Showing posts with label सत्य हमेश कड़वा ही होता है. Show all posts
Showing posts with label सत्य हमेश कड़वा ही होता है. Show all posts

14 Feb 2018

बकवास नं 2।। bakwas no. 2..

Shayari

Bakwas no.2


अब आप की फरमाइश पर बकवास नं 2 लेकर आया हूँ।।
पहले एक पंक्ति हो जाए।।
सत्य हमेशा कड़वा लगता है।।
और झूठ हमेशा अपना लगता है।।(2)
और इसलिए दोस्तों,अपनी पत्नी से ज्यादा हमें,
दूसरों की लुगाई से ज्यादा प्यार होता है।।(2)

अब हम अपने टोपिक पर आते हैं।
प्यार करना अच्छी बात है,पर इतना भी नहीं,कि सामने वाला आपके इस अपनेपन से परेशान हो जाए या सामने वाले की आदत ही बिगड़ जाए।हर कोई अपने बेटे से भहुत प्यार करता है।अगर आपके पास पैसे की कमी नहीं है,तो फिर आप कभी नहीं चाहेंगे कि आपके बेटे को कभी भी कोई तकलीफ हो।
उसे हर तरह की सुख सुविधा मिले।
आप उसके प्यार में इतने अँधे हो जाते हैं,कि आपका बच्चा आपसे जो कुछ भी माँगता,उसकी माँगें पूरी किए जाते हैं।इससे बच्चे की आदत बिगड़ती चली जाती है।बच्चा और भी बिगड़ेल होता चला जाता है।

तो दोस्तों मेरा कहने का साफ साफ बस यही मतलब है,कि हर चीज में संतुलन होना ही चाहिए, वरना परिणाम सदा नकारात्मक ही होते हैं।।


ab aap ki pharmaaesh par bakvaas nan 2 lekar aayaa hun।।

pahle ek pankti ho jaaa।।

saty hameshaa kdvaa lagtaa hai।।

aur jhuth hameshaa apnaa lagtaa hai।।(2)

aur esalia doston,apni patni se jyaadaa hamen,

dusron ki lugaai se jyaadaa pyaar hotaa hai।।(2)


ab ham apne topik par aate hain।

pyaar karnaa achchhi baat hai,par etnaa bhi nahin,ki saamne vaalaa aapke es apnepan se pareshaan ho jaaa yaa saamne vaale ki aadat hi bigd jaaa।har koi apne bete se bhahut pyaar kartaa hai।agar aapke paas paise ki kami nahin hai,to phir aap kabhi nahin chaahenge ki aapke bete ko kabhi bhi koi takliph ho।

use har tarah ki sukh suvidhaa mile।

aap uske pyaar men etne andhe ho jaate hain,ki aapkaa bachchaa aapse jo kuchh bhi maangtaa,uski maangen puri kia jaate hain।esse bachche ki aadat bigdti chali jaati hai।bachchaa aur bhi bigdel hotaa chalaa jaataa hai।


to doston meraa kahne kaa saaph saaph bas yahi matalab hai,ki har chij men santulan honaa hi chaahia, varnaa parinaam sadaa nakaaraatmak hi hote hain।।


Written by sushil kumar

13 Feb 2018

बकवास।। bakwas..

Shayari

Bakwas


अपनी बकवास लिखने से पहले एक दो लाईन आपसे कहना चाहता हूँ।जरा गौर फरमाईएगा...

ज्यादा प्यार या ज्यादा लताड़।
दोनो घातक होते हैं।
ज्यादा प्यार या ज्यादा लताड़।
दोनो घातक होते हैं।
संतुलन बनाकर चलने में ही,
हम डायबिटीज से बच पाते हैं।
संतुलन बनाकर चलने में ही,
हम डायबिटीज से बच पाते हैं।

इसलिए दोस्तों जीवन में संतुलन होना ही चाहिए।

ज्यादा गुश्शेल नहीं होना चाहिए, कि जरा सा कोई मजा ले,तो उसकी माँ बहन एक करके रख दें।या जरा सा कुछ भी मन के मुताबिक नहीं हुआ, तो सामने वाले की बैंड बजा दें।
ऐसे लोगों से किसी से मजाक करने का हक छीन लेना चाहिए।

