Showing posts with label क्यों नहीं तुमसे प्यार हो सकता है?. Show all posts
Showing posts with label क्यों नहीं तुमसे प्यार हो सकता है?. Show all posts

18 Feb 2018

क्यों नहीं तुमसे प्यार हो सकता है? Kyun nahi tumse pyar ho sakta hai?

Shayari


Kyun nahi tumse pyar ho sakta hai.



जो तुम हो जरा नकचढ़ी,और रहती हो गुश्शे में हर घड़ी।
और इतना इठलाती हो,और जब भाव जो खाती हो।
 तुम्हारी अदाओं के तीर से,दिल छलनी हो जाता है।
पर क्या करूँ इस दिल का,जो तुमपे मरता है।।
जो तुम ना हो साथ,तो ये दिल तड़पता है।
क्यों नहीं तुमसे प्यार हो सकता है।
सकता है।
क्यों नहीं तुमसे प्यार हो सकता है।

जो तुम्हारी फरमाईश हो,तो चाँद को ले आऊँ।
चाँद क्या जो तुम बोलो तो सूरज को भी खींच लाऊँ।।
तुम्हारे चेहरे पे खुशी की झलक पाने को,
मैं कोई भी हद पार कर जाऊँ।।
जो तुम ना हो साथ,तो ये दिल तड़पता है।
क्यों नहीं तुमसे प्यार हो सकता है।
सकता है।
क्यों नहीं तुमसे प्यार हो सकता है।
दिल बेचारा तुम्हारे प्यार में धड़कता है।
धड़कता है।
क्यों नहीं तुमसे प्यार हो सकता है।



jo tum ho jaraa nakachdhi,aur rahti ho gushshe men har ghdi।

aur etnaa ethlaati ho,aur jab bhaav jo khaati ho।

 tumhaari adaaon ke tir se,dil chhalni ho jaataa hai।

par kyaa karun es dil kaa,jo tumpe martaa hai।।

jo tum naa ho saath,to ye dil tdaptaa hai।

kyon nahin tumse pyaar ho saktaa hai।

saktaa hai।

kyon nahin tumse pyaar ho saktaa hai।


jo tumhaari pharmaaish ho,to chaand ko le aaun।

chaand kyaa jo tum bolo to suraj ko bhi khinch laaun।।

tumhaare chehre pe khushi ki jhalak paane ko,

main koi bhi had paar kar jaaun।।

jo tum naa ho saath,to ye dil tdaptaa hai।

kyon nahin tumse pyaar ho saktaa hai।

saktaa hai।

kyon nahin tumse pyaar ho saktaa hai।

dil bechaaraa tumhaare pyaar men dhdaktaa hai।

dhdaktaa hai।

kyon nahin tumse pyaar ho saktaa hai।




Written by sushil kumar

कोरोना के खतरनाक मंजर को जरा सोच कर के तो देखो।koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho।

Shayari koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho। मौत !मौत ! मौत ! बस हर जगह मौत है। प्रकृति की दिख रही आज सभी जग...