29 May 2019

Main abhi thaka nahin.

Shayari

मैं अभी थका नहीं।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Manzil

मैं अभी थका नहीं।
रूह भी हार माना नहीं।।
माना मंज़िल अभी कहीं बहुत दूर है।
पर हमारा हौसला भी भरपूर है।।
कदम भले लड़खड़ा रहे हो।
साथ वाले कहीं पीछे छूट रहे हों।।
पर मैं अपने लक्ष्य पर डटा रहा।
सदा अडिग रहा वहीं।।
Manzil

धूप क्या!
बारिश क्या!
तूफान ने भी कड़ी चुनौती दी।।
पर कहाँ हटा मैं अभिमन्यु।
मेरी मंज़िल जो मेरे करीब थी।।
लहू लुहान हो चुका था।
शरीर भी छलनी छलनी हो गएँ थे।।
हिम्मत भी साथ छोड़ रही थी।
पर जज़्बा वही सलामत थी।।
Manzil

आँखों में चमक उठी।
जो मंजिल समीप मुझे दिखी।
क्या दर्द?
क्या जख्म?
सारे दुख तकलीफ फिर कहीं खो गएँ।।
मंजिल को पाने के प्रयास में।
मैं अपने ईश्वर को कभी भूला नहीं।।
जिसकी मदद के बिना
कर पाते फतह ये किला नहीं।
Manzil











main abhi thakaa nahin।

ruh bhi haar maanaa nahin।।

maanaa manjil abhi kahin bahut dur hai।

par hamaaraa hauslaa bhi bharpur hai।।

kadam bhale ldakhdaa rahe ho।

saath vaale kahin pichhe chhut rahe hon।।

par main apne lakshy par dataa rahaa।

sadaa adig rahaa vahin।।



dhup kyaa!

baarish kyaa!

tuphaan ne bhi kdi chunauti di।।

par kahaan hataa main abhimanyu।

meri manjil jo mere karib thi।।

lahu luhaan ho chukaa thaa।

sharir bhi chhalni chhalni ho gan the।।

himmat bhi saath chhod rahi thi।

par jjbaa vahi salaamat thi।।



aankhon men chamak uthi।

jo manjil samip mujhe dikhi।

kyaa dard?

kyaa jakhm?

saare dukh takliph phir kahin kho gan।।

manjil ko paane ke pryaas men।

main apne ishvar ko kabhi bhulaa nahin।।

jiski madad ke binaa

kar paate phatah ye kilaa nahin।



Written by sushil kumar

Shayari

28 May 2019

Jis desh ki dharti par janm liya.

Shayari

जिस देश की धरती पर जन्म लिया।

Kavitadilse.top  द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

India
India


जिस देश की धरती पर जन्म लिया।
जिस देश की मिट्टी में लोट-पोट खेला।।
जहाँ पहला पग उठा चलना सीखा।
जहाँ दौड़ लगा जीतना सीखा।।
जहाँ की संस्कृति से संस्कार को जीना सीखा।
जहाँ की नदियों और गायों को भी माँ कहना सीखा।।
जहाँ प्रेम से रिश्तों को सींचा।
जहाँ यार की यारी पर मरना सीखा।।
जहाँ जाति धर्म की राजनीति को नकारना सीखा।
जहाँ भारतीय होने पर गर्वान्वित होना सीखा।।
जहाँ देश की गरिमा के खातिर मरना सीखा।
जहाँ देश के दुश्मनों को चुन चुन कर कूटना सीखा।।
ऐसी पावन धरती को
आज दिल से सलाम हम करते हैं।
जहाँ हिन्दू,मुस्लिम,सिख,ईसाई
स्वयं को भारतीय कहलाने पर अभिमान करते हैं।।
India

