26 Jan 2020

आज़ादी सारे गद्दारों से कब मिलेगी?azadi sare gaddaron se kab milegi?

आज़ादी के नारे लगाने वाले
आज आजादी को दाव पर लगा रहे हैं।
आज़ादी के तने में घुस के ये दीमक
हमारी आज़ादी को खोखला बना रहे हैं।

इन दोगलों से क्या मुँह लगे हम
ये हमें क्या पाठ पढ़ा रहे हैं।
माँ तुम्हें तुमसे अलग करने को
भाई को भाई से लड़वा रहे हैं।

ये मुट्ठी भर देशद्रोहियों ने
आज फिर से कोई गन्दा षड्यंत्र रचे हैं।
धर्मवाद और जातिवाद के नाम पर फिर से
हम भारतीयों में फूट डालने की चाल चल रहे हैं।

कोई नहीं कोशिश कर लेने दो इन गद्दारों को।
हम टस से मस नहीं होएँगे।
अपनी विविधताओं को
प्रेम की अटूट धागे से
सदा हम मजबूती से
बांधे रहेंगे।

मेरे देश
मेरे लोग
मेरे भारत के हर कण कण की कसम।
ए माँ तेरे अंग को और ना कटने देंगे।
१९४७ की वो गलती को फिर से
हम नहीं दुबारा पनपने देंगे।
सुधर जाओ तुम नमकहरामों अब वरना
हम और बचकानी हरकतों को नहीं सहेंगे।
जो भारत की अखंडता पर सवाल उठा जो
तुम्हें नर्क के द्वार पहुँचा कर ही दम देंगे।

हमारी नसों में बहते खून के कतरे कतरे में
भगत सिंह और असफाकउल्लाह वास करते हैं।
देश के लिए जान लेने और देने को
हम तत्पर सदा यहाँ रहते हैं।


वन्दे मातरम।।

आज़ादी




aajaadi ke naare lagaane vaale

aaj aajaadi ko daav par lagaa rahe hain।

aajaadi ke tane men ghus ke ye dimak

hamaari aajaadi ko khokhlaa banaa rahe hain।


en doglon se kyaa munh lage ham

ye hamen kyaa paath pdhaa rahe hain।

maan tumhen tumse alag karne ko

bhaai ko bhaai se ldvaa rahe hain।


ye mutthi bhar deshadrohiyon ne

aaj phir se koi gandaa shadyantr rache hain।

dharmvaad aur jaativaad ke naam par phir se

ham bhaartiyon men phut daalne ki chaal chal rahe hain।


koi nahin koshish kar lene do en gaddaaron ko।

ham tas se mas nahin hoange।

apni vividhtaaon ko

prem ki atut dhaage se

sadaa ham majbuti se

baandhe rahenge।


mere desh

mere log

mere bhaarat ke har kan kan ki kasam।

aye maan tere ang ko aur naa katne denge।

1947 ki vo galti ko phir se

ham nahin dubaaraa panapne denge।

sudhar jaao tum namakahraamon ab varnaa

ham aur bachkaani harakton ko nahin sahenge।

jo bhaarat ki akhandtaa par savaal uthaa jo

tumhen nark ke dvaar pahunchaa kar hi dam denge।


hamaari nason men bahte khun ke katre katre men

bhagat sinh aur asphaakullaah vaas karte hain।

desh ke lia jaan lene aur dene ko

ham tatpar sadaa yahaan rahte hain।



vande maataram।।









No comments:

मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ।main jitni daphaa tumse bichhudtaa hun

Shayari मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ उतनी ही दफा मैं घुट घुट कर मरता हूँ। तुम कहते हो कि मैं गायब होता जा रहा हूँ। पहले ७० कि...