Showing posts with label Sad. Show all posts
Showing posts with label Sad. Show all posts

2 Jul 2019

Karta pranali se hairan pareshan hun.

Shayari

कार्यप्रणाली से हैरान परेशान हूँ।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



मेरी भी पत्नी है
मैं भी उससे प्यार करता हूँ।
पर शायद मेरी पैरवी उतनी जबरदस्त नहीं होगी
इसलिए मुझे मेरी जीवनसंगिनी से इतनी दूर फेंक दिया गया है।
या शायद मेरी वजह उतनी दमदार नहीं होगी
वरना अनुकंपा पे भी मेरी बात सुनी नहीं जा रही है।

हर कोई अपनी संस्था से प्यार बहुत करता है
पर कोई सन्तुष्ट रहता है
कोई असन्तुष्ट दिखता है।
आज जिस बेहाली से मैं गुज़र रहा हूँ
शायद बर्दास्त करने की सारी सीमाओं को लाँघ चुका हूँ।

पता नहीं मन में एक पल के लिए भी शांति नहीं रहती है।
और भाग भाग कर मेरी अर्धांगिनी के पास चला जाता है।
पता नहीं मेरी अर्धांगिनी कैसे जीवन वहाँ व्यतीत करती होगी।
कितना दर्द उसे सहना पड़ रहा होगा।
कितनी तकलीफ में होगी।
वगैरह वगैरह।

अब और सहा नहीं जा रहा है मेरे पल।
बस कर
बस भी कर
मत ले परीक्षा मेरी और।






meri bhi patni hai

main bhi usse pyaar kartaa hun।

par shaayad meri pairvi utni jabaradast nahin hogi

esalia mujhe meri jivanasangini se etni dur phenk diyaa gayaa hai।

yaa shaayad meri vajah utni damdaar nahin hogi

varnaa anukampaa pe bhi meri baat suni nahin jaa rahi hai।


har koi apni sansthaa se pyaar bahut kartaa hai

par koi santusht rahtaa hai

koi asantusht dikhtaa hai।

aaj jis behaali se main gujr rahaa hun

shaayad bardaast karne ki saari simaaon ko laangh chukaa hun।


pataa nahin man men ek pal ke lia bhi shaanti nahin rahti hai।

aur bhaag bhaag kar meri ardhaangini ke paas chalaa jaataa hai।

pataa nahin meri ardhaangini kaise jivan vahaan vytit karti hogi।

kitnaa dard use sahnaa pd rahaa hogaa।

kitni takliph men hogi।

vagairah vagairah।


ab aur sahaa nahin jaa rahaa hai mere pal।

bas kar

bas bhi kar

mat le parikshaa meri aur।



Written by sushil kumar

Shayari

1 Jul 2019

Main haraa nahin,haraya gaya tha.

Shayari

मैं हारा नहीं,हराया गया था।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



मैं हारा नहीं
हराया गया था।
मैं जिंदा ही कब्र में
दफनाया गया था।
नही थी अब मुझे
जीने की इच्छा।
मृत सय्या से उठने की
अब नही थी मेरी ईप्सा।
बेगानो से नहीं
हमे अपनो से थी शिकवा।
जो बिच महफ़िल में
हमें पराया बनाए हुए थे।
मैं हारा नहीं
हराया गया था।




main haaraa nahin

haraayaa gayaa thaa।

main jindaa hi kabr men

daphnaayaa gayaa thaa।

nahi thi ab mujhe

jine ki echchhaa।

mriat sayyaa se uthne ki

ab nahi thi meri ipsaa।

begaano se nahin

hame apno se thi shikvaa।

jo bich mahfil men

hamen paraayaa banaaa hua the।

main haaraa nahin

haraayaa gayaa thaa।



Written by sushil kumar

Shayari

कोरोना के खतरनाक मंजर को जरा सोच कर के तो देखो।koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho।

Shayari koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho। मौत !मौत ! मौत ! बस हर जगह मौत है। प्रकृति की दिख रही आज सभी जग...