25 Aug 2019

Ek chhota anand grih.🏠

Shayari

एक छोटा आनन्द गृह।🏠

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।




माँ पापा आपका कर्ज़ मैं
कभी ना उतार पाऊँगा।
आपके निस्वार्थ प्रेम का भाव
मैं ना लगा पाऊँगा।
चाहता था कुछ ऐसा करना
जहाँ आपका साथ मुकम्मल बना रहता सदा।
सुबह होती आपके चरण स्पर्श कर
दिन अपना कामयाब बनाता जाता सदा।
आपकी खुशी देख मैं हर्षित होता
कोई गम आपके समीप ना आने देता सदा।

पर ऐसा हो ना पाया
मेरे कर्म ने आपसे दूर कराया।
नौकरी करने के खातिर मैं
अपना घर छोड़,परदेस में कदम जमाया।
मेरे दिल तो एक क्षण चाहा था
नहीं जाऊँ आपको छोड़ के।
माँ बाबूजी अगर आप 
एक बार जो बोल दिए होते,
नहीं जाता कहीं ये आपका साया।
पर आप भी बहुत चालाक निकले
यहाँ भी बाजी मार ली आपने।
अपने दिल पर पत्थर रख कर
नहीं छलकने दिया आंसू अपने नयन से।
अपने दिल के टुकड़े को 
किया खुद से आपने यूँ अलग।
रो रोकर बेहाल हुए तब
जब आपको हुई मेरी फिकर।
मुझे आपकी याद ना आए
ऐसा दिन कोई नहीं आया है।
हर सुबह आपकी खैरियत की रब से
दिल से दुआ फरमाया है।

मेरे जीवन को सरस करने को
आपने शादी मेरी रचवा डाली।
मेरा ख्याल हमेशा रखने को
एक अर्धांगिनी मेरी बना डाली।
आप चाहते थे,कि मैं आगे बढ़ूँ
करूँ मैं आपका नाम रोशन।
आपके संस्कार का करिश्मा था ये
जो आज पहुँचा हूँ इतने ऊपर।
आज मेरे पास सबकुछ है माँ बाबूजी
पर आपका साथ नहीं है मेरे जीवन में।
बीबी है जो जान छिड़कती है मुझपर
पर कान उमेठने वाले नहीं है आपलोग।
आजाओ भी ना साथ में  आपलोग
छोड़कर दुनियादारी सारी।
पापा,माँ,मैं और मेरी अर्धांगिनी
मिलकर बसाएँगे हम 
एक छोटा आनन्द गृह।








maan paapaa aapkaa karj main

kabhi naa utaar paaungaa।

aapke nisvaarth prem kaa bhaav

main naa lagaa paaungaa।

chaahtaa thaa kuchh aisaa karnaa

jahaan aapkaa saath mukammal banaa rahtaa sadaa।

subah hoti aapke charan sparsh kar

din apnaa kaamyaab banaataa jaataa sadaa।

aapki khushi dekh main harshit hotaa

koi gam aapke samip naa aane detaa sadaa।


par aisaa ho naa paayaa

mere karm ne aapse dur karaayaa।

naukri karne ke khaatir main

apnaa ghar chhod,pardes men kadam jamaayaa।

mere dil to ek kshan chaahaa thaa

nahin jaaun aapko chhod ke।

maan baabuji agar aap

ek baar jo bol dia hote,

nahin jaataa kahin ye aapkaa saayaa।

par aap bhi bahut chaalaak nikle

yahaan bhi baaji maar li aapne।

apne dil par patthar rakh kar

nahin chhalakne diyaa aansu apne nayan se।

apne dil ke tukde ko

kiyaa khud se aapne yun alag।

ro rokar behaal hua tab

jab aapko hui meri phikar।

mujhe aapki yaad naa aaa

aisaa din koi nahin aayaa hai।

har subah aapki khairiyat ki rab se

dil se duaa pharmaayaa hai।


mere jivan ko saras karne ko

aapne shaadi meri rachvaa daali।

meraa khyaal hameshaa rakhne ko

ek ardhaangini meri banaa daali।

aap chaahte the,ki main aage bdhun

karun main aapkaa naam roshan।

aapke sanskaar kaa karishmaa thaa ye

jo aaj pahunchaa hun etne upar।

aaj mere paas sabakuchh hai maan baabuji

par aapkaa saath nahin hai mere jivan men।

bibi hai jo jaan chhidkti hai mujhapar

par kaan umethne vaale nahin hai aaplog।

aajaao bhi naa saath men  aaplog

chhodkar duniyaadaari saari।

paapaa,maan,main aur meri ardhaangini

milakar basaaange ham

ek chhotaa aanand griah।



Written by sushil kumar

Shayari

10 Aug 2019

Vatna mere vatna ve.

