23 Nov 2019

Apne mukaddar ko badal do

Shayari

अपने मुकद्दर को बदल दो।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Shayari

मुझे नहीं पता
मेरे मुकद्दर में क्या है लिखा?
संघर्ष कर रहा हूँ पल पल
क्योंकि मैं हूँ अपने कर्मसाख पर टिका।

नतीजे की फिक्र तो
निकम्मो को रहती है।
कर्मवीर तो तूफान में भी
बड़ी सुगमता से निकाल लेते हैं
अपने लिए रास्ता।

आँखों में होने लगी थी
थोड़ी थोड़ी जलन।
थकान से रुके जा रहे थे
मेंरे बढ़ते हुए कदम।
पर हौसले कहाँ तैयार थे
सिकुड़ने को अपने पंख।
मैं पहुँचता जो चला जा रहा था
अपने मंजिल के इतने निकट।

अपने लक्ष्य को पाने की धुन में
ना जाने कितनी बार ठोकर लगी
और कितने बार मैं हूँ गिरा।
पर हर बार मैं उठ खड़ा हुआ
और अपने मंजिल को पाने की ललक में।
लहू लुहान तो हो चुका था
पर दर्द का मुझे
नहीं हो रहा था एहसास।
शायद ये मंज़िल पाने की लगन ही थी
जब सारे वेदनाएँ भी मुझे बस
यही प्रेरणा दे रहे थे आज।
बस चल लो दो और कदम
मंजिल तेरी खड़ी है स्वागत में
पुष्पमाला लिए अपने हाथ में।






mujhe nahin pataa

mere mukaddar men kyaa hai likhaa?

sangharsh kar rahaa hun pal pal

kyonki main hun apne karmsaakh par tikaa।


natije ki phikr to

nikammo ko rahti hai।

karmvir to tuphaan men bhi

bdi sugamtaa se nikaal lete hain

apne lia raastaa।


aankhon men hone lagi thi

thodi thodi jalan।

thakaan se ruke jaa rahe the

menre bdhte hua kadam।

par hausle kahaan taiyaar the

sikudne ko apne pankh।

main pahunchtaa jo chalaa jaa rahaa thaa

apne manjil ke etne nikat।


apne lakshy ko paane ki dhun men

naa jaane kitni baar thokar lagi

aur kitne baar main hun giraa।

par har baar main uth khdaa huaa

aur apne manjil ko paane ki lalak men।

lahu luhaan to ho chukaa thaa

par dard kaa mujhe

nahin ho rahaa thaa ehsaas।

shaayad ye manjil paane ki lagan hi thi

jab saare vednaaan bhi mujhe bas

yahi prernaa de rahe the aaj।

bas chal lo do aur kadam

manjil teri khdi hai svaagat men

pushpmaalaa lia apne haath men।




Written by sushil kumar
Shayari








No comments:

Meri khamoshi mein ek sandesh hai.

Shayari मेरी खामोशी में एक संदेश है। kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है। मेरी खामोशी देख तुम्हें तो आज बड़ा ही सुकून...