Showing posts with label दोस्ती की इंतहा।।. Show all posts
Showing posts with label दोस्ती की इंतहा।।. Show all posts

10 Mar 2018

दोस्ती की इंतहा।। dosti ki intehaan.

Shayari





दो जिगरी दोस्त थे।एक साथ स्कूल जाना,एक साथ कालेज जाना,एक साथ घूमने जाना।एक साथ शराब के अड्डे पर बैठना।फिर एक दोस्त की सगाई हुई,और फिर क्या दोस्तों के बीच दूरियां बढ़ने लगी।एक हमेशा फोन पर चिपका रहता, और दूसरा उसका इंतजार करता रहता।

दूसरे को लगा,कि अभी तो शादी होनी बाकि है,अभी ही उसे भूला दिया।फिर उसने बदला लेने के लिए,अपने घर पर शादी करने की फरमाइश कर डाली।माँ बाबू जी खुश।पर उसने एक शर्त रखी,कि सगाई और शादी एक ही दिन हो।लड़की की खोज जारी हुई,और एक लड़की पसंद आई।अगले महीने के दूसरे तारीख का दिन फिक्स किया गया शादी का दिन।कार्ड बना।उसने पहला कार्ड अपने दोस्त को देने पहुँचा।दोस्त बहुत खुश हुआ।शादी हुई और शादी के एक सप्ताह बाद ही दूसरा दोस्त पहले दोस्त के पास पहुँचा।
पहला दोस्त-क्या दोस्त हनीमून पर कहाँ जा रहे हो।
दूसरा दोस्त-अरे यार तेरी भाभी से उसी बात पर अनबन हो गया है।
पहला दोस्त- कैसे?
दूसरा दोस्त-वो बोलती है,शिमला जाएँगें, और मैं गोआ।
पहला दोस्त-अरे यार ये बात तो तू दिल में बाँध लो,कि बोस,बीबी और गर्लफ्रैंड हमेशा सही होते हैं,और हमेशा वही जीतते हैं।
दूसरा दोस्त ने भी हामी भर दी।।


do jigri dost the।ek saath skul jaanaa,ek saath kaalej jaanaa,ek saath ghumne jaanaa।ek saath sharaab ke adde par baithnaa।phir ek dost ki sagaai hui,aur phir kyaa doston ke bich duriyaan bdhne lagi।ek hameshaa phon par chipkaa rahtaa, aur dusraa uskaa entjaar kartaa rahtaa।

dusre ko lagaa,ki abhi to shaadi honi baaki hai,abhi hi use bhulaa diyaa।phir usne badlaa lene ke lia,apne ghar par shaadi karne ki pharmaaesh kar daali।maan baabu ji khush।par usne ek shart rakhi,ki sagaai aur shaadi ek hi din ho।ldki ki khoj jaari hui,aur ek ldki pasand aai।agle mahine ke dusre taarikh kaa din phiks kiyaa gayaa shaadi kaa din।kaard banaa।usne pahlaa kaard apne dost ko dene pahunchaa।dost bahut khush huaa।shaadi hui aur shaadi ke ek saptaah baad hi dusraa dost pahle dost ke paas pahunchaa।

pahlaa dost-kyaa dost hanimun par kahaan jaa rahe ho।

dusraa dost-are yaar teri bhaabhi se usi baat par anaban ho gayaa hai।

pahlaa dost- kaise?

dusraa dost-vo bolti hai,shimlaa jaaangen, aur main goaa।

pahlaa dost-are yaar ye baat to tu dil men baandh lo,ki bos,bibi aur garlaphraind hameshaa sahi hote hain,aur hameshaa vahi jitte hain।

dusraa dost ne bhi haami bhar di।।


Written by sushil kumar

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...