Showing posts with label हिम्मते मर्दा मददे खुदा।. Show all posts
Showing posts with label हिम्मते मर्दा मददे खुदा।. Show all posts

12 Nov 2017

हिम्मते मर्दा मददे खुदा। himmate marda madade khuda

Kahani

himmate marda madade khuda


आज हिन्दुस्तान की हालत यौन शोषण में बहुत खराब है।हर दो में से एक महिला यौन शोषण की शिकार है।किसी का बचपन में यौन शोषन हुआ है,तो किसी का जवानी में।आपको ये भी जानकर हैरानी नहीं होगी कि उनमें से केवल पचास फीसदी महिला ही ऐसी हैं, जिनकी यौन उत्पीड़न की जानकारी समाज में पता चल पाया है।और ये जानकर आपको और भी ताज्जुब होगा,कि उनमें से केवल पचास फीसदी ही हैं,जो थाने में जाने की हिम्मत दिखाती हैं,और एफआईआर करवाती हैं।
      अब आप ही बताइए कि हमारी हालत कितनी बदतर है।
ऐसी ही एक कहानी मैं आपके लिए लेकर आया हूँ।रानी नाम की एक महिला नई नई शादी होकर हमारे मुहल्ले में रहने के लिए आई थी।पहला एक महीना सब कुछ शांति प्रिय था,उस घर में,लेकिन एक महीने बाद हर दिन कुछ ना कुछ कारन से चिल्लाने और चीखने की आवाजें आने लगी।कभी राजू भैया का चीखने का आवाज आता,तो कभी रानी भाभी का आवाज आता।कुछ लोग जो उनके आस पास रहते थे,वो बताते थे,कि राजू शाम में जब काम करके आता है,तो रानी से जबरदस्ती करता है।
        रानी भाभी दिन में कभी किसी से मिलती नहीं थी।और दिन में जब राजू भैया काम पर जाया करते थे,तो बाहर से ताला लगा करके जाया करते थे।फिर किसी पड़ोसी ने मानव कल्याण हित में काम करने वाले एन जी ओ को फोन कर दिया।एन जी ओ वाले रात में पुलिस लेकर,घर पहुँच गए।
       पर पता नहीं क्यों रानी भाभी राजा भैया के खिलाफ एक लब्ज भी नहीं बोला और उन्हें बचा लिया।
       उस दिन के बाद राजू भैया और भी उग्र हो गएँ।और हर दिन रानी भाभी के साथ गालीगलौज और जबरदस्ती करने लगे।फिर एक रात रानी भाभी बिच रात में ही घर से निकलकर थाने पहुँच गई, और एफआईआर दर्ज करवाई।और जो पुलिस को पता चला,वह चौकाने वाला था।
        रानी के पिता जमुनादास गरीब किसान थे।बहुत मुश्किल से उसका घर चलता था।कुछ साहूकारों से उन्होंने पैसा ले रखा था।और बेटी भी जवान हो चली थी।अब उसकी शादी की फिक्र जमुनादास को सताने लगी थी।
राजू भैया,गाँव में उसके पड़ोसी हुआ करते थे।वो रानी की खुबसूरती पर बचपन से ही लट्टू थे।राजू भैया ने एक दिन मौका पाते ही रानी से अपनी शादी की बात करली।रानी ने एक दिन का समय माँगा।राजू भैया मान गए।फिर अगले दिन मिलने पर रानी ने शादी के लिए राजू भैया के सामने एक शर्त रख दी।शर्त यह थी,कि अगर राजू उनके पिता द्वारा साहूकार से लिए कर्जे से मुक्ति करवा देता है,तो वह शादी करने के लिए तैयार है।राजू भैया मान जाते हैं।और जमुनादास के द्वारा लिए गए सारे कर्जे को चुकता कर,रानी से ब्याह कर शहर ले आता है।
       और इसी उपकार के बदले रानी भाभी ने राजू भैया को जैल जाने से बचा लिया था।और राजू भैया को लगा,कि रानी भाभी के साथ कुछ भी करलो,वह आवाज उठाने वाली नहीं है।वह डरी हुई है।और उसके बाद राजू भैया का अत्याचार और भी बढ़ गया।और जब भाभी से सहा नहीं गया,तो रात के बिच में ही उठ कर थाने पहुँच गई,एफआईआर करने के लिए।
       और आज राजू भैया जैल में सजा काट रहे हैं।
       रानी भाभी गाँव में अपने पिता के काम में मदद कर रही है,और साथ में एक एन जी ओ में भी योगदान दे रही है।आज वह हर औरत के लिए एक प्रेरणास्रोत बन गई हैं।
अत्याचार करने वाले से अत्याचार सहने वाला दोषी होता है।


