21 Nov 2019

Jara sambhal ke rahna mujhse

Shayari

जरा संभल के रहना मुझसे।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


मुझे चुप देखकर
मेरे सहनशीलता को लोग
बुजदिली से नाप रहे हैं।

उनके मन में
मुझ पर हावी होने के
नए नए विचार कुलबुला रहे हैं।

वो चाह रहे हैं मुझपर
अपना हक जताने को।
अनचाहे काम भी
वो चाह रहे हैं हमसे करवाने को।

उनकी धृष्ठता देख देख
मैं मन ही मन
मुस्कुरा रहा हूँ।

क्यों चिंगारी ले
मेरे मन में दबे बारूद को
फिर से वो सुलगा रहे हैं।

जाने अनजाने कहीं भस्म ना हो जाए
मुझसे यूँही
वो खेलते खेलते।






mujhe chup dekhakar

mere sahanshiltaa ko log

bujadili se naap rahe hain।


unke man men

mujh par haavi hone ke

naye naye vichaar kulabulaa rahe hain।


vo chaah rahe hain mujhapar

apnaa hak jataane ko।

anchaahe kaam bhi

vo chaah rahe hain hamse karvaane ko।


unki dhriashthtaa dekh dekh

main man hi man

muskuraa rahaa hun।


kyon chingaari le

mere man men dabe baarud ko

phir se vo sulgaa rahe hain।


jaane anjaane kahin bhasm naa ho jaaa

mujhse yunhi

vo khelte khelte।


Written by sushil kumar

Shayari

No comments:

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे। Shayari मेरे भारत देश के मिट्टी की  बात बड़ी ही निराली है। यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में छिपी हुई एक...