25 Aug 2019

Ek chhota anand grih.🏠

Shayari

एक छोटा आनन्द गृह।🏠

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।




माँ पापा आपका कर्ज़ मैं
कभी ना उतार पाऊँगा।
आपके निस्वार्थ प्रेम का भाव
मैं ना लगा पाऊँगा।
चाहता था कुछ ऐसा करना
जहाँ आपका साथ मुकम्मल बना रहता सदा।
सुबह होती आपके चरण स्पर्श कर
दिन अपना कामयाब बनाता जाता सदा।
आपकी खुशी देख मैं हर्षित होता
कोई गम आपके समीप ना आने देता सदा।

पर ऐसा हो ना पाया
मेरे कर्म ने आपसे दूर कराया।
नौकरी करने के खातिर मैं
अपना घर छोड़,परदेस में कदम जमाया।
मेरे दिल तो एक क्षण चाहा था
नहीं जाऊँ आपको छोड़ के।
माँ बाबूजी अगर आप 
एक बार जो बोल दिए होते,
नहीं जाता कहीं ये आपका साया।
पर आप भी बहुत चालाक निकले
यहाँ भी बाजी मार ली आपने।
अपने दिल पर पत्थर रख कर
नहीं छलकने दिया आंसू अपने नयन से।
अपने दिल के टुकड़े को 
किया खुद से आपने यूँ अलग।
रो रोकर बेहाल हुए तब
जब आपको हुई मेरी फिकर।
मुझे आपकी याद ना आए
ऐसा दिन कोई नहीं आया है।
हर सुबह आपकी खैरियत की रब से
दिल से दुआ फरमाया है।

मेरे जीवन को सरस करने को
आपने शादी मेरी रचवा डाली।
मेरा ख्याल हमेशा रखने को
एक अर्धांगिनी मेरी बना डाली।
आप चाहते थे,कि मैं आगे बढ़ूँ
करूँ मैं आपका नाम रोशन।
आपके संस्कार का करिश्मा था ये
जो आज पहुँचा हूँ इतने ऊपर।
आज मेरे पास सबकुछ है माँ बाबूजी
पर आपका साथ नहीं है मेरे जीवन में।
बीबी है जो जान छिड़कती है मुझपर
पर कान उमेठने वाले नहीं है आपलोग।
आजाओ भी ना साथ में  आपलोग
छोड़कर दुनियादारी सारी।
पापा,माँ,मैं और मेरी अर्धांगिनी
मिलकर बसाएँगे हम 
एक छोटा आनन्द गृह।








maan paapaa aapkaa karj main

kabhi naa utaar paaungaa।

aapke nisvaarth prem kaa bhaav

main naa lagaa paaungaa।

chaahtaa thaa kuchh aisaa karnaa

jahaan aapkaa saath mukammal banaa rahtaa sadaa।

subah hoti aapke charan sparsh kar

din apnaa kaamyaab banaataa jaataa sadaa।

aapki khushi dekh main harshit hotaa

koi gam aapke samip naa aane detaa sadaa।


par aisaa ho naa paayaa

mere karm ne aapse dur karaayaa।

naukri karne ke khaatir main

apnaa ghar chhod,pardes men kadam jamaayaa।

mere dil to ek kshan chaahaa thaa

nahin jaaun aapko chhod ke।

maan baabuji agar aap

ek baar jo bol dia hote,

nahin jaataa kahin ye aapkaa saayaa।

par aap bhi bahut chaalaak nikle

yahaan bhi baaji maar li aapne।

apne dil par patthar rakh kar

nahin chhalakne diyaa aansu apne nayan se।

apne dil ke tukde ko

kiyaa khud se aapne yun alag।

ro rokar behaal hua tab

jab aapko hui meri phikar।

mujhe aapki yaad naa aaa

aisaa din koi nahin aayaa hai।

har subah aapki khairiyat ki rab se

dil se duaa pharmaayaa hai।


mere jivan ko saras karne ko

aapne shaadi meri rachvaa daali।

meraa khyaal hameshaa rakhne ko

ek ardhaangini meri banaa daali।

aap chaahte the,ki main aage bdhun

karun main aapkaa naam roshan।

aapke sanskaar kaa karishmaa thaa ye

jo aaj pahunchaa hun etne upar।

aaj mere paas sabakuchh hai maan baabuji

par aapkaa saath nahin hai mere jivan men।

bibi hai jo jaan chhidkti hai mujhapar

par kaan umethne vaale nahin hai aaplog।

aajaao bhi naa saath men  aaplog

chhodkar duniyaadaari saari।

paapaa,maan,main aur meri ardhaangini

milakar basaaange ham

ek chhotaa aanand griah।



Written by sushil kumar

Shayari

No comments:

Badhali

Shayari ऐसी बदहाली आज दिल पे जो छाई है। मन  है बदहवास और आँखों में नमी आई है। हर वक्त बस ईश्वर से यही दुहाई है। खैर रखना उनकी, मेरी ...