27 Sep 2019

Log aaj badal gae hain.

Shayari

लोग आज बदल गए हैं।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


लोग आज बदल गए हैं।
अपनी सफलता को भूल
दूसरे की असफलता पर जश्न मनाने से
कहाँ चूक रहे हैं लोग।
दुसरो के दुख को देख
आनन्द से गद गद हुए जा रहे हैं ये लोग।

वाकई में
लोग आज बदल गए हैं।

अपनी स्त्री की सुंदरता पर
कभी मोहित हो जाने वाला पति।
उसकी सुंदरता का बखान करते
ना थकने वाला पति।
आज चुप है।
क्यों?
क्योंकि उसे आज दुसरो की स्त्री
ज्यादा आकर्षित करने लगी हैं।
वो सात जन्मों का साथ निभाने का
कभी वादा किया था।
एक जन्म में ही ऊबते दिख रहे हैं लोग।

लोग आज बदल गए हैं।

दूसरों की छोटी सी कुटिया को भी देखकर
उसे उसके महल को टक्कर दे रहे हों
ऐसा सोचकर जल भून जाते हैं।
उसे उस कुटिया में रहने वाले लोग
ज्यादा खुश और सन्तुष्ट नज़र आते हैं।
और उसे ये बर्दास्त से बाहर हो जाता है
और उस कुटिया को बर्बाद करने को
आतुर से दिखते हैं लोग।

सच में।
लोग आज बदल गए हैं।

अपने बच्चे की भूल को छिपाने को
लोग आज कत्ल करने में भी
कहाँ हिचकिचा रहे हैं?
खून तो लोग ऐसे बहा रहे हैं।
मानो पानी से भी सस्ती हो चुकी हो आज।

लोग आज बदल गए हैं।

अपना हिस्सा पाने को
बेटा बाप का
भाई भाई का
रक्त से नहाने में संकोच नहीं कर रहा है।
मानवता का निशान
दुनिया से आज मिटता हुआ
आभास हो रहा है।

सही में।
लोग आज सही में बदल गए हैं।










log aaj badal gaye hain।

apni saphaltaa ko bhul

dusre ki asaphaltaa par jashn manaane se

kahaan chuk rahe hain log।

dusro ke dukh ko dekh

aanand se gad gad hua jaa rahe hain ye log।


vaakaayi men

log aaj badal gaye hain।


apni stri ki sundartaa par

kabhi mohit ho jaane vaalaa pati।

uski sundartaa kaa bakhaan karte

naa thakne vaalaa pati।

aaj chup hai।

kyon?

kyonki use aaj dusro ki stri

jyaadaa aakarshit karne lagi hain।

vo saat janmon kaa saath nibhaane kaa

kabhi vaadaa kiyaa thaa।

ek janm men hi ubte dikh rahe hain log।


log aaj badal gaye hain।


dusron ki chhoti si kutiyaa ko bhi dekhakar

use uske mahal ko takkar de rahe hon

aisaa sochakar jal bhun jaate hain।

use us kutiyaa men rahne vaale log

jyaadaa khush aur santusht njar aate hain।

aur use ye bardaast se baahar ho jaataa hai

aur us kutiyaa ko barbaad karne ko

aatur se dikhte hain log।


sach men।

log aaj badal gaye hain।


apne bachche ki bhul ko chhipaane ko

log aaj katl karne men bhi

kahaan hichakichaa rahe hain?

khun to log aise bahaa rahe hain।

maano paani se bhi sasti ho chuki ho aaj।


log aaj badal gaye hain।


apnaa hissaa paane ko

betaa baap kaa

bhaai bhaai kaa

rakt se nahaane men sankoch nahin kar rahaa hai।

maanavtaa kaa nishaan

duniyaa se aaj mittaa huaa

aabhaas ho rahaa hai।


sahi men।

log aaj sahi men badal gaye hain।



Written by sushil kumar

Shayari

No comments:

मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ।main jitni daphaa tumse bichhudtaa hun

Shayari मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ उतनी ही दफा मैं घुट घुट कर मरता हूँ। तुम कहते हो कि मैं गायब होता जा रहा हूँ। पहले ७० कि...