20 Jan 2020

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai.


Shayari


तकलीफ मेरे हिस्से की
तू मुझे ही सहने दे।
आँसू मेरे बादल के
तू मुझ पर ही बरसने दे।

सारे मुसीबतों के पल
मैं खुशी खुशी झेल जाऊँगा।
पर तेरे मुरझाए चेहरे को देखा जो
जीते जी ना मर जाऊँ मैं।

मेरे सारे खुशी के पल
बस तेरे ही नाम कर दूँ।
तेरे राह में आने वाले सारे गम को
मैं कहीं गुमनाम कर दूँ।

तेरे खिलखिलाते चेहरे को देख
मैं हर पल में सदियों जी आता हूँ।
तुझे क्या पता?
तुझसे ही शुरू
और तुझपे ही खत्म
मेरी दुनिया है।




takliph mere hisse ki

tu mujhe hi sahne de।

aansu mere baadal ke

tu mujh par hi barasne de।


saare musibton ke pal

main khushi khushi jhel jaaunga।

par tere murjhaaa chehre ko dekhaa jo

jite ji naa mar jaaun main।


mere saare khushi ke pal

bas tere hi naam kar dun।

tere raah men aane vaale saare gam ko

main kahin gumnaam kar dun।


tere khilakhilaate chehre ko dekh

main har pal men sadiyon ji aataa hun।

tujhe kyaa pataa?

tujhse hi shuru

aur tujhpe hi khatm

meri duniyaa hai।


Written by sushil kumar

No comments:

मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ।main jitni daphaa tumse bichhudtaa hun

Shayari मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ उतनी ही दफा मैं घुट घुट कर मरता हूँ। तुम कहते हो कि मैं गायब होता जा रहा हूँ। पहले ७० कि...