Showing posts with label माँ बाप. Show all posts
Showing posts with label माँ बाप. Show all posts

28 Oct 2019

माँ बाप कभी नहीं बदलते हैं।

Shayari

माँ बाप कभी नहीं बदलते हैं।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

रिश्तों में दरारें आ जाती हैं
रिश्तों को संवारने में।
माँ बाप बेटे से दूर हो जाते हैं
बहु को बेटे से करीब लाने में।

पतंग जिसे बुलन्दी की ऊँचाइयों को छुआया है
आज किसी और को
उसकी बागडोर थमा
माँ बाप आगे चले जाते हैं।

पर आज भी वो
अपने लाडले के लिए
रब से उसकी खुशियों के लिए
गुहार लगाते ही रहते हैं।

भले दुनिया इधर से उधर हो जाए
पर माँ बाप
अपने बच्चे के लिए
अपना दिल का द्वार
सदा खुला रखते हैं।

Written by sushil kumar
Shayari

तेरे हक का है तो छीन लो।

Shayari तेरे हक का है तो छीन लो। kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है। अपने हक के लिए तुम्हें आवाज खुद उठाना होगा। आए...