Showing posts with label आत्महत्या से बड़ा पाप नहीं हो सकता है!. Show all posts
Showing posts with label आत्महत्या से बड़ा पाप नहीं हो सकता है!. Show all posts

15 Nov 2017

आत्महत्या से बड़ा पाप नहीं हो सकता है! Aatmahatya se bada paap nahin ho sakta hai.

Kahani

Aatmahatya se bada paap nahin ho sakta hai


पाप क्या है।अगर आप कोई कर्म करते हो,और उस कर्म के चलते,अगर किसी को कष्ट और तकलीफ पहुँचता है,तो वह पाप होता है।अब आप ही सोचिए, कि अगर कोई आत्महत्या करता है,तो उससे जुड़े लोगों को कितना तकलीफ होता है।अगर आप किसी कंपनी में काम करते हो,और काम के प्रेशर के चलते,अगर आप आत्महत्या करते हो,तो समझिए जो लोग आपसे जुड़े हुए हैं,उन्हे कितना तकलीफ होगा।वे लोग तो जीते जी मर जाते हैं।
       आज जो कहानी लेकर मैं आया हूँ,वह एक बैंक के ब्राँच मेनेजर की है।उनका नाम मोहन भैया था।वे अपने पिता भालदेव के इकलौते पुत्र थे।फिर मोहन भैया का शादी हुआ,और भाभी को लेकर मोहन भैया रायपुर चले गए, जहाँ उनकी पोस्टींग थी।अब वे ब्राँच मेनेजर बन गए थे।
      कभी कभी वे घर पर भी पैसा भेज दिया करते थे,क्योंकि उनके बाबूजी कलर्क से रिटायर्ड हुए थे,जिससे कि उनकी पेंशन घर चलाने के लिए, कभी कभी कम पड़ जाया करते थे।
      शादी के दो साल हो गए थे,भैया भाभी को मायके छोड़ने के लिए आए हुए थे।दरअसल भैया का ससुराल और घर एक ही शहर में था।भाभी प्रेग्नेंट थी।भैया भाभी को छोड़कर, घर चले आए।घर पर एक दिन  रुक कर,ड्यूटी करने के लिए वापस रायपुर चले गए।
      दो सप्ताह भी नहीं हुआ था,कि उनके आत्महत्या की खबर घर पर मिली।पूरा घर अश्रुओं की धारा में बह गया। सारा परिवार जीते जी मारे गएँ।माँ-पिता,पत्नी और बच्चे को अनाथ करके वह चल दिए।अब माँ बाबूजी का घर कैसे चलेगा।अब उनका परिवार किसके भरोसे  जिंदगी बसर करेंगे।उनकी पत्नी और उनके बच्चे का भविष्य कैसा होगा।उनकी बहन की शादी की शादी कैसे होगी।कितना तकलीफ भविष्य में झेलना पड़ेगा।कितने बड़े पाप के भागी हो गएँ मोहन भाई।
     जाते जाते उन्होंने एक सुसाईड नोट लिख के रख छोड़ा था।जिसे पत्रकारों ने अपने अपने समाचार पत्रिकाओं में छाप दिएँ।
    जिसमें भैया ने लिखा था,इश्वर मुझे अगले जन्म में रोबोट बनाना,ताकि जो भी इंस्ट्रक्शंस मुझे मिले,उसे फटाफट कर सकूँ।और मेनेज्मेंट के दिए गए सारे टारगेट को पूरा कर सकूँ।वरणा इस जन्म में तो हमारा जीना हराम कर दिया है।अगर दस मापदंडों के टारगेट में अगर आपने नौ भी पा लियो हो,फिर भी आपकी खैर नहीं।नौ के लिए आपको शाबाशी नहीं मिलेगी,पर जो एक नहीं हुआ है,उसके लिए इतनी अभद्र टिप्पणी मिलेगी,कि मानो आपने कोई मापदंडों पर खड़े ही नहीं उतरे हो।मैं लगातार हो रहे टोर्चर से तंग आकर,आज सुसाइड कर रहा हूँ।मैं अपने पापा,मम्मी, बहन,पत्नी सुजाता और होनेवाले बच्चे से बहुत प्यार करता हूँ।,I love you all.Bye and take care.
Mohan
अब मोहन भाई ने यहाँ हिम्मत हारकर जान दे दिया।जहाँ उन्हें चाहिए था कि सिस्टम से जुझे,और अगर सिस्टम नहीं बदलता है,तो खुद को बदल लें।और ज्यादा तकलीफ हो तो कोई नया काम देखकर चेंज करलें।आज पैसे कमाने के ओप्संस बहुत हैं।तकलीफों से भागना आसान है,पर उससे सामना करने वालों की ही जीत तय होती है।



