।











holi kaa tyohaar hai

rang aur gulaal bhari khushiyonn ki bau-chhaar hai।


har dil men

aaj vo bachapan kaa umang

punah jaag uthaa hai।


saare man ke mail

maano aaj es paavan tyohaar par dhul chuke hain।


aur ham sabhi

jaativaad, dharmvaad aur sabhi vikaaron se upar uth

pure josh kharosh aur umang ke saath

holi ke rang men

ek saath

satarangi khushiyon ke jharne men

bhinge jaa rahe hain।


aur to aur

hamaare saath saari prakriati bhi

es tyohaar ke prbhaav se bach nahin paai hain।

din dhalne ko hai aur

saare ambar ki laalimaa

hamen aisaa aabhaas karaa rahi hai।

maano dharti ne ambar ko

laal gulaal se rang diyaa ho।

aur thik vaise hi

dharti ki hariyaali dekh

aisaa aabhaas ho rahaa hai

jaise ambar ne bhi hare rang ke gulaal se

dharti ko rangne kaa maukaa nahin ganvaayaa hai।


kitnaa manohar driashy hai

maano saari prakriati aaj khushi men

jhum rahi ho।



aaj ke es shubh pal ke avasar par

main phir se saare dost,saare rishtedaar v sabse mahatvpurn mere phauji bhaaeyon v bahnon ko holi ki dher saari shubhkaamnaaan dil se detaa hun।ishvar se yahi praarthnaa kartaa hun ki aap sabhi logon ki saare manokaamnaaan purn ho।।ishvar sadaa aapkaa sahi maargadarshan karen।


dhanyvaad


।।jay hind।।


।।jay bhaarat।


aur phir se

holi ki dil se sabhi bhaartiyon ko dher saari shubhkaamnaaan।


sushil kumaar


।।ek nayi kraanti ki jrurat hai bhaarat ko।।

।।raashtrvaad ki kraanti।।




Written by sushil kumar

Holi Shayari

17 Mar 2019

Hamara chaukidar chor hai

Shayari

हमारा चौकीदार चोर है??

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

हमारा चौकीदार चोर है
बाकी सारे ईमानदार हैं।
पाँच सालों में कोई घोटाला नहीं हुआ।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
विरोधी देशों की नींदें हराम हो गईं हैं।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज जब हम अपने दुश्मनों को
ईंट का जवाब पत्थर से दे रहे हैं।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज सारा विश्व भारत के साथ खड़ा है।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज अभिनंदन हमारा
सही सलामत देश वापस लौट आ रहा है।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज कालेधन पर चोट हुई है।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज अपनी जी डी पी 7.7% पर है।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज अपना देश आगे बढ़ रहा है।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज सभी वर्गों का विकास हो रहा है।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज सारे भ्रष्ट विरोधी दलों को
एक साथ खड़ा होना पड़ रहा है।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज हम सारे देशवासी
अपने चौकीदार के साथ खड़े हैं
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
Kavita









hamaaraa chaukidaar chor hai

baaki saare imaandaar hain।

paanch saalon men koi ghotaalaa nahin huaa।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

virodhi deshon ki ninden haraam ho gin hain।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj jab ham apne dushmnon ko

int kaa javaab patthar se de rahe hain।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj saaraa vishv bhaarat ke saath khdaa hai।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj abhinandan hamaaraa

sahi salaamat desh vaapas laut aa rahaa hai।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj kaaledhan par chot hui hai।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj apni ji di pi 7.7% par hai।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj apnaa desh aage bdh rahaa hai।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj sabhi vargon kaa vikaas ho rahaa hai।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj saare bhrasht virodhi dalon ko

ek saath khdaa honaa pd rahaa hai।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj ham saare deshvaasi