Shayari

वतना मेरे वतना वे

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


वतना मेरे वतना वे
तेरा इश्क़ मेरे सर चढ़ चढ़कर बोल रहा है।
एक जन्म क्या है
मेरे वतना
मैं लाखो जन्म तेरे उल्फ़त में कुर्बान कर दूँ।
ये कैसा पागलपन है?
ये कैसा दीवानापन है?
मुझे नहीं पता।
अपने लहू से तिलक करने को
तेरे तिरंगे में लिपट जाने को
तेरी मिट्टी में समा जाने को
तेरे हवाओं में घुल जाने को
पुनः तेरे मिट्टी रूपी गोद में जन्म लेकर
तेरे चरणों में पुनः बलिदान होने को
मैं आतुर हूँ माँ।
मैं आतुर हूँ।

जब एक माँ को छोड़
दूसरे माँ के पास गाँव जाता हूँ।
दिल तड़प उठता है
उस बिछड़न के सोच मात्र से।
मैं काँप उठता हूँ।
कि माँ तेरी रक्षा में
तेरा ये सपूत नहीं रहेगा
सरहद पर।
कहीं मेरा सपना व्यर्थ ना चला जाए।
कहीं मैं वो अवसर खो ना दूँ।
कहीं मेरे अरमान धूल में ना मिल जाए।
मैं तेरी रक्षा करते करते
अपने खून के कतरे कतरे से
तेरा स्नान कराना चाहता हूँ माँ।
दुश्मनो के दिलो में अपनी वीरता का
खौफ पैदा कर जाना चाहता हूँ माँ।
कि उनके कदम थर थर्रा जाए
जो उनके नापाक कदम
कभी हमारी धरती पर पड़े
जो माँ।
वन्दे मातरम।।
जय हिंद।।
जय भारत।।







vatnaa mere vatnaa ve

teraa eshk mere sar chdh chdhakar bol rahaa hai।

ek janm kyaa hai

mere vatnaa

main laakho janm tere ulft men kurbaan kar dun।

ye kaisaa paagalapan hai?

ye kaisaa divaanaapan hai?

mujhe nahin pataa।

apne lahu se tilak karne ko

tere tirange men lipat jaane ko

teri mitti men samaa jaane ko

tere havaaon men ghul jaane ko

punah tere mitti rupi god men janm lekar

tere charnon men punah balidaan hone ko

main aatur hun maan।

main aatur hun।


jab ek maan ko chhod

dusre maan ke paas gaanv jaataa hun।

dil tdap uthtaa hai

us bichhdan ke soch maatr se।

main kaanp uthtaa hun।

ki maan teri rakshaa men

teraa ye saput nahin rahegaa

sarahad par।

kahin meraa sapnaa vyarth naa chalaa jaaa।

kahin main vo avasar kho naa dun।

kahin mere armaan dhul men naa mil jaaa।

main teri rakshaa karte karte

apne khun ke katre katre se

teraa snaan karaanaa chaahtaa hun maan।

dushmno ke dilo men apni virtaa kaa

khauph paidaa kar jaanaa chaahtaa hun maan।

ki unke kadam thar tharraa jaaa

jo unke naapaak kadam

kabhi hamaari dharti par pde

jo maan।

vande maataram।।

jay hind।।

jay bhaarat।।


Written by sushil kumar

Shayari


6 Aug 2019

३७० dhara se azadi.

Shayari

३७० धारा से आज़ादी।सम्पूर्ण भारत की पूर्ण आज़ादी।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

370


क्या बताएँ !
आज एक बार फिर से
देश की जय जयकार करने को
दिल कर रहा है।

क्या बताएँ !
आज एक बार फिर से
देश के लिए अभिमान करने को
दिल कर रहा है।

जय हिंद तो बस एक अभिव्यक्ति है
पर अनगिनत सलामी
और अनगिनत नमन
एक सैलाब बन
आज भारत माँ के चरण को अनगिनत बार स्पर्श करने
दिल मचल रहा है।

ऐसा लग रहा है
कि आज इस मिट्टी के गुलाल में रंग कर
एक हो जाऊँ।
उस मिट्टी में समा जाऊँ।