जिस देश की गरिमा के खातिर
हमारे वीर जवानों ने अपने लहू से रंग खेला।
क्या हिन्दू
क्या मुस्लिम
क्या सिख
क्या ईसाई
जो खून गिरा था धरती पर
वो एक हिंदुस्तानी का था मेरे भाई।।
बड़ा जोश भर आता था दिल में उस वक़्त।
रग रग में दौड़ जाती थी आक्रोश की तरंग।।
जब कोई वीर हमारा शहीद हो आता था।
लिपट तिरंगे में अपना सदन।।
और स्वयं ही एक हुँकार उठ उठती थी
सभी की दिल से।
जय हिंद कहकर
एक आखिरी सलाम कर जाती थी
उस महावीर योद्धा को।।
जो आज भले ही नहीं हैं हमारे संग में।
पर उनकी सोच और उनका जज़्बा
आज भी हमें राष्ट्रवाद से ओतप्रोत कर जाता है।।
और हमें सही कदम उठाने को
प्रेरित कर जाता है।
और ऐसे ही फिर से मोदी सरकार को बहुमत देकर
हम लाए हैं।।
क्योंकि राष्ट्रप्रेम से बढ़कर कोई प्रेम नहीं है।
राष्ट्र है,तभी हम हैं!आप हैं!
India

जय हिंद।।
जय भारत।।








jis desh ki dharti par janm liyaa।

jis desh ki mitti men lot-pot khelaa।।

jahaan pahlaa pag uthaa chalnaa sikhaa।

jahaan daud lagaa jitnaa sikhaa।।

jahaan ki sanskriati se sanskaar ko jinaa sikhaa।

jahaan ki nadiyon aur gaayon ko bhi maan kahnaa sikhaa।।

jahaan prem se rishton ko sinchaa।

jahaan yaar ki yaari par marnaa sikhaa।।

jahaan jaati dharm ki raajniti ko nakaarnaa sikhaa।

jahaan bhaartiy hone par garvaanvit honaa sikhaa।।

jahaan desh ki garimaa ke khaatir marnaa sikhaa।

jahaan desh ke dushmnon ko chun chun kar kutnaa sikhaa।।

aisi paavan dharti ko

aaj dil se salaam ham karte hain।

jahaan hindu,muslim,sikh,isaai

svayan ko bhaartiy kahlaane par abhimaan karte hain।।






jis desh ki garimaa ke khaatir

hamaare vir javaanon ne apne lahu se rang khelaa।

kyaa hindu

kyaa muslim

kyaa sikh

kyaa isaai

jo khun giraa thaa dharti par

vo ek hindustaani kaa thaa mere bhaai।।

bdaa josh bhar aataa thaa dil men us vkt।

rag rag men daud jaati thi aakrosh ki tarang।।

jab koi vir hamaaraa shahid ho aataa thaa।

lipat tirange men apnaa sadan।।

aur svayan hi ek hunkaar uth uthti thi

sabhi ki dil se।

jay hind kahakar

ek aakhiri salaam kar jaati thi

us mahaavir yoddhaa ko।।

jo aaj bhale hi nahin hain hamaare sang men।

par unki soch aur unkaa jjbaa

aaj bhi hamen raashtrvaad se otaprot kar jaataa hai।।

aur hamen sahi kadam uthaane ko

prerit kar jaataa hai।

aur aise hi phir se modi sarkaar ko bahumat dekar

ham laaa hain।।

kyonki raashtraprem se bdhakar koi prem nahin hai।

raashtr hai,tabhi ham hain!aap hain!




jay hind।।

jay bhaarat।।

Shayari


27 May 2019

Aankhen band thi.

Shayari

आँखे बंद थी।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Army



आँखे बंद थी
पर चेहरे पर सुकून साफ झलक रहा था।
मेरा भाई जैसा दोस्त
लिपट तिरंगे में
बेखौफ अपने माँ के आँचल में
सो रहा था।
मानो जैसे मुझे वो
चिढ़ा रहा हो
खुद पर बहुत
इतरा रहा हो।
देख जीत ली भाई
बाज़ी फिर से मैंने ना
ऐसा कह कर मुझे
नीचा दिखा रहा हो।

याद है मुझे उसकी
पिछली मुलाकात।
जब घर पर आया था मिलने को
मेरा जिगरी यार।
बहुत ही खुश था वह
फ़ौज में भर्ती पाकर।
खूब सुनाई वीर सैनिकों की गथाएं
जो उसने सुन रखी थी
वहाँ पर।
कहते कहते सभी की कहानियां
आक्रोषित हो उठा था वह।
दुश्मनों से अपना लोहा मनवाने को
उसने जिद्द जो अपनी
ठान रखी थी।
Army

