4 Jan 2020

तुम उड़ो Tum udo

Shayari


Flying

तुम उड़ो

सारा आसमान तुम्हारा है।
हिमालय की चोटी
और सारी कायनात तुम्हारा है।

कभी चोट लगे
तो ज़ख्म देख
कभी घबराना नहीं।
मंजिल तुम्हारी परीक्षा लेगी
अपने हौसले की सूरज को
कभी ढलने देना नहीं।

आज भले तुम्हारी चाल देख
लोगों की तुम पर हँसी छूट रही हो।
तुम्हारे गिरते पसीने देख
तुम भले उनके मजाक का पात्र
बन रहे हो।
पर तुम अपने पथ से
जरा भी ना अस्थिर होना।

लोगों की हँसी
कब मुस्कुराहट में बदल जाए।
और उनकी मुस्कुराहट कब सम्मान में
बदल जाए।
बस उस पल को हासिल करने को
तुम स्वयं से लड़ते रहना।



tum udo

saaraa aasmaan tumhaaraa hai।

himaalay ki choti

aur saari kaaynaat tumhaaraa hai।


kabhi chot lage

to jkhm dekh

kabhi ghabraanaa nahin।

manjil tumhaari parikshaa legi

apne hausle ki suraj ko

kabhi dhalne denaa nahin।


aaj bhale tumhaari chaal dekh

logon ki tum par hnsi chhut rahi ho।

tumhaare girte pasine dekh

tum bhale unke majaak kaa paatr

ban rahe ho।

par tum apne path se

jaraa bhi naa asthir honaa।


logon ki hnsi

kab muskuraahat men badal jaaa।

aur unki muskuraahat kab sammaan men

badal jaaa।

bas us pal ko haasil karne ko

tum svayan se ldte rahnaa।


Written by sushil kumar

No comments:

मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ।main jitni daphaa tumse bichhudtaa hun

Shayari मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ उतनी ही दफा मैं घुट घुट कर मरता हूँ। तुम कहते हो कि मैं गायब होता जा रहा हूँ। पहले ७० कि...