19 Nov 2019

Kaun apna,kaun paraya

Shayari

कौन अपना कौन पराया

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

कल तक जिस पर मुझे
खुद से भी ज्यादा भरोसा था।
जो अपना सबसे बड़ा
शुभचिंतक हुआ करता था।
आज वो मीर जाफर
विरोधी गुट में जाकर मिल गया है।
और आत्मघाती हमले की
योजना बना रहा है।

कौन अपना
कौन पराया
ये समझ पाना मुश्किल हो रहा है।
हर कोई यहाँ अपनेपन की
मुखौटा पहने घूम रहै हैं।
जिसे अपना समझकर
हम अपने गले लगा रहे थे
वो भी सिंहनख अपने हाथों में
कब से छुपा रखे थे।





kal tak jis par mujhe

khud se bhi jyaadaa bharosaa thaa।

jo apnaa sabse bdaa

shubhachintak huaa kartaa thaa।

aaj vo mir jaaphar

virodhi gut men jaakar mil gayaa hai।

aur aatmghaati hamle ki

yojnaa banaa rahaa hai।


kaun apnaa

kaun paraayaa

ye samajh paanaa mushkil ho rahaa hai।

har koi yahaan apnepan ki

mukhautaa pahne ghum rahai hain।

jise apnaa samajhakar

ham apne gale lagaa rahe the

vo bhi sinhanakh apne haathon men

kab se chhupaa rakhe the।


Written by sushil kumar
Shayari






तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...