ज्यादा भावुक भी नहीं होना चाहिए, कि किसी दोस्त की शादी में गएँ हैं,और दुल्हन विदाई के समय,दुल्हन को छोड़,सारे परिवार के आँखों से अक्ष्रुओं की धारा बह रही है।और उन परिवारो में एक नया सदस्य भी जुड़ गया है,मैं दुल्हे का दोस्त।और मैं सोच रहा हूँ,कि पता नहीं किस जन्म का नाता है,मेरा और मेरे अक्ष्रुओं का।और लड़की वाले मुझे आकर शाँत कर रहे हैं।
ना-ना नहीं बेटा,नहीं।अभी तो तुम्हें,अपनी भाभी माँ का ख्याल रखना है।
दोस्त भ्रमित हो रहा है,कि ये हमारे साईड से है भी या नहीं।

ज्यादा नम्र होने में भी नुकसान है दोस्तों।अब आप मान लो कि आप किसी कंपनी के संचालक हो।आप चाहते हो,कि आप सारे कर्मचारियों को साथ लेकर चले।सभी का ख्याल अपने परिवार जैसा करें।सभी को सही समय पर सैलरी और बोनस प्रदान करें।
ऐसी स्थिति में आप तभी अपनी कंपनी चला पाएँगे, अगर आपके भावनाओं का कदर करते हुए, आपके कर्मचारी जी जान से काम करें।और अगर सुपरवाइजर आपका कामचोर निकला,फिर आपकी कंपनी धीरे धीरे नीचे आ जाएगी,और आप रोड पर आ जाएँगे।क्योंकि आप उस कामचोर को भी अपना परिवार मानते हो।और आप इतने विनम्र हो कि आप उसे नौकरी से निकाल भी नहीं सकते हो।


apni bakvaas likhne se pahle ek do laain aapse kahnaa chaahtaa hun।jaraa gaur pharmaaiagaa...


jyaadaa pyaar yaa jyaadaa lataad।

dono ghaatak hote hain।

jyaadaa pyaar yaa jyaadaa lataad।

dono ghaatak hote hain।

santulan banaakar chalne men hi,

ham daayabitij se bach paate hain।

santulan banaakar chalne men hi,

ham daayabitij se bach paate hain।


esalia doston jivan men santulan honaa hi chaahia।


jyaadaa gushshel nahin honaa chaahia, ki jaraa saa koi majaa le,to uski maan bahan ek karke rakh den।yaa jaraa saa kuchh bhi man ke mutaabik nahin huaa, to saamne vaale ki baind bajaa den।

aise logon se kisi se majaak karne kaa hak chhin lenaa chaahia।


jyaadaa bhaavuk bhi nahin honaa chaahia, ki kisi dost ki shaadi men gan hain,aur dulhan vidaai ke samay,dulhan ko chhod,saare parivaar ke aankhon se akshruon ki dhaaraa bah rahi hai।aur un parivaaro men ek nayaa sadasy bhi jud gayaa hai,main dulhe kaa dost।aur main soch rahaa hun,ki pataa nahin kis janm kaa naataa hai,meraa aur mere akshruon kaa।aur ldki vaale mujhe aakar shaant kar rahe hain।

naa-naa nahin betaa,nahin।abhi to tumhen,apni bhaabhi maan kaa khyaal rakhnaa hai।

dost bhramit ho rahaa hai,ki ye hamaare saaid se hai bhi yaa nahin।


jyaadaa namr hone men bhi nuksaan hai doston।ab aap maan lo ki aap kisi kampni ke sanchaalak ho।aap chaahte ho,ki aap saare karmchaariyon ko saath lekar chale।sabhi kaa khyaal apne parivaar jaisaa karen।sabhi ko sahi samay par sailri aur bonas prdaan karen।

aisi sthiti men aap tabhi apni kampni chalaa paaange, agar aapke bhaavnaaon kaa kadar karte hua, aapke karmchaari ji jaan se kaam karen।aur agar suparvaaejar aapkaa kaamchor niklaa,phir aapki kampni dhire dhire niche aa jaaagi,aur aap rod par aa jaaange।kyonki aap us kaamchor ko bhi apnaa parivaar maante ho।aur aap etne vinamr ho ki aap use naukri se nikaal bhi nahin sakte ho।




Written by sushil kumar




कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...