Showing posts with label हमारा देश इतना पिछड़ा क्यों है?. Show all posts
Showing posts with label हमारा देश इतना पिछड़ा क्यों है?. Show all posts

22 Oct 2017

हमारा देश इतना पिछड़ा क्यों है? Hamara desh itna pichhda kyun hai?

Kahani

Hamara desh itna pichhda kyun hai?

आज हर भारतीयों को इस विषय पर गहन अध्ययन करना चाहिए, जो कि बहुत जटिल होता जा रहा है।हमारा देश हिन्दुस्तान का पिछड़ापन होने का विषय।
आज अगर हम इतने पिछड़े हैं,तो इसका केवल एक और एक ही कारण है,हमारे देश के नेता।जो देश पर राज करने के लिए,या फिर वोट बैंक के लिए देश के टूकड़े करने से भी पिछे नहीं हटते हैं।इसका सबूत हमें अजादी के समय ही दिख गया था।फिर वोट बैंक के लिए देश में आरक्षण लाया गया,और फिर से देश को  बाँटा  गया।अब आपके योग्यता के आधार पर नहीं बल्कि आपके जाति के आधार पर नौकरी पाना आसान हो गया।जिस कारण से अयोग्य व्यक्ति आज देश को चला रहे हैं।और हमारा देश बहुत ही तेजी से पिछड़ता चला जा रहा है।

aaj har bhaartiyon ko es vishay par gahan adhyayan karnaa chaahia, jo ki bahut jatil hotaa jaa rahaa hai।hamaaraa desh hindustaan kaa pichhdaapan hone kaa vishay।

aaj agar ham etne pichhde hain,to eskaa keval ek aur ek hi kaaran hai,hamaare desh ke netaa।jo desh par raaj karne ke lia,yaa phir vot baink ke lia desh ke tukde karne se bhi pichhe nahin hatte hain।eskaa sabut hamen ajaadi ke samay hi dikh gayaa thaa।phir vot baink ke lia desh men aarakshan laayaa gayaa,aur phir se desh ko  baantaa  gayaa।ab aapke yogytaa ke aadhaar par nahin balki aapke jaati ke aadhaar par naukri paanaa aasaan ho gayaa।jis kaaran se ayogy vyakti aaj desh ko chalaa rahe hain।aur hamaaraa desh bahut hi teji se pichhdtaa chalaa jaa rahaa hai।

Written by sushil kumar

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...