Showing posts with label अहंकार. Show all posts
Showing posts with label अहंकार. Show all posts

17 Mar 2017

अहंकार...Ahankar......

Shayari

Ahankar


कोई भी मनुष्य का सबसे बड़ा काल,उसका अहंकार होता है।जिस दिन मनुष्य ने अहंकार पर विजय पा लिया,उस दिन समझो उसने ईश्वर को प्राप्त कर लिया।

आज मैं जो कहानी लेकर आया हूँ,इसमें आप देखेंगे कि मनुष्य कैसे ईश्वर को भी ढुंढ रहा है,और खुद को भी ईश्वर से कम नहीं आंक रहा है।

ये कहानी है,मनोहर की।मनोहर एक आम आदमी था।वह भगवान का बहुत बड़ा श्रद्धालु था।उसका बस दो ही काम था।सुबह से शाम तक कपड़े का धंधा करता था,और बाकी बचे समय में ईश्वर की भजन भक्ति में डूबा रहता था।

       फिर धीरे धीरे समय बदला।और समय के साथ साथ मनोहर का दिन भी बदला।मनोहर अब कपड़े का बहुत बड़ा व्यापारी हो गया था।

       जैसे जैसे उसका समय बदला वैसे वैसे ही वह ईश्वर से दूर होता चला गया।अहंकार ने उसे पूरी तरीके से जकड़ लिया था।अब वह किसी को नहीं बुझता था।

        मनुष्य जब तक तकलीफ में होता है,तब तक वह ईश्वर की भजन भक्ति में लगा रहता है।और ईश्वर को नहीं भूलता है।पर जैसे ही उसका समय बदलता है,और वह सुखी सम्पन्न हो जाता है,तब वह ईश्वर को भूल कर ऐश और आराम की जिन्दगी में व्यस्त हो जाता है।


koi bhi manushy kaa sabse bdaa kaal,uskaa ahankaar hotaa hai।jis din manushy ne ahankaar par vijay paa liyaa,us din samjho usne ishvar ko praapt kar liyaa।


aaj main jo kahaani lekar aayaa hun,esmen aap dekhenge ki manushy kaise ishvar ko bhi dhundh rahaa hai,aur khud ko bhi ishvar se kam nahin aank rahaa hai।


ye kahaani hai,manohar ki।manohar ek aam aadmi thaa।vah bhagvaan kaa bahut bdaa shraddhaalu thaa।uskaa bas do hi kaam thaa।subah se shaam tak kapde kaa dhandhaa kartaa thaa,aur baaki bache samay men ishvar ki bhajan bhakti men dubaa rahtaa thaa।


       phir dhire dhire samay badlaa।aur samay ke saath saath manohar kaa din bhi badlaa।manohar ab kapde kaa bahut bdaa vyaapaari ho gayaa thaa।


       jaise jaise uskaa samay badlaa vaise vaise hi vah ishvar se dur hotaa chalaa gayaa।ahankaar ne use puri tarike se jakd liyaa thaa।ab vah kisi ko nahin bujhtaa thaa।


        manushy jab tak takliph men hotaa hai,tab tak vah ishvar ki bhajan bhakti men lagaa rahtaa hai।aur ishvar ko nahin bhultaa hai।par jaise hi uskaa samay badaltaa hai,aur vah sukhi sampann ho jaataa hai,tab vah ishvar ko bhul kar aish aur aaraam ki jindgi men vyast ho jaataa hai

Written by sushil kumar

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...