20 Nov 2019

Jeet kinare par baithkar nahi milti hai

Shayari

जीत किनारे पर बैठकर नहीं मिलती है।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Win
Win

हताश क्यों हो रहे हो?
सफर अभी बाकी है।
हार से परेशान क्यों हो रहे हो?
मंजिल अभी बाकी है।

माना आज तुमने
कोशिश तो भरपूर की थी।
पर ठोकर कुछ अभी बाकी है।
चोटें भी अभी कुछ ही मिली हैं
आगे पुराने जख्म तक
हरे हो जाएँगे।
पर अपना बहता लहू देख
आज जो तुम डर जाओगे।
इतिहास क्या खाक बनाओगे?
जो तुम आज खुद से ना लड़ पाओगे।

सो उठाओ कदम!
बुलन्द कर अपने हौसले को।
करो चढ़ाई अपने अंदर के डर पे
और करलो फतह अपने किले को।
Win
Win☺







hataash kyon ho rahe ho?

saphar abhi baaki hai।

haar se pareshaan kyon ho rahe ho?

manjil abhi baaki hai।


maanaa aaj tumne

koshish to bharpur ki thi।

par thokar kuchh abhi baaki hai।

choten bhi abhi kuchh hi mili hain

aage puraane jakhm tak

hare ho jaaange।

par apnaa bahtaa lahu dekh

aaj jo tum dar jaaoge।

etihaas kyaa khaak banaaoge?

jo tum aaj khud se naa ld paaoge।


so uthaao kadam!

buland kar apne hausle ko।

karo chdhaai apne andar ke dar pe

aur karlo phatah apne kile ko।


Written by sushil kumar
Shayari

No comments:

Badhali

Shayari ऐसी बदहाली आज दिल पे जो छाई है। मन  है बदहवास और आँखों में नमी आई है। हर वक्त बस ईश्वर से यही दुहाई है। खैर रखना उनकी, मेरी ...