apne chaukidaar ke saath khde hain

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।




 written by sushil kumar @ kavitadilse.top

Shayari

17 Feb 2019

Bahut sah liya hai hamne

Shayari

बहुत सह लिया है हमने

kavitadilse.top द्वारा आपस अभी पाठको को समर्पित है।
hindi patriotic shayari


बहुत सह लिया है हमने
खून की नदियां बहा दी तुमने।
पूरा भारत रो रहा है आज
बिजली कड़क रही है उनके हृदय में।

hindi patriotic shayari

क्या गुनाह किया था उन जवानों ने
जो तुमने ले ली उनकी जान।
बेगुनाहों का खून बहाकर
आज तुम्हारे रूह को मिली होगी आराम।
hindi patriotic shayari

आँखो में चिंगारी है
दिल में भी आक्रोश है।
सभी गद्दारो को भस्म करने को
मन मे हुआ विस्फोट है।
hindi patriotic shayari

उथल पुथल सा मच चुका है।
भावनाओ का बवंडर है जोर पर।
कहीं सारा पाकिस्तान ना मिट जाए।
हमारी जलती क्रोध में।

जय हिंद।।
जय भारत।।







bahut sah liyaa hai hamne

khun ki nadiyaan bahaa di tumne।

puraa bhaarat ro rahaa hai aaj

bijli kdak rahi hai unke hriaday men।





kyaa gunaah kiyaa thaa un javaanon ne

jo tumne le li unki jaan।

begunaahon kaa khun bahaakar

aaj tumhaare ruh ko mili hogi aaraam।




aankho men chingaari hai

dil men bhi aakrosh hai।

sabhi gaddaaro ko bhasm karne ko

man me huaa visphot hai।




uthal puthal saa mach chukaa hai।

bhaavnaao kaa bavandar hai jor par।

kahin saaraa paakistaan naa mit jaaa।

hamaari jalti krodh men।


jay hind।।

jay bhaarat।।


Written by sushil kumar @kavitadilse.top

Shayari


16 Feb 2019

Hum nahin thamne wale

Shayari

हम नहीं थमने वाले

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Shayari


हम नहीं थमने वाले
ना ही अब हम झुकने वाला।

बहुत हो गई गांधीगिरी
सुभाष बनने का समय आ गया।

खून के एक एक कतरे का हिसाब
लेने का समय आ गया।

वो दुखियारी बेबस माँ की
आँखों से बहती आँसुओ की कसम है।

वो उन शहिदों के परिवारो के आँखो से
बहते सैलाब की कसम है।

हम नही थमेंगे
ना ही अब हम झुकेंगे।

जब तक देश में छिपे गद्दारों का सर
धड़ से अलग ना कर देंगे।

चिंगारी जो भड़की है
अब नहीं वो बुझेगी।

जब तक सारे आतंकियो के भस्म को
महासागर में ना बहा देंगे हम।

जय हिंद।।
जय भारत।।
Shayari,kavita











ham nahin thamne vaale

naa hi ab ham jhukne vaalaa।


bahut ho gayi gaandhigiri

subhaash banne kaa samay aa gayaa।


khun ke ek ek katre kaa hisaab

lene kaa samay aa gayaa।


vo dukhiyaari bebas maan ki

aankhon se bahti aansuo ki kasam hai।


vo un shahidon ke parivaaro ke aankho se

bahte sailaab ki kasam hai।


ham nahi thamenge

naa hi ab ham jhukenge।


jab tak desh men chhipe gaddaaron kaa sar

dhd se alag naa kar denge।


chingaari jo bhdki hai

ab nahin vo bujhegi।


jab tak saare aatankiyo ke bhasm ko

mahaasaagar men naa bahaa denge ham।


jay hind।।

jay bhaarat।।





Written by sushil kumar @ kavitadilse.top
Shayari

Badhali

Shayari ऐसी बदहाली आज दिल पे जो छाई है। मन  है बदहवास और आँखों में नमी आई है। हर वक्त बस ईश्वर से यही दुहाई है। खैर रखना उनकी, मेरी ...