paap kyaa hai।agar aap koi karm karte ho,aur us karm ke chalte,agar kisi ko kasht aur takliph pahunchtaa hai,to vah paap hotaa hai।ab aap hi sochia, ki agar koi aatmahatyaa kartaa hai,to usse jude logon ko kitnaa takliph hotaa hai।agar aap kisi kampni men kaam karte ho,aur kaam ke preshar ke chalte,agar aap aatmahatyaa karte ho,to samajhia jo log aapse jude hua hain,unhe kitnaa takliph hogaa।ve log to jite ji mar jaate hain।

       aaj jo kahaani lekar main aayaa hun,vah ek baink ke braanch menejar ki hai।unkaa naam mohan bhaiyaa thaa।ve apne pitaa bhaaldev ke eklaute putr the।phir mohan bhaiyaa kaa shaadi huaa,aur bhaabhi ko lekar mohan bhaiyaa raayapur chale gaye, jahaan unki posting thi।ab ve braanch menejar ban gaye the।

      kabhi kabhi ve ghar par bhi paisaa bhej diyaa karte the,kyonki unke baabuji kalark se ritaayard hua the,jisse ki unki penshan ghar chalaane ke lia, kabhi kbhi kam pd jaayaa karte the।

      shaadi ke do saal ho gaye the,bhaiyaa bhaabhi ko maayke chhodne ke lia aaa hua the।darasal bhaiyaa kaa sasuraal aur ghar ek hi shahar men thaa।bhaabhi pregnent thi।bhaiyaa bhaabhi ko chhodkar, ghar chale aaa।ghar par ek din  ruk kar,dyuti karne ke lia vaapas raayapur chale gaye।

      do saptaah bhi nahin huaa thaa,ki unke aatmahatyaa ki khabar ghar par mili।puraa ghar ashruon ki dhaaraa men bah gayaa। saaraa parivaar jite ji maare gan।maan-pitaa,patni aur bachche ko anaath karke vah chal dia।ab maan baabuji kaa ghar kaise chalegaa।ab unkaa parivaar kiske bharose  jindgi basar karenge।unki patni aur unke bachche kaa bhavishy kaisaa hogaa।unki bahan ki shaadi ki shaadi kaise hogi।kitnaa takliph bhavishy men jhelnaa pdegaa।kitne bde paap ke bhaagi ho gan mohan bhaai।

     jaate jaate unhonne ek susaaid not likh ke rakh chhodaa thaa।jise patrkaaron ne apne apne samaachaar patrikaaon men chhaap dian।

    jismen bhaiyaa ne likhaa thaa,eshvar mujhe agle janm men robot banaanaa,taaki jo bhi enstrakshans mujhe mile,use phataaphat kar sakun।aur menejment ke dia gaye saare taarget ko puraa kar sakun।varnaa es janm men to hamaaraa jinaa haraam kar diyaa hai।agar das maapadandon ke taarget men agar aapne nau bhi paa liyo ho,phir bhi aapki khair nahin।nau ke lia aapko shaabaashi nahin milegi,par jo ek nahin huaa hai,uske lia etni abhadr tippni milegi,ki maano aapne koi maapadandon par khde hi nahin utre ho।main lagaataar ho rahe torchar se tang aakar,aaj susaaed kar rahaa hun।main apne paapaa,mammi, bahan,patni sujaataa aur honevaale bachche se bahut pyaar kartaa hun।,I love you all.Bye and take care.

Mohan

ab mohan bhaai ne yahaan himmat haarakar jaan de diyaa।jahaan unhen chaahia thaa ki sistam se jujhe,aur agar sistam nahin badaltaa hai,to khud ko badal len।aur jyaadaa takliph ho to koi nayaa kaam dekhakar chenj karlen।aaj paise kamaane ke opsans bahut hain।takliphon se bhaagnaa aasaan hai,par usse saamnaa karne vaalon ki hi jit tay hoti hai।


Written by sushil kumar

      

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...