26 Nov 2019

Mere humrahi tumsa koi nahin

Shayari

मेरे हमराही तुमसा कोई नहीं।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

मेरे हमराही तुमसा
कोई नहीं।
तुम्हें समझ पाना
कभी मुमकिन ना हो पाया।
जब कभी लगा कि
मैं तुम्हें पहचान सा गया हूँ
तब तब खुद को मैं
धोखे में हूँ पाया।

ईश्वर ने बड़ी फुरसत से
हमारी जोड़ी को है बनाया।
तुम्हारे बिन नामुमकिन सा था
जीवन पथ पर सही कदम
आगे को बढ़ाना।
ठोकरें तो बहुत लगी
पर हमेशा तुमने
गिरने से है बचाया।
झगड़े भी बहुत हुए हमदोनो में
पर उतना ही करीब
तुमसे मैने
खुद को है पाया।

कभी नाराज भी जो रहती थी तुम
और मैं किसी मुसीबत में
खुद को घिरा हुआ पाया ।
तुम खींची चली आती थी
मेरे बचाव में।
मेरे और तकलीफ के बीच
सदा मैने तुमको ही पाया।

तुम कैसे इतना कर पाती हो?
मुझे इसका राज़ नहीं पता चल पाया ।
शायद कोई बहुत बड़ी शक्ति है तुम्हारे पीछे
जो तुम्हें दे जाती है इसका आभास हर बार ।

सच्चे इश्क़ और मोहब्बत की कहानियां
बहुत पढ़ी थी मैने।
पर महसूस तभी कर पाया
जब तुम्हें अपने साथ पाया।

सही में
कठिन से कठिन राह
आसान हो जाता है जिंदगी में।
जब कोई हमराही तुमसा
नसीब में मिल जाता है
जीवन बिताने के लिए।





mere hamraahi tumsaa

koi nahin।

tumhen samajh paanaa

kabhi mumakin naa ho paayaa।

jab kabhi lagaa ki

main tumhen pahchaan saa gayaa hun

tab tab khud ko main

dhokhe men hun paayaa।


ishvar ne bdi phurasat se

hamaari jodi ko hai banaayaa।

tumhaare bin naamumakin saa thaa

jivan path par sahi kadam

aage ko bdhaanaa।

thokren to bahut lagi

par hameshaa tumne

girne se hai bachaayaa।

jhagde bhi bahut hua hamdono men

par utnaa hi karib

tumse maine

khud ko hai paayaa।


kabhi naaraaj bhi jo rahti thi tum

aur main kisi musibat men

khud ko ghiraa huaa paayaa ।

tum khinchi chali aati thi

mere bachaav men।

mere aur takliph ke bich

sadaa maine tumko hi paayaa।


tum kaise etnaa kar paati ho?

mujhe eskaa raaj nhin pataa chal paayaa ।

shaayad koi bahut bdi shakti hai tumhaare pichhe

jo tumhen de jaati hai eskaa aabhaas har baar ।


sachche eshk aur mohabbat ki kahaaniyaan

bahut pdhi thi maine।

par mahsus tabhi kar paayaa

jab tumhen apne saath paayaa।


sahi men

kathin se kathin raah

aasaan ho jaataa hai jindgi men।

jab koi hamraahi tumsaa

nasib men mil jaataa hai

jivan bitaane ke lia।



Written by sushil kumar
Shayari


No comments:

Meri khamoshi mein ek sandesh hai.

Shayari मेरी खामोशी में एक संदेश है। kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है। मेरी खामोशी देख तुम्हें तो आज बड़ा ही सुकून...