Showing posts with label यादगार रैल यात्रा।।. Show all posts
Showing posts with label यादगार रैल यात्रा।।. Show all posts

24 Feb 2018

मेरी टोपी उसके सर।। meri topi uske sar.

 Kahani

Meri topi uske sar.


मैं एक बार रैल में यात्रा कर रहा था।वहाँ एक ऐसा हास्यास्पद घटना घटी,जिसके बारे में,बताए बगैर मैं नहीं रह पाऊँगा।मैं और मेरा दोस्त मोहन साथ में सफर कर रहे थें और मुंबई से पटना जा रहे थे।उसी कोच में सफर कर रहे दीपक से हमारी अच्छी खासी दोस्ती हो गई।लंच का समय नजदीक आ रहा था,और जबलपुर आने वाला था।मैं और मोहन दोनो ने नेट से ओनलाइन नौनवैज खाने का ओर्डर कर दिया।और दीपक भाई साहब के पास एक मेनू कार्ड  था,जिससे उन्होंने एक वैज खाने का ओर्डर किया।दीपक भाई साहब नौन वैज खाना नहीं खाते थे।                         
जबलपुर आया,हमारा खाना आ गया,पर दीपक भाईसाहब के खाने का कुछ पता नहीं चल पा रहा था।तभी एक वेंडर आया,और एक सीट नं चिल्ला उठे।भाई साहब इधर इधर।वेंडर ने समान दिया, और जाने लगा।दीपक ने बोला,भाईसाहब एक मिनट।और उसने सौ रूपये निकालकर दें दिएँ।वेंडर ने थैंक्यू बोला और निकल गया।हम सब ने अपने पैकेट खोला,खाने के लिए।ये क्या दीपक का पैकेट में नौन वैज खाना था।दीपक को गुश्शा आया, उसने तूरंत फोन लगाया।तभी एक और वेंडर दीपक के सामने आ गया।सर आपका खाना।दीपक ने गुश्शा कर बोला, जो तुम लोगों ने मजाक बनाकर मेरा रख दिया है।ये नौन वेज खाना मुझे क्यों देकर चले गए थे।वेंडर ने बोला,ये खाना हमने नहीं दिया है,ये हमारे यहाँ का खाना नहीं है।फिर हमने बिल चेक किया,उसपर लिखा था,बी1 29,और दीपक जी का था बी2 29।दीपक ने वेंडर को सोरी बोला,और वेंडर चला गया।फिर दीपक ने पहले वाला पैकेट लिया,और बी1 कोच चला गया।और पैकेट देकर चला आया।दीपक जब लौटा,तो बहुत खुश था।और हमने साथ में खाना खाया।फिर दीपक ने बताया कि बी1 29 पर एक सुंदर स्त्री बैठी हुई थी।और हमारे इस कार्य से वह बहुत खुश हुई।और आगे जाकर दोनो ने शादी भी करली।


main ek baar rail men yaatraa kar rahaa thaa।vahaan ek aisaa haasyaaspad ghatnaa ghati,jiske baare men,bataaa bagair main nahin rah paaungaa।main aur meraa dost mohan saath men saphar kar rahe then aur mumbaayi se patnaa jaa rahe the।usi koch men saphar kar rahe dipak se hamaari achchhi khaasi dosti ho gayi।lanch kaa samay najdik aa rahaa thaa,aur jabalapur aane vaalaa thaa।main aur mohan dono ne net se onlaaen naunvaij khaane kaa ordar kar diyaa।aur dipak bhaai saahab ke paas ek menu kaard  thaa,jisse unhonne ek vaij khaane kaa ordar kiyaa।dipak bhaai saahab naun vaij khaanaa nahin khaate the।                       

jabalapur aayaa,hamaaraa khaanaa aa gayaa,par dipak bhaaisaahab ke khaane kaa kuchh pataa nahin chal paa rahaa thaa।tabhi ek vendar aayaa,aur ek sit nan chillaa uthe।bhaai saahab edhar edhar।vendar ne samaan diyaa, aur jaane lagaa।dipak ne bolaa,bhaaisaahab ek minat।aur usne sau rupye nikaalakar den dian।vendar ne thainkyu bolaa aur nikal gayaa।ham sab ne apne paiket kholaa,khaane ke lia।ye kyaa dipak kaa paiket men naun vaij khaanaa thaa।dipak ko gushshaa aayaa, usne turant phon lagaayaa।tabhi ek aur vendar dipak ke saamne aa gayaa।sar aapkaa khaanaa।dipak ne gushshaa kar bolaa, jo tum logon ne majaak banaakar meraa rakh diyaa hai।ye naun vej khaanaa mujhe kyon dekar chale gaye the।vendar ne bolaa,ye khaanaa hamne nahin diyaa hai,ye hamaare yahaan kaa khaanaa nahin hai।phir hamne bil chek kiyaa,usapar likhaa thaa,bi1 29,aur dipak ji kaa thaa bi2 29।dipak ne vendar ko sori bolaa,aur vendar chalaa gayaa।phir dipak ne pahle vaalaa paiket liyaa,aur bi1 koch chalaa gayaa।aur paiket dekar chalaa aayaa।dipak jab lautaa,to bahut khush thaa।aur hamne saath men khaanaa khaayaa।phir dipak ne bataayaa ki bi1 29 par ek sundar stri baithi hui thi।aur hamaare es kaary se vah bahut khush hui।aur aage jaakar dono ne shaadi bhi karli।

Written by sushil kumar

कोरोना के खतरनाक मंजर को जरा सोच कर के तो देखो।koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho।

Shayari koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho। मौत !मौत ! मौत ! बस हर जगह मौत है। प्रकृति की दिख रही आज सभी जग...