आखिरकार उस हठी ने
अपना हठ पूरा कर ही गया।
और कूद गया दुश्मनों के बीच में
दाँत खट्टा करने को उनके।
सुना है
उसने अपनो की जान बचाने को
अभिमन्यु बन कूद पड़ा था
बीच मैदान में।
गोलियों से जिस्म छलनी होती रही
पर कहाँ थमा था वह।
शेर सा दहाड़ता हुआ
सारे दुश्मनों पर
वह भारी पड़ रहा था
अकेला ही।
आखिरी साँस तक उसने
अपना हथियार नहीं गिराया था।
दुश्मनों को अकेला ही
वह खदेड़ कर भगाया था।
खूब लड़ा मर्दाना वह तो
भारत माँ का लल्ला था।
Army

आज हर हिंदुस्तानी
उस नादान परिंदे के जिद्द के आगे नतमस्तक है।
और सभी उसकी बहादुरी और कुर्बानी पर
दिल से सलाम कर रहे हैं।

जय हिंद।
जय भारत।








aankhe band thi

par chehre par sukun saaph jhalak rahaa thaa।

meraa bhaai jaisaa dost

lipat tirange men

bekhauph apne maan ke aanchal men

so rahaa thaa।

maano jaise mujhe vo

chidhaa rahaa ho

khud par bahut

etraa rahaa ho।

dekh jit li bhaai

baaji phir se mainne naa

aisaa kah kar mujhe

nichaa dikhaa rahaa ho।


yaad hai mujhe uski

pichhli mulaakaat।

jab ghar par aayaa thaa milne ko

meraa jigri yaar।

bahut hi khush thaa vah

fauj men bharti paakar।

khub sunaai vir sainikon ki gathaaan

jo usne sun rakhi thi

vahaan par।

kahte kahte sabhi ki kahaaniyaan

aakroshit ho uthaa thaa vah।

dushmnon se apnaa lohaa manvaane ko

usne jidd jo apni

thaan rakhi thi।




aakhirkaar us hathi ne

apnaa hath puraa kar hi gayaa।

aur kud gayaa dushmnon ke bich men

daant khattaa karne ko unke।

sunaa hai

usne apno ki jaan bachaane ko

abhimanyu ban kud pdaa thaa

bich maidaan men।

goliyon se jism chhalni hoti rahi

par kahaan thamaa thaa vah।

sher saa dahaadtaa huaa

saare dushmnon par

vah bhaari pd rahaa thaa

akelaa hi।

aakhiri saans tak usne

apnaa hathiyaar nahin giraayaa thaa।

dushmnon ko akelaa hi

vah khaded kar bhagaayaa thaa।

khub ldaa mardaanaa vah to

bhaarat maan kaa lallaa thaa।




aaj har hindustaani

us naadaan parinde ke jidd ke aage natamastak hai।

aur sabhi uski bahaaduri aur kurbaani par

dil se salaam kar rahe hain।


jay hind।

jay bhaarat।



Written by sushil kumar

Shayari











26 May 2019

Dil se modi.

Shayari

दिल से मोदी।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Modi

दिल से मोदी।
मन से मोदी।
सोच से मोदी।
कर्म से मोदी।
विचार से मोदी।
स्वाभिमान से मोदी।
जहाँ देखा
वहाँ बस मोदी ही मोदी।

आज देश का हर कण कण
उसके गुणगान किए बिना
रुक नहीं पा रहा है।
भारत माँ भी
ऐसे वीर को जन्म देकर
खुद पर गौरवान्वित हो
हर्षा रही हैं।

बच्चे बूढ़े और जवान
मोदी की सोच के धारा में समाहित हो
देशहित में
राष्ट्रवाद के महासागर में
मिलती जा रही हैं।
आज हर एक की सोच
राष्ट्रवाद के पथ से हो गुज़रती है।
देश के लिए प्रेम
और देश के लिए कुछ कर गुज़रने का जज़्बा
आज हर दिल में धड़कती है।


