13 Jan 2020

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे।

Shayari


मेरे भारत देश के मिट्टी की 
बात बड़ी ही निराली है।
यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में
छिपी हुई एक चिंगारी है।

एक से एक महान लड़ाकू 
यहाँ पैदा हुए 
समाज में लाने को क्रांति।
कुछ शहीद हुए
कुछ कैद हुए।
पर बुझी नहीं उनकी मशाल 
इन्कलाब की ।

आज भले कुछ घनघोर बादलों ने
पुरजोर साजिश रची है
सूरज को तमलीन करने की।
पर यहाँ के हर कण कण में
भगत सिंह और चन्द्रशेखर के
जज्बात आज भी जिन्दे हैं
जो इन्हें कभी भी
हारने देंगे नहीं।
Fighter


mere bhaarat desh ke mitti ki

baat bdi hi niraali hai।

yahaan janm lene vaale har shakhs ke khun men

chhipi hui ek chingaari hai।


ek se ek mahaan ldaaku

yahaan paidaa hua

samaaj men laane ko kraanti।

kuchh shahid hua

kuchh kaid hua।

par bujhi nahin unki mashaal

enklaab ki ।


aaj bhale kuchh ghanghor baadlon ne

purjor saajish rachi hai

suraj ko tamlin karne ki।

par yahaan ke har kan kan men

bhagat sinh aur chandrshekhar ke

jajbaat aaj bhi jinde hain

jo enhen kabhi bhi

haarne denge nahin।



Written by sushil kumar

No comments:

मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ।main jitni daphaa tumse bichhudtaa hun

Shayari मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ उतनी ही दफा मैं घुट घुट कर मरता हूँ। तुम कहते हो कि मैं गायब होता जा रहा हूँ। पहले ७० कि...