29 Sep 2019

Mai to haar chuka tha.

Shayari

मैं तो हार चुका था।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


मैं तो हार चुका था
ये आखिरी चाल औपचारिकता मात्र थी।
ये हार
केवल एक हार नहीं।
बल्कि कुछ सबक सिखाने वाली थी।
कुछ चाले समझी थी
पर अभी भी
बहुत कुछ समझना बाकि था।
और बहुत कुछ परखना भी बाकि था।

पर जीत की तलब मेरे दिल में
बहुत जोर पकड़ रखी थी।
मंजिल को पाने की ललक में
प्रयासों को मैने और भी तेज कर दी।
भूख प्यास
दिन रात का कुछ भी ख्याल ना रहा।
बस कुछ ध्यान था
तो वो बस मेरे लक्ष्य का।
ऐसी स्थिति जो हो जाए
तो समझ लेना कि
तुम्हारी मंजिल तुम्हें मिलनी वाली है।







main to haar chukaa thaa

ye aakhiri chaal aupchaariktaa maatr thi।

ye haar

keval ek haar nahin।

balki kuchh sabak sikhaane vaali thi।

kuchh chaale samjhi thi

par abhi bhi

bahut kuchh samajhnaa baaki thaa।

aur bahut kuchh parakhnaa bhi baaki thaa।


par jit ki talab mere dil men

bahut jor pakd rakhi thi।

manjil ko paane ki lalak men

pryaason ko maine aur bhi tej kar di।

bhukh pyaas

din raat kaa kuchh bhi khyaal naa rahaa।

bas kuchh dhyaan thaa

to vo bas mere lakshy kaa।

aisi sthiti jo ho jaaa

to samajh lenaa ki

tumhaari manjil tumhen milni vaali hai।




Written by sushil kumar

Shayari


No comments:

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...