भारत माता की जय।
वन्दे मातरम।
जय हिंद।।
जय भारत।।
Modi








dil se modi।

man se modi।

soch se modi।

karm se modi।

vichaar se modi।

svaabhimaan se modi।

jahaan dekhaa

vahaan bas modi hi modi।


aaj desh kaa har kan kan

uske gungaan kia binaa

ruk nahin paa rahaa hai।

bhaarat maan bhi

aise vir ko janm dekar

khud par gaurvaanvit ho

harshaa rahi hain।


bachche budhe aur javaan

modi ki soch ke dhaaraa men samaahit ho

deshahit men

raashtrvaad ke mahaasaagar men

milti jaa rahi hain।

aaj har ek ki soch

raashtrvaad ke path se ho gujrti hai।

desh ke lia prem

aur desh ke lia kuchh kar gujrne kaa jjbaa

aaj har dil men dhdakti hai।



bhaarat maataa ki jay।

vande maataram।

jay hind।।

jay bhaarat।।




Written by sushil kumar

Shayari

24 May 2019

Aap jo kabhi hamse ruth jati ho.

Shayari

आप जो कभी हमसे रूठ जाती हो

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Angry birds


आप जो कभी हमसे रूठ जाती हो
दिल हमारा टूट सा जाता है
शीशे की भाँति चूर चूर सा हो जाता है।
Angry birds

अश्रु!
अश्रु तो मानो सैलाब बन
आँखों से बह पड़ते हैं।
ऐसा आभास होता है
मानो कि किसी ने मेरे दिल को ही
मेरे शरीर से अलग थलग कर दिया हो।
Angry birds

ऐसा आभास होता है
जीतेजी नरक के आग में
किसी ने धकेल दिया हो।
 ना कुछ होशोहवास रहता है
हमारा दिलोदिमाग शिथिल सा पड़ जाता है।
Angry birds

बस लगता है
आपकी यादों में
आपके ख्यालों में खोया रहूँ।
जो नींद जो आ जाती है
ख्वाबों में आपसे रूबरू हो जाता हूँ।
आपसे माफी माँगता हूँ।
और आप हमे माफ़ भी कर देती हो।
Angry birds


खुशी खुशी नींद जब खुलती है
हम टूट से जाते हैं
जब आपको अपने समीप नहीं पाते हैं।
आपको तलाशती हुई
हमारी बेचैन नज़रें
हमें आपके करीब पहुँचा देती है।
हम आपसे रोकर माफी माँगने लगते है।
और आप हमें गले लगा
हमे माफ भी कर देती हैं।
तब जाकर हमारे दिल को शुकुन आता है।
Angry birds











aap jo kabhi hamse ruth jaati ho

dil hamaaraa tut saa jaataa hai

shishe ki bhaanti chur chur saa ho jaataa hai।



ashru!

ashru to maano sailaab ban

aankhon se bah pdte hain।

aisaa aabhaas hotaa hai

maano ki kisi ne mere dil ko hi

mere sharir se alag thalag kar diyaa ho।



aisaa aabhaas hotaa hai

jiteji narak ke aag men

kisi ne dhakel diyaa ho।

 naa kuchh hoshohvaas rahtaa hai

hamaaraa dilodimaag shithil saa pd jaataa hai।



bas lagtaa hai

aapki yaadon men

aapke khyaalon men khoyaa rahun।

jo nind jo aa jaati hai

khvaabon men aapse rubru ho jaataa hun।

aapse maaphi maangtaa hun।

aur aap hame maaf bhi kar deti ho।




khushi khushi nind jab khulti hai

ham tut se jaate hain

jab aapko apne samip nahin paate hain।

aapko talaashti hui

hamaari bechain njren

hamen aapke karib pahunchaa deti hai।

ham aapse rokar maaphi maangne lagte hai।

aur aap hamen gale lagaa

hame maaph bhi kar deti hain।

tab jaakar hamaare dil ko shukun aataa hai।



Written by sushil kumar

Shayari


22 May 2019

Main fir aaunga.

