2 Nov 2019

सच्चा आशिक

Shayari

सच्चा आशिक।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।





मैं नहीं बोलता हूँ कि
तू मेरी जानशीन ही बन जाओ।
मुझे तो अगर तुम एक दोस्त ही बनाकर
अगर अपने हृदय में
एक छोटी सी जगह दे दो
तो मैं ये सारा जीवन
खुशी खुशी गुजार लूँगा।

ये मुमकिन नहीं कि
हर चाहने वाले को
उसकी चाहत नसीब ही हो जाए।
परिस्थितियों के अनुसार
अपने चाहत के दायरे को तय करना ही
सच्चे आशिक की पहचान है।

मोहब्बत केवल पाने का नहीं
बल्कि कुर्बानी का भी नाम है।
अगर जो तुम अपने माशूका की खुशी पूरी करने को
पूरी जद्दोजहद से कोशिश की
तो उससे बड़ी प्रेम की मिसाल
दुनिया में नहीं मिल सकती है।

Written by sushil kumar
Shayari

No comments:

जितनी बार मैं तेरे करीब आया

Shayari जितनी बार मैं तेरे करीब आया kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है। जितनी बार मैं तेरे करीब आया उतनी बार दिल म...