Showing posts with label जंगल का राजा।. Show all posts
Showing posts with label जंगल का राजा।. Show all posts

13 Mar 2017

जंगल का राजा।jungle ka raja

Shayari

Jungle ka raja


किसी जंगल में एक शेर राज किया करता था।उसके राज्य में हर जगह शांति और खुशहाली फैली हुई थी।उसके फैसले भी सदा न्याय पूर्वक ही रहा करते थे।सारी जंगल की प्रजा,उनके राजा से अत्यधिक प्यार करते थे।

       फिर समय बिता,और इस जंगल के राजा और जंगल की खुशहाली भरा जीवन की खबर दूर दूर तक पहुँच गई।सभी जगह इस जंगल के चर्चे छाए हुए थे।

      कुछ जंगल के राजा तो उस जंगल को हथियाना चाहते थे।पर वह जंगल तीन तरफ से प्राकृतिक संरचनाओं से घिरी पड़ी थी।
     उत्तर में पहाड़ और पूर्व और दक्षिण में नदी।बचा पक्षिम, तो पक्षिम में पूरे तरीके से चोकसी बढ़ा कर रखी हुई थी।
     तभी खबर आई कि पक्षिम में हमला हुआ है।वहाँ तैनात सैनीकों ने हमले का करारा जवाब दिया और दुश्मनों को खदेड़ कर भगाने में सफल हुए।
      उस हमले में कुछ सैनीक शहीद हुए,उन सैनीकों के परिवार को पर्याप्त मुआवजा दिया गया,साथ ही उस शहीद सैनीक को मरनोप्रांत वीर सम्मान,(जो उस राज्य का सबसे बड़ा सम्मान था) से सम्मानित किया गया।
       राजा ने नया कानून बनाया,और ऐलान किया कि,आज से हमारे सीमा पे जो  भी सैनीक तैनात रहेंगे,उनके परिवार का खर्चा राज्य उठाएगा।और सैनीकों की वेतन में हर वर्ष ढेड़ गुणा बढ़ोत्तरी की जाएगी।
       ऐसी खबर सुनते ही सैनीक की भर्ति में तेजी से इजाफा हुआ। राज्य और भी शक्तिशाली और सुदृढ़ हो गया।
        उस शेर राजा को समझ आ गया थी,कि अगर राज्य में शांति और खुशहाली बरकरार रखना है,तो उसके लिए हमारी सीमा को और भी मजबूत बनाना पड़ेगा,ताकि हमारी अजादी बरकरार रहे।वरना हमारी अजादी और मन की शान्ति दोनो खतरे में आ जाएंगे,और हमारी जनता भी तकलीफ में आ जाएगी।


kisi jangal men ek sher raaj kiyaa kartaa thaa।uske raajy men har jagah shaanti aur khushhaali phaili hui thi।uske phaisle bhi sadaa nyaay purvak hi rahaa karte the।saari jangal ki prjaa,unke raajaa se atyadhik pyaar karte the।


       phir samay bitaa,aur es jangal ke raajaa aur jangal ki khushhaali bharaa jivan ki khabar dur dur tak pahunch gayi।sabhi jagah es jangal ke charche chhaaa hua the।


      kuchh jangal ke raajaa to us jangal ko hathiyaanaa chaahte the।par vah jangal tin taraph se praakriatik sanrachnaaon se ghiri pdi thi।

     uttar men pahaad aur purv aur dakshin men nadi।bachaa pakshim, to pakshim men pure tarike se choksi bdhaa kar rakhi hui thi।

     tbhi khabar aai ki pakshim men hamlaa huaa hai।vahaan tainaat sainikon ne hamle kaa karaaraa javaab diyaa aur dushmnon ko khaded kar bhagaane men saphal hua।

      us hamle men kuchh sainik shahid hua,un sainikon ke parivaar ko paryaapt muaavjaa diyaa gayaa,saath hi us shahid sainik ko marnopraant vir sammaan,(jo us raajy kaa sabse bdaa sammaan thaa) se sammaanit kiyaa gayaa।

       raajaa ne nayaa kaanun banaayaa,aur ailaan kiyaa ki,aaj se hamaare simaa pe jo  bhi sainik tainaat rahenge,unke parivaar kaa kharchaa raajy uthaaagaa।aur sainikon ki vetan men har varsh dhed gunaa bdhottri ki jaaagi।

       aisi khabar sunte hi sainik ki bharti men teji se ejaaphaa huaa। raajy aur bhi shaktishaali aur sudridh ho gayaa।

        us sher raajaa ko samajh aa gayaa thi,ki agar raajy men shaanti aur khushhaali barakraar rakhnaa hai,to uske lia hamaari simaa ko aur bhi majbut banaanaa pdegaa,taaki hamaari ajaadi barakraar rahe।varnaa hamaari ajaadi aur man ki shaanti dono khatre men aa jaaange,aur hamaari jantaa bhi takliph men aa jaaagi।


Written by sushil kumar

कोरोना के खतरनाक मंजर को जरा सोच कर के तो देखो।koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho।

Shayari koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho। मौत !मौत ! मौत ! बस हर जगह मौत है। प्रकृति की दिख रही आज सभी जग...