आज लाखों शहीदों की कुर्बानी की
जीत का दिन है।
उनकी फतह के जश्न का दिन है।
आज भारत माँ का
अपने सपूतो पर गर्व करने का दिन है।

भले देश आजाद हो गया था हमारा
उन्नीस सौ सैंतालीस में।
पर भारत माँ के शीश पर पर ३७० धारा लगा
एक घिनौनी राजनीति रचाई थी
कुछ गद्दारों ने।

कितने सपूतो की कुर्बानियों की वजह से
आज ये दिन हम देख पाए हैं।
हमारे वीर मोदी और शाह ने
ये करिश्माई कारनामा कर दिखाए हैं।
यही अच्छे दिन देखने को इन्हें हम
सत्ता में लेकर आए हैं।

बहुत जगह कुछ गद्दारो ने
अपने फन भी उठाए हैं।
पर कोई बात नहीं
आज भोंक लो
जितना भोंकना है।
आने वाले दिनो में
तुम्हारी तेरहवी की तैयारी है।








kyaa bataaan !

aaj ek baar phir se

desh ki jay jaykaar karne ko

dil kar rahaa hai।


kyaa bataaan !

aaj ek baar phir se

desh ke lia abhimaan karne ko

dil kar rahaa hai।


jay hind to bas ek abhivyakti hai

par anaginat salaami

aur anaginat naman

ek sailaab ban

aaj bhaarat maan ke charan ko anaginat baar sparsh karne

dil machal rahaa hai।


aisaa lag rahaa hai

ki aaj es mitti ke gulaal men rang kar

ek ho jaaun।

us mitti men samaa jaaun।


aaj laakhon shahidon ki kurbaani ki

jit kaa din hai।

unki phatah ke jashn kaa din hai।

aaj bhaarat maan kaa

apne saputo par garv karne kaa din hai।


bhale desh aajaad ho gayaa thaa hamaaraa

unnis sau saintaalis men।

par bhaarat maan ke shish par par 370 dhaaraa lagaa

ek ghinauni raajniti rachaai thi

kuchh gaddaaron ne।


kitne saputo ki kurbaaniyon ki vajah se

aaj ye din ham dekh paaa hain।

hamaare vir modi aur shaah ne

ye karishmaai kaarnaamaa kar dikhaaa hain।

yahi achchhe din dekhne ko enhen ham

sattaa men lekar aaa hain।


bahut jagah kuchh gaddaaro ne

apne phan bhi uthaaa hain।

par koi baat nahin

aaj bhonk lo

jitnaa bhonknaa hai।

aane vaale dino men

tumhaari terahvi ki taiyaari hai।



Written by sushil kumar

Shayari

4 Aug 2019

Aap kya ho????

Shayari

आप क्या हो???

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


तुम मुझे मारते रहो
मुझे कुछ परवाह नहीं।
मुझे तबाह करते रहो
मेरे अस्तित्व को नेस्तनाबूद कर दो
पर मैं उफ़ तक नहीं करूँगा।
मैं सहता रहूँगा।
मैं देखना चाहूँगा तुम्हारी हद
कि किस हद तक तुम मुझे बर्बाद कर सकते हो।
जब तुम थक जाओगे
तब तुम खुद ही रुक जाओगे।
पर मैं तुमपर पलटवार कभी नहीं करने वाला।
क्योंकि मैं गांधी हूँ।😡

तुम्हारे हर हमले का जवाब दूँगा
मेरा अगर लहू का एक बूंद गिरा
मैं तुम्हें लहू लुहान कर दूँगा।
तुम्हें बर्बाद करके रख दूँगा।
कि अगली बार
कोई हमपर हमले करने की सोच से भी डर जाए।
क्योंकि मैं सुभाषचंद्र बोस हुँ।😳

मैं तो सुभाष हूँ।
मैं गांधी नहीं
जिसकी अहिंसा वाली सोच के चलते
हम इतने कायर ना हो जाएँ
कि हम अपने अस्तित्व को खंगालने को मजबूर हो जाएँ।
ईंट का जवाब पत्थर से देना हमें पसन्द है।
और हम चुप रहकर सहने वालो में से नहीं।
बल्कि अपनी गर्जना से संसार को हिलाने वालो में से हैं।
मैं सुभाष हूँ, मैं चन्द्रशेखर आज़ाद हूँ, मैं बिस्मिल हूँ।
पर गांधी कभी नहीं।

आप क्या हो???