Shayari

मैं फिर आऊँगा।

kavitadilse.top  द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Love


मैं आया था तुमसे मिलने को
मिलकर फिर से बिछुड़ने को।
ताकि फिर से हम मिल सके
वो प्यार भरे क्षण को पुनः
जी सके।

कुछ तुम्हे गुदगुदाने को
तुम्हें छेड़ जाने को
तेरे दबे मुस्कान को चेहरे पर लाने को।
तेरे जेहन से दुख भरे बादल को मिटाने को।
मैं फिर आऊँगा।
मैं फिर आऊँगा।


तेरे शख्स में
मेरे अक्स को मिलाने को।
तेरे आगोश में
खुद को भुलाने को।
तेरे संग में प्यार भरे पल
जी जाने को।
मैं फिर आऊँगा।
मैं फिर आऊँगा।
मैं फिर आऊँगा।
Love













main aayaa thaa tumse milne ko

milakar phir se bichhudne ko।

taaki phir se ham mil sake

vo pyaar bhare kshan ko punah

ji sake।


kuchh tumhe gudagudaane ko

tumhen chhed jaane ko

tere dabe muskaan ko chehre par laane ko।

tere jehan se dukh bhare baadal ko mitaane ko।

main phir aaungaa।

main phir aaungaa।



tere shakhs men

mere aks ko milaane ko।

tere aagosh men

khud ko bhulaane ko।

tere sang men pyaar bhare pal

ji jaane ko।

main phir aaungaa।

main phir aaungaa।

main phir aaungaa।



Written by sushil kumar

Shayari

Apna kirdaar nibhao.

Shayari

अपना किरदार निभाओ।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


जीवन नहीं
जीवन का किरदार बड़ा होना चाहिए।
जिससे सब का भला हो
वैसे कर्म का आगाज़ बड़ा होना चाहिए।

कीड़े मकौडों की भाँति सभी जी रहे हैं यहाँ।
खाने की पूर्ति को
ना जाने कहाँ कहाँ भटक रहे यहाँ।
जहाँ खाना सुविधापूर्वक मिल जाए।
सारा जीवन उनका
बस वहीं कट गया।

ऐसे कीड़ों जैसे जीना भी क्या है जीना।
मानव योनी पाकर
उसे व्यर्थ में क्यों है खोना।
जीवन छोटा है या बड़ा
ये उम्र की लंबाई से
नहीं नापा जा सकता।
पर जो छोटे जीवन में ही
कोई बड़ा काम कर जाए।
तो उसका जीवन स्वयं ही स्वयं
बड़ा हो जाया करता है।

याद तो होगा ११अगस्त १९०८ का वो दिन
जब हँसते हँसते चढ़ गया था
कोई बालक किसी शूली पर।
उसकी उम्र कुछ  ज्यादा नहीं
बस उन्नीस को छूने को थी।
पर उस नादान परिंदे ने जिद्द पकड़ रखी थी
खुले आसमान में पँख फैला उड़ने की।
भारत की आज़ादी के खातिर
जिसने इतनी बड़ी आहुति दे दी।
आज सारा देश उन्हें नमन कर रहा है
वो कोई और नहीं
हमारे बोस खुदीराम थे।

जाते जाते एक चिंगारी जो
इस क्रांतिकारी ने
दिल में सभी के
जगा गया।
आज़ादी की लौ प्रचंड रूप ले अग्नि का
ज्वाला बन
सभी के हृदय में भभक रहा।
बारूद बन विस्फोट हुआ जो देश में
काँप उठा था दुश्मनो का सीना।
दुम दबा भागे थे अंग्रेज गीदड़ सा
मानो जाग गया हो बब्बर शेर भारत का।

