Showing posts with label मन. Show all posts
Showing posts with label मन. Show all posts

11 Mar 2018

मन बावरे।। mann baare..

Shayari



मन बावरे,किस बात की चिंता तूझे सता रही है।

अंत समय निकट आने को है,क्यों तूझे भटका रही है।
जरा संभल!जरा सोच!तू किस लिए इस जग में आया है ?
क्षणभंगूर वस्तु के लिए,क्या तू परम पिता मालिक का सौदा करना चाह रहा है?
नंगा आया था,नंगा ही जाएगा।
ना कोई साथ आया था,ना कोई साथ जाएगा।
फिर भी तू रमा है इस कृत्रिम जग में,भूल उस परम पिता मालिक को।
अब तो तू हो जा सचेत,जरा याद करले परम पिता को।
भजन भक्ति और विश्वास रख,उस परम पिता मालिक में।
आ रहे हैं परम पिता अपने नाव में,निकालने तुझे भौसागर से।




man baavre,kis baat ki chintaa tujhe sataa rahi hai।

ant samay nikat aane ko hai,kyon tujhe bhatkaa rahi hai।

jaraa sambhal!jaraa soch!tu kis lia es jag men aayaa hai ?

kshanabhangur vastu ke lia,kyaa tu param pitaa maalik kaa saudaa karnaa chaah rahaa hai?

nangaa aayaa thaa,nangaa hi jaaagaa।

naa koi saath aayaa thaa,naa koi saath jaaagaa।

phir bhi tu ramaa hai es kriatrim jag men,bhul us param pitaa maalik ko।

ab to tu ho jaa sachet,jaraa yaad karle param pitaa ko।

bhajan bhakti aur vishvaas rakh,us param pitaa maalik men।

aa rahe hain param pitaa apne naav men,nikaalne tujhe bhausaagar se।


Written by sushil kumar

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...