9 Nov 2019

Maa baap ka sath anmol hai.

Shayari

माँ बाप ईश्वर के द्वारा दिया गया सबसे बड़ा तोहफा है।उनका सम्मान होना ही चाहिए।आज हम जो भी हैं,उनके संस्कार के कारण ही हैं।जो माँ बाप का सम्मान करता है,उसके साथ ईश्वर भी खड़ा रहता है।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Parents are valuable


मैं बदला
तुम बदले
बदला सब जग यहाँ पर।

नहीं बदला कोई
अगर यहाँ पर
वो माता पिता कहलाएँ।

कल जो बच्चा
बच्चा था
माँ बाप के नज़र में।
उम्र गुज़र जाने के
बाद भी
नहीं बदला है वो नज़रिया।

आज भी माँ
ठीक वैसे ही
मुझे डांट डपट करती है।
जब खाना छोड़ मैं
भागने के फिराक में रहता हूँ आफिस को
देर हो जाने की वजह से।
फर्क यही है कि
उस वक़्त स्कूल
मैं जाया करता था।
पर आज आफिस की भागम भाग में भी
माँ का आशीर्वाद सदा साथ में रहता है।

वो जब बचपन में
सर भारी भारी
हो जाया करता था
स्कूल में।
घर पहुँचने के बाद
माँ के तेल के चम्पी से
सर से भार
छू मंतर हो जाया करता था
एक क्षण में।
आज भी आफिस से जब
थक हार कर
घर को वापस जब आता हूँ।
माँ के हाथों के जादू का प्रभाव
आज भी ठीक वैसे ही है
पाता हूँ।

पापा के तो बात ही निराले हैं
वो अनुशासन और स्वास्थ्य के दीवाने हैं।
आज भी सुबह सुबह
जॉगिंग करने को
मुझे सूर्योदय से पहले
फ़ोन कर उठाते हैं।
और जो कभी नहीं उठ पाया समय पर
मुझे ज्ञान की पाठ पढ़ाते हैं।
वो कल बचपन में
कुछ ज्यादा ही कड़क थे।
आज कुछ नरमी बरतते हैं।
आफिस से लेट आने पर वो
स्वयं दौड़ लगा घर आ जाते हैं।

बचपन में जब पापा आफिस से
घर लौट आते थे।
समोसे और रसगुल्ले की पैकेट
थैली में भर लाते थे।
आज भी जब वो शाम में
सब्जी लेकर घर आते हैं।
समोसे और रसगुल्ले की थैली
सदा साथ में लाते हैं।
Parents are valuable

हर माँ बाप का सम्मान हो
ईश्वर से पहले उनका गुणगान हो।
माँ और पिता
एक अनमोल उपहार हैं
ईश्वर के।
जिनके छत्रछाया के बिना
नहीं बन सकते हैं
हम विश्व विजेता।








main badlaa

tum badle

badlaa sab jag yahaan par।


nahin badlaa koi

agar yahaan par

vo maataa pitaa kahlaaan।


kal jo bachchaa

bachchaa thaa

maan baap ke njar men।

umr gujr jaane ke

baad bhi

nahin badlaa hai vo njariyaa।


aaj bhi maan

thik vaise hi

mujhe daant dapat karti hai।

jab khaanaa chhod main

bhaagne ke phiraak men rahtaa hun aaphis ko

der ho jaane ki vajah se।

phark yahi hai ki

us vkt skul

main jaayaa kartaa thaa।

par aaj aaphis ki bhaagam bhaag men bhi

maan kaa aashirvaad sadaa saath men rahtaa hai।


vo jab bachapan men

sar bhaari bhaari

ho jaayaa kartaa thaa

skul men।

ghar pahunchne ke baad

maan ke tel ke champi se

sar se bhaar

chhu mantar ho jaayaa kartaa thaa

ek kshan men।

aaj bhi aaphis se jab

thak haar kar

ghar ko vaapas jab aataa hun।

maan ke haathon ke jaadu kaa prbhaav

aaj bhi thik vaise hi hai

paataa hun।


paapaa ke to baat hi niraale hain

vo anushaasan aur svaasthy ke divaane hain।

aaj bhi subah subah

jaging karne ko

mujhe suryoday se pahle

fon kar uthaate hain।

aur jo kabhi nahin uth paayaa samay par

mujhe jyaan ki paath pdhaate hain।

vo kal bachapan men

kuchh jyaadaa hi kdak the।

aaj kuchh narmi baratte hain।

aaphis se let aane par vo

svayan daud lagaa ghar aa jaate hain।


bachapan men jab paapaa aaphis se

ghar laut aate the।

samose aur rasagulle ki paiket

thaili men bhar laate the।

aaj bhi jab vo shaam men

sabji lekar ghar aate hain।

samose aur rasagulle ki thaili

sadaa saath men laate hain।




har maan baap kaa sammaan ho

ishvar se pahle unkaa gungaan ho।

maan aur pitaa

ek anmol uphaar hain

ishvar ke।

jinke chhatrchhaayaa ke binaa

nahin ban sakte hain

ham vishv vijetaa।



Written by sushil kumar
Shayari

1 comment:

Abhishek kant pandey said...

Bahoot acha

Link my blog

https://prakharchetna.blogspot.com/?m=1

मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ।main jitni daphaa tumse bichhudtaa hun

Shayari मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ उतनी ही दफा मैं घुट घुट कर मरता हूँ। तुम कहते हो कि मैं गायब होता जा रहा हूँ। पहले ७० कि...