आओ हम सब मिलकर एक प्रण लें आज से
अपने जीवन को अब बड़ा बनाएँगे
उम्र भले
लम्बी रहे ना रहे
पर जब तक जीएँगे
मानवता का उत्थान कराएँगे
Role








jivan nahin

jivan kaa kirdaar bdaa honaa chaahia।

jisse sab kaa bhalaa ho

vaise karm kaa aagaaj bdaa honaa chaahia।


kide makaudon ki bhaanti sabhi ji rahe hain yahaan।

khaane ki purti ko

naa jaane kahaan kahaan bhatak rahe yahaan।

jahaan khaanaa suvidhaapurvak mil jaaa।

saaraa jivan unkaa

bas vahin kat gayaa।


aise kidon jaise jinaa bhi kyaa hai jinaa।

maanav yoni paakar

use vyarth men kyon hai khonaa।

jivan chhotaa hai yaa bdaa

ye umr ki lambaai se

nahin naapaa jaa saktaa।

par jo chhote jivan men hi

koi bdaa kaam kar jaaa।

to uskaa jivan svayan hi svayan

bdaa ho jaayaa kartaa hai।


yaad to hogaa 11agast 1908 kaa vo din

jab hnaste hnaste chdh gayaa thaa

koi baalak kisi shuli par।

uski umr kuchh  jyaadaa nahin

bas unnis ko chhune ko thi।

par us naadaan parinde ne jidd pakd rakhi thi

khule aasmaan men pnakh phailaa udne ki।

bhaarat ki aajaadi ke khaatir

jisne etni bdi aahuti de di।

aaj saaraa desh unhen naman kar rahaa hai

vo koi aur nahin

hamaare bos khudiraam the।


jaate jaate ek chingaari jo

es kraantikaari ne

dil men sabhi ke

jagaa gayaa।

aajaadi ki lau prachand rup le agni kaa

jvaalaa ban

sabhi ke hriaday men bhabhak rahaa।

baarud ban visphot huaa jo desh men

kaanp uthaa thaa dushmno kaa sinaa।

dum dabaa bhaage the angrej gidd saa

maano jaag gayaa ho babbar sher bhaarat kaa।


aao ham sab milakar ek pran len aaj se

apne jivan ko ab bdaa banaaange

umr bhale

lambi rahe naa rahe

par jab tak jiange

maanavtaa kaa utthaan karaaange




Written by sushil kumar

Shayari

13 May 2019

Bahut ho gaya bhai

Shayari

बहुत हो गया भाई

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठको को समर्पित है।

बहुत हो गया भाई!
जिसे देखो दबाने को लगा है।
हर किसी को बस
अपना गुस्सा हमपर निकालने को लगा है।
कमज़ोर हूँ,
इसका मतलब ये तो नहीं
जिसे देखो अपना तैश हम पर थोपे जा रहा है।
मैं भी इंसान हूँ
मुझे भी गुस्सा होने का हक़ है
मैं किस पर गुस्सा होऊं।
पर क्या कोई है नहीं इस दुनिया में
मेरे गुस्से को झेलने को।
ऐसे में तो
मै अंदर के तनाव से टूटता सा चला जा रहा हूँ।
शीशे सा चकनाचूर अंदर ही अंदर होता सा जा रहा हूँ।
कोई बचाले मुझे इस तनाव से
वरना मैं कहीं डूबता सा जा रहा हूँ।
और कितनी देर झेल पाऊँगा
मुझे नहीं है पता।
अगर ऐसे ही चलता रहा तो
अस्तित्व अपना
खोता सा जा रहा हूँ।







bahut ho gayaa bhaai!

jise dekho dabaane ko lagaa hai।

har kisi ko bas

apnaa gussaa hamapar nikaalne ko lagaa hai।

kamjor hun,

eskaa matalab ye to nahin

jise dekho apnaa taish ham par thope jaa rahaa hai।

main bhi ensaan hun

mujhe bhi gussaa hone kaa hk hai

main kis par gussaa houn।

par kyaa koi hai nahin es duniyaa men

mere gusse ko jhelne ko।

aise men to

mai andar ke tanaav se tuttaa saa chalaa jaa rahaa hun।

shishe saa chaknaachur andar hi andar hotaa saa jaa rahaa hun।

koi bachaale mujhe es tanaav se

varnaa main kahin dubtaa saa jaa rahaa hun।

aur kitni der jhel paaungaa

mujhe nahin hai pataa।

agar aise hi chaltaa rahaa to

astitv apnaa

khotaa saa jaa rahaa hun।



Written by sushil kumar

Shayari

9 May 2019

Har ek friend jaruri hota hai.

