1 May 2019

Main dara sahma sa

Shayari

मैं डरा सहमा सा

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Love

Love


मैं डरा सहमा सा
आया था तेरे पास में।
मन में लेकर बवंडर भावों का
कर रहा था मेरे दिल को विचलित।
किसी जिगरी दोस्त को खोने का सदमा था
जो मेरे दिल का बहुत बड़ा रहनुमा था।
पहली बार किसी करीबी को
मृत्यु के गोद में सोते देखा था।
तेरे बिन जीवन की सोच में
दिल मेरा व्यथा में रोया था।
चाहता था मन हल्का करने को
तेरे कन्धे पर सर रख कर
फूटफूटकर रोने को।
मैं अंदर ही अंदर टूटता सा चला जा रहा था।
शीशे की भाँती चकनाचूर होता सा जा रहा था।
वो पल को महसूस कर ही
मैं काँप सा जा रहा था।
मेरे अंदर एक डर बैठा सा जा रहा था ।
क्या बयान करूँ
मेरी हालत कैसी थी नाजुक।
पर जो तूने मुझे
अपने गले से लगाया था
मैं रो पड़ा भाव भिवोर हो
भभक भभक कर।
मेरी हालत देख
जो तूने मुझसे रोने का कारण पूछा था।
मैं सिसक सिसक कर बोल पड़ा
मैं तेरे बिन जीने के बारे में कभी नहीं सोचा था।




I love you.











main daraa sahmaa saa

aayaa thaa tere paas men।

man men lekar bavandar bhaavon kaa

kar rahaa thaa mere dil ko vichalit।

kisi jigri dost ko khone kaa sadmaa thaa

jo mere dil kaa bahut bdaa rahanumaa thaa।

pahli baar kisi karibi ko

mriatyu ke god men sote dekhaa thaa।

tere bin jivan ki soch men

dil meraa vythaa men royaa thaa।

chaahtaa thaa man halkaa karne ko

tere kandhe par sar rakh kar

phutphutakar rone ko।

main andar hi andar tuttaa saa chalaa jaa rahaa thaa।

shishe ki bhaanti chaknaachur hotaa saa jaa rahaa thaa।

vo pal ko mahsus kar hi

main kaanp saa jaa rahaa thaa।

mere andar ek dar baithaa saa jaa rahaa thaa ।

kyaa bayaan karun

meri haalat kaisi thi naajuk।

par jo tune mujhe

apne gale se lagaayaa thaa

main ro pdaa bhaav bhivor ho

bhabhak bhabhak kar।

meri haalat dekh

jo tune mujhse rone kaa kaaran puchhaa thaa।

main sisak sisak kar bol pdaa

main tere bin jine ke baare men kabhi nahin sochaa thaa।

I love you.

Written by sushil kumar

Shayari

No comments:

Badhali

Shayari ऐसी बदहाली आज दिल पे जो छाई है। मन  है बदहवास और आँखों में नमी आई है। हर वक्त बस ईश्वर से यही दुहाई है। खैर रखना उनकी, मेरी ...