Showing posts with label Krantikari soch. Show all posts
Showing posts with label Krantikari soch. Show all posts

26 Dec 2019

मुझे कोई बदल नहीं सकता mujhe koi badal nahin sakta.

मुझे कोई बदल नहीं सकता।


kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


मेरे अश्क़ पोंछने को
कोई दिखा नहीं।
मेरे दर्द बाँटने को
कोई बचा नहीं।
पर हाँ कुछ मौकापरस्त लोग
आ पहुँचे हैं मेरे करीब।
जो मेरे बर्बादी के चीते पर भी
अपनी रोटियां सेंकने से
बाज नहीं आ रहे।

मैं जैसा कल को था
वैसा ही आज भी रह गया।
रईसी चली गई
पर दानवीरता नहीं छूटी।
बनावटी दुनिया में
मैं ठगाता चला गया।
लोगों ने मेरे मलबे से
अपने महल तक बना लिए।


mere ashk ponchhne ko

koi dikhaa nahin।

mere dard baantne ko

koi bachaa nahin।

par haan kuchh maukaaparast log

aa pahunche hain mere karib।

jo mere barbaadi ke chite par bhi

apni rotiyaan senkne se

baaj nahin aa rahe।


main jaisaa kal ko thaa

vaisaa hi aaj bhi rah gayaa।

risi chali gayi

par daanvirtaa nahin chhuti।

banaavti duniyaa men

main thagaataa chalaa gayaa।

logon ne mere malbe se

apne mahal tak banaa lia।





Written by sushil kumar




मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ।main jitni daphaa tumse bichhudtaa hun

Shayari मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ उतनी ही दफा मैं घुट घुट कर मरता हूँ। तुम कहते हो कि मैं गायब होता जा रहा हूँ। पहले ७० कि...