Showing posts with label पति पत्नी की नोकझोंक भरी कविता।।पति देव. Show all posts
Showing posts with label पति पत्नी की नोकझोंक भरी कविता।।पति देव. Show all posts

3 Mar 2018

पति देव ,माफ कर दीजिए ना ।। pati dev maaf kar dijie na.

Shayari

Pati dev maaf kar dijie na


धर्मपत्नी अपने रूठे पति देव को मनाने के लिए,एक पंक्ति के माध्यम से अपनी मन की व्यथा को व्यक्त करते हुए।

पति देव ,माफ कर दीजिए ना ।।

कल जो गलती हो गई ,भूल जरा सी  बड़ी हो गई ।।         
पर इतना भी ना सताइएना ।। 
कृपा कर माफ कर दीजिए ।।
पति देव माफ कर दीजिए ना ।।

पति भी पंक्ति में जवाब देता है:

हम बहुत छोटे प्राणी है देवी।।
हमसे माफी माँग,हमें लज्जा ना करें।।
कल की त्रुटि की सजा,क्या आप देंगें आज हमें।।
स्त्री बन जब हमने,सोचा था कल रात में।।
तब हमें लगा,क्या किया था,आपके साथ अनर्थ हमने।।
सुबह से शाम हो जाती है आपकी,सबकी ख्याल रखते रखते।।
और फिर नई नई फरमाईश लेकर कोई आ जाए आपके सामने।।
जाहिर है गुश्शा तो आएगा ही,
हम जानवर नहीं,मनुष्य योनि में जो हैं ।।
हमारे दिल में आपके लिए हो गया है प्यार और इज्ज़त में इजाफा।।
अब आपका ख्याल रखेंगे हमेशा,और नहीं करेंगे कभी कोई गुस्ताखी।।


dharmapatni apne ruthe pati dev ko manaane ke lia,ek pankti ke maadhyam se apni man ki vythaa ko vyakt karte hua।


pati dev ,maaph kar dijia naa ।।


kal jo galti ho gayi ,bhul jaraa si  bdi ho gayi ।।       

par etnaa bhi naa sataaeanaa ।।

kripaa kar maaph kar dijia ।।

pati dev maaph kar dijia naa ।।


pati bhi pankti men javaab detaa hai:


ham bahut chhote praani hai devi।।

hamse maaphi maang,hamen lajjaa naa karen।।

kal ki truti ki sajaa,kyaa aap dengen aaj hamen।।

stri ban jab hamne,sochaa thaa kal raat men।।

tab hamen lagaa,kyaa kiyaa thaa,aapke saath anarth hamne।।

subah se shaam ho jaati hai aapki,sabki khyaal rakhte rakhte।।

aur phir nayi nayi pharmaaish lekar koi aa jaaa aapke saamne।।

jaahir hai gushshaa to aaagaa hi,

ham jaanavar nahin,manushy yoni men jo hain ।।

hamaare dil men aapke lia ho gayaa hai pyaar aur ejjt men ejaaphaa।।

ab aapkaa khyaal rakhenge hameshaa,aur nahin karenge kabhi koi gustaakhi।।


Written by sushil kumar

कोरोना के खतरनाक मंजर को जरा सोच कर के तो देखो।koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho।

Shayari koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho। मौत !मौत ! मौत ! बस हर जगह मौत है। प्रकृति की दिख रही आज सभी जग...