aaj hindustaan ki haalat yaun shoshan men bahut kharaab hai।har do men se ek mahilaa yaun shoshan ki shikaar hai।kisi kaa bachapan men yaun shoshan huaa hai,to kisi kaa javaani men।aapko ye bhi jaanakar hairaani nahin hogi ki unmen se keval pachaas phisdi mahilaa hi aisi hain, jinki yaun utpidn ki jaankaari samaaj men pataa chal paayaa hai।aur ye jaanakar aapko aur bhi taajjub hogaa,ki unmen se keval pachaas phisdi hi hain,jo thaane men jaane ki himmat dikhaati hain,aur ephaaiaar karvaati hain।

      ab aap hi bataaea ki hamaari haalat kitni badatar hai।

aisi hi ek kahaani main aapke lia lekar aayaa hun।raani naam ki ek mahilaa nayi nayi shaadi hokar hamaare muhalle men rahne ke lia aai thi।pahlaa ek mahinaa sab kuchh shaanti priy thaa,us ghar men,lekin ek mahine baad har din kuchh naa kuchh kaaran se chillaane aur chikhne ki aavaajen aane lagi।kabhi raaju bhaiyaa kaa chikhne kaa aavaaj aataa,to kabhi raani bhaabhi kaa aavaaj aataa।kuchh log jo unke aas paas rahte the,vo bataate the,ki raaju shaam men jab kaam karke aataa hai,to raani se jabaradasti kartaa hai।

        raani bhaabhi din men kabhi kisi se milti nahin thi।aur din men jab raaju bhaiyaa kaam par jaayaa karte the,to baahar se taalaa lagaa karke jaayaa karte the।phir kisi pdosi ne maanav kalyaan hit men kaam karne vaale en ji o ko phon kar diyaa।en ji o vaale raat men pulis lekar,ghar pahunch gaye।

       par pataa nahin kyon raani bhaabhi raajaa bhaiyaa ke khilaaph ek labj bhi nahin bolaa aur unhen bachaa liyaa।

       us din ke baad raaju bhaiyaa aur bhi ugr ho gan।aur har din raani bhaabhi ke saath gaaliglauj aur jabaradasti karne lage।phir ek raat raani bhaabhi bich raat men hi ghar se nikalakar thaane pahunch gayi, aur ephaaiaar darj karvaai।aur jo pulis ko pataa chalaa,vah chaukaane vaalaa thaa।

        raani ke pitaa jamunaadaas garib kisaan the।bahut mushkil se uskaa ghar chaltaa thaa।kuchh saahukaaron se unhonne paisaa le rakhaa thaa।aur beti bhi javaan ho chali thi।ab uski shaadi ki phikr jamunaadaas ko sataane lagi thi।

raaju bhaiyaa,gaanv men uske pdosi huaa karte the।vo raani ki khubsurti par bachapan se hi lattu the।raaju bhaiyaa ne ek din maukaa paate hi raani se apni shaadi ki baat karli।raani ne ek din kaa samay maangaa।raaju bhaiyaa maan gaye।phir agle din milne par raani ne shaadi ke lia raaju bhaiyaa ke saamne ek shart rakh di।shart yah thi,ki agar raaju unke pitaa dvaaraa saahukaar se lia karje se mukti karvaa detaa hai,to vah shaadi karne ke lia taiyaar hai।raaju bhaiyaa maan jaate hain।aur jamunaadaas ke dvaaraa lia gaye saare karje ko chuktaa kar,raani se byaah kar shahar le aataa hai।

       aur esi upkaar ke badle raani bhaabhi ne raaju bhaiyaa ko jail jaane se bachaa liyaa thaa।aur raaju bhaiyaa ko lagaa,ki raani bhaabhi ke saath kuchh bhi karlo,vah aavaaj uthaane vaali nahin hai।vah dari hui hai।aur uske baad raaju bhaiyaa kaa atyaachaar aur bhi bdh gayaa।aur jab bhaabhi se sahaa nahin gayaa,to raat ke bich men hi uth kar thaane pahunch gayi,ephaaiaar karne ke lia।

       aur aaj raaju bhaiyaa jail men sajaa kaat rahe hain।

       raani bhaabhi gaanv men apne pitaa ke kaam men madad kar rahi hai,aur saath men ek en ji o men bhi yogdaan de rahi hai।aaj vah har aurat ke lia ek prernaasrot ban gayi hain।

atyaachaar karne vaale se atyaachaar sahne vaalaa doshi hotaa hai।

Written by sushil kumar

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...