tum mujhe maarte raho

mujhe kuchh parvaah nahin।

mujhe tabaah karte raho

mere astitv ko nestnaabud kar do

par main uf tak nahin karungaa।

main sahtaa rahungaa।

main dekhnaa chaahungaa tumhaari had

ki kis had tak tum mujhe barbaad kar sakte ho।

jab tum thak jaaoge

tab tum khud hi ruk jaaoge।

par main tumapar palatvaar kabhi nahin karne vaalaa।

kyonki main gaandhi hun।😡


tumhaare har hamle kaa javaab dungaa

meraa agar lahu kaa ek bund giraa

main tumhen lahu luhaan kar dungaa।

tumhen barbaad karke rakh dungaa।

ki agli baar

koi hamapar hamle karne ki soch se bhi dar jaaa।

kyonki main subhaashachandr bos hun।😳


main to subhaash hun।

main gaandhi nahin

jiski ahinsaa vaali soch ke chalte

ham etne kaayar naa ho jaaan

ki ham apne astitv ko khangaalne ko majbur ho jaaan।

int kaa javaab patthar se denaa hamen pasand hai।

aur ham chup rahakar sahne vaalo men se nahin।

balki apni garjnaa se sansaar ko hilaane vaalo men se hain।

main subhaash hun, main chandrshekhar aajaad hun, main bismil hun।

par gaandhi kabhi nahin।


aap kyaa ho???



Written by sushil kumar

Shayari

1 Aug 2019

Rastrapita ya?????

Shayari

राष्ट्रपिता या ?????


kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



वो क्रांति की ज्वाला जगा गया था
पर कुछ देशद्रोहियों ने उसे बुझा डाला।
अपनी राजगद्दी बचाने के खातिर
फिर कुछ मीर जाफर ने खेल रचा डाला।

बना डाला उसे राष्ट्रपिता
जो मुसलमानों के खैरियत की सदा सोचता रहा।
बना डाला पाकिस्तान
और हमारे मातृभूमि के विभाजन का एक मात्र कारण बना।
गणेश विद्यार्थी को मारने वाले मुसलमानों को
कभी अहिंसा का पाठ पढ़ाया था नहीं उसने।
भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की शहादत को
रोकने के लिए हाथ कभी बढ़ाया नहीं था उसने।
स्वयं को निष्पक्ष, अहिंसावादी मानने वाला
क्या उसने कभी हिंदुओ के दर्द को समझा था कभी।
लाखों हिंदुओं का कत्लेआम हुआ था पाकिस्तान में
माँ बहिनों की इज़्ज़त सरेआम नीलाम हुआ था कभी।
पर शिकन उसके चेहरे पर एक तनिक भी नहीं दिखी थी ।
क्योंकि शायद ये अहिंसा का खुलेआम प्रचार जो हुआ था।
अहिंसा का पाठ केवल हिंदुओ के लिए था
मुसलमान तो सदा अहिंसावादी ही रहे थे।
राष्ट्रपिता शब्द का अपमान हुआ था उसदिन
जिसदिन ये उपनाम उसके नाम के आगे लगा था।











vo kraanti ki jvaalaa jagaa gayaa thaa

par kuchh deshadrohiyon ne use bujhaa daalaa।

apni raajagaddi bachaane ke khaatir

phir kuchh mir jaaphar ne khel rachaa daalaa।


banaa daalaa use raashtrapitaa

jo musalmaanon ke khairiyat ki sadaa sochtaa rahaa।

banaa daalaa paakistaan

aur hamaare maatribhumi ke vibhaajan kaa ek maatr kaaran banaa।

ganesh vidyaarthi ko maarne vaale musalmaanon ko

kabhi ahinsaa kaa paath pdhaayaa thaa nahin usne।

bhagat sinh, sukhdev aur raajaguru ki shahaadat ko

rokne ke lia haath kabhi bdhaayaa nahin thaa usne।

svayan ko nishpaksh, ahinsaavaadi maanne vaalaa

kyaa usne kabhi hinduo ke dard ko samjhaa thaa kabhi।

laakhon hinduon kaa katleaam huaa thaa paakistaan men

maan bahinon ki ejjt sareaam nilaam huaa thaa kabhi।

par shikan uske chehre par ek tanik bhi nahin dikhi thi ।

kyonki shaayad ye ahinsaa kaa khuleaam prchaar jo huaa thaa।

ahinsaa kaa paath keval hinduo ke lia thaa

musalmaan to sadaa ahinsaavaadi hi rahe the।

raashtrapitaa shabd kaa apmaan huaa thaa usadin

jisadin ye upnaam uske naam ke aage lagaa thaa।



Written by sushil kumar

Shayari

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...