19 Sep 2019

Maa ka vishwas.

Shayari

माँ का विश्वास।


kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



सारी दुनिया चाहे इधर से उधर हो जाए
चाँद दिन में निकल आए
और सूरज सुबह में डूब जाए।
पर एक इंसान है इस जग में
जो अभी भी एक दृढ़ उम्मीद की लौ  है
मन में जगाए।
कि मेरा लाल!
मेरा बेटा!
एक दिन सफलता की ऊँचाइयों को जरूर छूएगा।
वो कोई और नहीं।
तुम्हारी माँ है।

चाहे लाख जग वाले
उसे ये विश्वास है दिलाए।
तेरा बेटा नालायक है।
किसी काम का नहीं है माँए।
पर उसके आस्था को
कहाँ से कोई हिला पाए।
क्योंकि उसे पता है।
उसका छोरा लाखों में एक है।
वो कोई और नहीं
तुम्हारी माँ है।

तू कोशिश कर कर के
परेशान हुए जाए।
सफलता के किनारे को छूते छूते
छूट जाए।
और तू डगमगाते हुए जो
घर पहुँच जाए।
पर तेरी माँ का
तेरे पर यकीन देख
तेरा हौसला के पंख
फिर से फड़फड़ाए।
और फिर क्या?
तेरे लगन और मेहनत के संग
तेरी माँ के दुआ का मेल हो जाए।
कामयाबी तेरे कदम चूमने को
अधीर हो छटपटाए।

ये कुछ और नहीं।
तेरी माँ का ही जादू है।







saari duniyaa chaahe edhar se udhar ho jaaa

chaand din men nikal aaa

aur suraj subah men dub jaaa।

par ek ensaan hai es jag men

jo abhi bhi ek dridh ummid ki lau  hai

man men jagaaa।

ki meraa laal!

meraa betaa!

ek din saphaltaa ki unchaaeyon ko jarur chhuagaa।

vo koi aur nahin।

tumhaari maan hai।


chaahe laakh jag vaale

use ye vishvaas hai dilaaa।

teraa betaa naalaayak hai।

kisi kaam kaa nahin hai maanaye।

par uske aasthaa ko

kahaan se koi hilaa paaa।

kyonki use pataa hai।

uskaa chhoraa laakhon men ek hai।

vo koi aur nahin

tumhaari maan hai।


tu koshish kar kar ke

pareshaan hua jaaa।

saphaltaa ke kinaare ko chhute chhute

chhut jaaa।

aur tu dagamgaate hua jo

ghar pahunch jaaa।

par teri maan kaa

tere par yakin dekh

teraa hauslaa ke pankh

phir se phdaphdaaa।

aur phir kyaa?

tere lagan aur mehanat ke sang

teri maan ke duaa kaa mel ho jaaa।

kaamyaabi tere kadam chumne ko

adhir ho chhataptaaa।


ye kuchh aur nahin।

teri maan kaa hi jaadu hai।




Written by sushil kumar

Shayari

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...