Showing posts with label ये संसार कर्म प्रधान देश है।करनी कर।. Show all posts
Showing posts with label ये संसार कर्म प्रधान देश है।करनी कर।. Show all posts

24 Feb 2018

करनी कर।। karni kar.

Shayari

Karni kar


कोई भी इंसान अमर नहीं।
ना छोटा,ना कोई बड़ा नहीं।
कर्म का सब चक्र है भईए।
जीवन की पहिया थमा नहीं।
सब से अच्छा व्यवहार कर।
किसी को दुख ना हो,वैसा कार्य कर।
बहुत सुना है ऐसा सुविचार।
पर करनी और कथनी में है बड़ा दरार।
क्यों ना कुछ नया आगाज करें।
कथनी छोड़,करनी का प्रयास करें।
दुख को दुनिया से निजात करें।
खुशियों से सभी का दिल भरा रहे।
आने वाली नस्लें हमसे पूछा करें।
ये दुख क्या चीज है,जिससे कभी भेंट हुआ नहीं।


koi bhi ensaan amar nahin।

naa chhotaa,naa koi bdaa nahin।

karm kaa sab chakr hai bhia।

jivan ki pahiyaa thamaa nahin।

sab se achchhaa vyavhaar kar।

kisi ko dukh naa ho,vaisaa kaary kar।

bahut sunaa hai aisaa suvichaar।

par karni aur kathni men hai bdaa daraar।

kyon naa kuchh nayaa aagaaj karen।

kathni chhod,karni kaa pryaas karen।

dukh ko duniyaa se nijaat karen।

khushiyon se sabhi kaa dil bharaa rahe।

aane vaali naslen hamse puchhaa karen।

ye dukh kyaa chij hai,jisse kabhi bhent huaa nahin।

Written by sushil kumar

कोरोना के खतरनाक मंजर को जरा सोच कर के तो देखो।koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho।

Shayari koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho। मौत !मौत ! मौत ! बस हर जगह मौत है। प्रकृति की दिख रही आज सभी जग...