Showing posts with label अँख लग गई. Show all posts
Showing posts with label अँख लग गई. Show all posts

19 Feb 2018

आँख लग गई,और मैं सो गया।। aankh lag gai aur main so gaya.

Shaayri

आँख लग गई,और मैं सो गया।। aankh lag gai aur main so gaya.


खेल के आया मैं लोंडा
              और बिस्तर पर बैठा जो पढ़ने को।
ध्यान भटक गया मेरा,
                जब नजर में आया मोबाइल फोन।
दोस्त ने बोला था कि।।(2)
उसने पार किया दसवा लेवल ।।
पर मैं तो साला अभी भी था दूसरे लेवल पर
फाईनल फैन्टेसी का।
उठाया फोन लगा खेलने, अपना लेवल बढ़ाने को।।
 माँ ने देख लिया,उठाया बैलना।।
                        लगा कूटने मोहे को।।
अरे माँ,ओ माँ,मोरे मईया,अब ना खेलूँगा कोई गेम।।
माँ ने छीन लिया मोबाइल,और बोला
                          पढ़ने के वक्त नहीं मिलेगा फोन।
फिर मैने उठाया पेन,
                          पूरा करने होमवर्क को।।
वरना फिर से कूटेगा वो मुच्छड़।।
                            काला सांड मैथ्स का गोड।।
छड़ी खाने का डर नहीं है मुझको।।
                         और ना ही डर है सहपाठियों की हँसी का।
डर तो केवल प्रीति का है
                          कहीं वह ना हंसदे,देख मेरे पनिस्मेंट को।।
मैं उससे प्यार बहुत करता हूँ,
                            दिलो जान से मरता हूँ।।
उसके प्यार के ख्याल लिए
                             पता नहीं अँख कब लग गई।।
हाथ से पैन छूट गया
                            और पता नहीं किधर घिसक गई।।
उसके प्यार के सपनो में खोया हुआ था जब मैं तल्लीन।।
   बड़ी ही प्यारी थी,उसकी हँसी,और दिल हो चला था मशगूल।
तभी जोर से चोट लगी मुझे और
                              उठकर बैठ गया चुक्कु मुक्कु।
पापा डाँट रहें थे मुझको।
                              पढ़ाई छोड़,तू सो रहा है।।
चल उठ खाने का वक्त हो चला है
                           कल स्कूल नहीं जाने का है।।
             

khel ke aayaa main londaa

              aur bistar par baithaa jo pdhne ko।

dhyaan bhatak gayaa meraa,

                jab najar men aayaa mobaael phon।

dost ne bolaa thaa ki।।(2)

usne paar kiyaa dasvaa leval ।।

par main to saalaa abhi bhi thaa dusre leval par

phaainal phaintesi kaa।

uthaayaa phon lagaa khelne, apnaa leval bdhaane ko।।

 maan ne dekh liyaa,uthaayaa bailnaa।।

                        lagaa kutne mohe ko।।

are maan,o maan,more miyaa,ab naa khelungaa koi gem।।

maan ne chhin liyaa mobaael,aur bolaa

                          pdhne ke vakt nahin milegaa phon।

phir maine uthaayaa pen,

                          puraa karne homavark ko।।

varnaa phir se kutegaa vo muchchhd।।

                            kaalaa saand maiths kaa god।।

chhdi khaane kaa dar nahin hai mujhko।।

                         aur naa hi dar hai sahpaathiyon ki hnsi kaa।

dar to keval priti kaa hai

                          kahin vah naa hansde,dekh mere panisment ko।।

main usse pyaar bahut kartaa hun,

                            dilo jaan se martaa hun।।

uske pyaar ke khyaal lia

                             ptaa nahin ankh kab lag gayi।।

haath se pain chhut gayaa

                            aur pataa nahin kidhar ghisak gayi।।

uske pyaar ke sapno men khoyaa huaa thaa jab main tallin।।

   bdi hi pyaari thi,uski hnsi,aur dil ho chalaa thaa mashgul।

tabhi jor se chot lagi mujhe aur

                              uthakar baith gayaa chukku mukku।

paapaa daant rahen the mujhko।

                              pdhaai chhod,tu so rahaa hai।।

chal uth khaane kaa vakt ho chalaa hai

                           kal skul nahin jaane kaa hai।।

           


Written by sushil kumar

कोरोना के खतरनाक मंजर को जरा सोच कर के तो देखो।koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho।

Shayari koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho। मौत !मौत ! मौत ! बस हर जगह मौत है। प्रकृति की दिख रही आज सभी जग...