15 Sep 2019

Mai hindu nahin.

Shayari

मैं हिन्दू नहीं।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



मैं हिन्दू नहीं
ना मैं मुसलमान हूँ।
मैं सिख नहीं
ना मैं क्रिस्चियन हूँ।
मैं लावारिस पड़ा एक हाथ हूँ।
मैं लावारिस पड़ा एक हाथ हूँ।

मैं तो मस्त अपनी धुन में
चला जा रहा था कहीं।
वोट की स्याही भी
कहाँ मिटी थी मेरे नाखून से।
पता नहीं कहाँ से कोई 
गीदड़ों की भीड़ उमड़ पड़ी।
पूछा मेरा नाम
और फिर शेर बनकर 
मुझ पर ही टूट पड़ी।
मैं लाख चिल्लाता रहा 
और गिड़गिड़ाता रहा उन शैतानो से।
मैने क्या गुनाह किया?
ये नाम को मैने चुनके।

पर सुना नहीं किसी ने भी
किसी ने मुझ पर न रहम की।
जिसे जो मिला
उससे वार किया मेरे शरीर पर।
धारदार हथियारों को घुसेड़ दिया
मेरे जिस्म में।
और फिर क्या लगे हमें
लातों से कूटने।
मेरे खून के फव्वारों से
खेला था उन्होंने होलिका दहन।
मेरे अधमरे शरीर को
क्या खूब रौंदा था उन हैवानो ने।
इससे भी जब उनके दिलोदिमाग में 
शुकुन ना आन पड़ा।
एक हाथ को ही काट कर
धड़ से अलग कर 
कहीं दूर उड़ाया।

लोग वहाँ तमाशबीन बन
खड़े हो फ़िल्म देख रहे।
मानो हकीकत की दृश्य देख कर 
उन्हें रोमांच आ रहा हो और बड़ी।

आज का जनतंत्र देख कर
मैं सिर्फ इतना ही केवल पूछ रहा।
क्या इसी दिन देखने को
मोहन ने रचा था 
लोकतंत्र का महान किस्सा।
कुछ दिनों तक न्यूज़ पैनलों में होंगे 
खूब गरमा गरम बहस और जोरदार चर्चा।
कुछ लोग उतर जाएँगे सड़क पर
लेकर हाथ में कैंडल और बैनर पोस्टर।
पर फिर क्या????
फिर से लोग भूल जाएँगे
कुम्भकर्ण की नींद सो जाएँगे।
जब तक फिर से ना घटेगी
हिला देनेवाली कोई नहीं घटना।







main hindu nahin

naa main musalmaan hun।

main sikh nahin

naa main krischiyan hun।

main laavaaris pdaa ek haath hun।

main laavaaris pdaa ek haath hun।


main to mast apni dhun men

chalaa jaa rahaa thaa kahin।

vot ki syaahi bhi

kahaan miti thi mere naakhun se।

pataa nahin kahaan se koi

giddon ki bhid umd pdi।

puchhaa meraa naam

aur phir sher banakar

mujh par hi tut pdi।

main laakh chillaataa rahaa

aur gidgidaataa rahaa un shaitaano se।

maine kyaa gunaah kiyaa?

ye naam ko maine chunke।


par sunaa nahin kisi ne bhi

kisi ne mujh par n raham ki।

jise jo milaa

usse vaar kiyaa mere sharir par।

dhaardaar hathiyaaron ko ghused diyaa

mere jism men।

aur phir kyaa lage hamen

laaton se kutne।

mere khun ke phavvaaron se

khelaa thaa unhonne holikaa dahan।

mere adhamre sharir ko

kyaa khub raundaa thaa un haivaano ne।

esse bhi jab unke dilodimaag men

shukun naa aan pdaa।

ek haath ko hi kaat kar

dhd se alag kar

kahin dur udaayaa।


log vahaan tamaashbin ban

khde ho film dekh rahe।

maano hakikat ki driashy dekh kar

unhen romaanch aa rahaa ho aur bdi।


aaj kaa janatantr dekh kar

main sirph etnaa hi keval puchh rahaa।

kyaa esi din dekhne ko

mohan ne rachaa thaa

lokatantr kaa mahaan kissaa।

kuchh dinon tak nyuj painlon men honge

khub garmaa garam bahas aur jordaar charchaa।

kuchh log utar jaaange sdak par

lekar haath men kaindal aur bainar postar।

par phir kyaa????

phir se log bhul jaaange

kumbhakarn ki nind so jaaange।

jab tak phir se naa ghategi

hilaa denevaali koi nahin ghatnaa।





Written by sushil kumar

Shayari

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...