6 Jan 2020

जिंदगी की जिंदगी से होड़ है।jindgi ki jindgi se hod hai।

Shayari



जिंदगी की जिंदगी से होड़ है

हर कोई दिख रहा यहाँ बेखौफ है।
किसी को किसी की भी परवाह नहीं
मंजिल सर्वोपरि है किसी की भी जान से।


Draupadi


द्रोपदी लग रही है दाव पर
महाभारत काल से।
द्वापर युग में लाज रख ली थी
माखनचोर गोपाल ने।
पर अभी कौन बचाएगा
कलयुग के महा प्रभाव से।

भक्तो का रो रोकर आज बुरा हाल है
जहाँ देखा वहीं रावण का
बिछा हुआ गन्दा जाल है।
पर उस जाल से छुड़ाने वाले राम का
कहीं नहीं पता है।

आज ब्रह्मांड के हर कन कण से
बस यही आह्वान है।
हे ईश्वर इस धरती पर
ले कल्कि का अवतार प्रगट हो ।
कर विनाश इस कलयुग का
सतयुग का तू द्वार खोल।
Kalki



jindgi ki jindgi se hod hai

har koi dikh rahaa yahaan bekhauph hai।

kisi ko kisi ki bhi parvaah nahin

manjil sarvopari hai kisi ki bhi jaan se।


dropdi lag rahi hai daav par

mahaabhaarat kaal se।

dvaapar yug men laaj rakh li thi

maakhanchor gopaal ne।

par abhi kaun bachaaagaa

kalayug ke mahaa prbhaav se।


bhakto kaa ro rokar aaj buraa haal hai

jahaan dekhaa vahin raavan kaa

bichhaa huaa gandaa jaal hai।

par us jaal se chhudaane vaale raam kaa

kahin nahin pataa hai।


aaj brahmaand ke har kan kan se

bas yahi aahvaan hai।

he ishvar es dharti par

le kalki kaa avtaar pragat ho ।

kar vinaash es kalayug kaa

satayug kaa tu dvaar khol।


Written by sushil kumar






No comments:

मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ।main jitni daphaa tumse bichhudtaa hun

Shayari मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ उतनी ही दफा मैं घुट घुट कर मरता हूँ। तुम कहते हो कि मैं गायब होता जा रहा हूँ। पहले ७० कि...