Shayari

हर एक फ्रेंड ज़रूरी होता है।

kavitadilse. top द्वारा आप सभी दोस्तों को समर्पित है।


मैं बवंडर रोक खड़ा था मन में
भावों के सैलाब लिए।
जिसे मैंने चाहा था
छोड़ गई थी मुझे
किसी ओर के लिए।
दिल टूटा
सब छूटा।
चाहा जग छोड़ दूँ उसके लिए।
अब जी के भी क्या फायदा
जब वो ही नहीं है
जिसके संग सोचा था
जीने के लिए।

तभी किसी ने रखा हाथ मेरे कन्धे पर
लगा कोई अपना
उसके स्पर्श से।
जो मुड़ा तो पाया अपने दोस्त को
जिसने साथ दिया था
मेरे हर मंजिल
हर मोड़ पर।
मैं रोक ना पाया अपने भावों के बवंडर को
और रखा अपना सर उसके कन्धे पर।
बह निकले थे
मेरे अश्रु बांध तोड़कर
ठहराव मिली थी
मेरे मन को तब जाकर।






main bavandar rok khdaa thaa man men

bhaavon ke sailaab lia।

jise mainne chaahaa thaa

chhod gayi thi mujhe

kisi or ke lia।

dil tutaa

sab chhutaa।

chaahaa jag chhod dun uske lia।

ab ji ke bhi kyaa phaaydaa

jab vo hi nahin hai

jiske sang sochaa thaa

jine ke lia।


tabhi kisi ne rakhaa haath mere kandhe par

lagaa koi apnaa

uske sparsh se।

jo mudaa to paayaa apne dost ko

jisne saath diyaa thaa

mere har manjil

har mod par।

main rok naa paayaa apne bhaavon ke bavandar ko

aur rakhaa apnaa sar uske kandhe par।

bah nikle the

mere ashru baandh todkar

thahraav mili thi

mere man ko tab jaakar।



Written by sushil kumar

Shayari


5 May 2019

Sanskar duniya ka sabse anmol ratan hai.

Shayari

संस्कार-दुनिया का सबसे अनमोल रतन है।

kavitadilse.top द्वारा मेरे व आपके,हम सभी के माँ पापा को समर्पित है।

Maa baap

पैसे की किल्लत भले ही थी
पर माँ बाबू जी आपने कभी भी
मेरे सपनों के पतंग को
आसमान की ऊंचाइयों को छूने से
कभी नहीं रोका।

गिरा मैं
चोट आपको लगी।
आँसू मेरे बहे
दिल आपका रोया।
माँ आपका मेरे सर पर
तेल से चम्पी करना।
नहीं भूला हूँ मैं।
और पापा आपका वो ठंड के मौसम में
मेरे छाती पर तेल से मालिश करना
ताकि मुझे सर्दी ना लगे।
नहीं भुला हूँ मैं।
आज भी सर मेरा भारी भारी रहता है
पर कोई तेल से चम्पी करने वाला नही है माँ।
आज मुझे ठंड में सर्दी लग ही जाती है
क्योंकि कोई तेल से छाती मालिश करने वाला नही है पापा।
मुझे आप पापा मम्मी बहुत याद आते हैं।
आप क्यों नही हमारे साथ आकर रहते हैं।
क्या आपको मैं याद नही आता हूँ??


Maa baap

माना!
माना मैंने की
महंगे खिलौने मुझे नहीं मिले
ना ही आपलोगों ने मुझे भारत दर्शन कराया।
पर फिर भी मुझे आज तक कभी अफसोस नही हुआ।
और मैं आपका सदा सदा के लिए आभारी रहूँगा
क्योंकि संस्कार के जो अनमोल रत्न आपने मुझे दिए
वो अत्यधिक अनमोल थे।
जो जीवन भर मेरा साथ निभाएँगे।
इनके सामने सारे खिलौने और भारत दर्शन व्यर्थ से थे।

आज मैं जो भी हूँ
जैसा भी हूँ
ये आपके संस्कार के कारण ही हूँ।
और मुझे आप दोनों पर सदा सदा के लिए अभिमान है
और सदा अभिमान रहेगा।
मैं कहीं भी रहूँ
कोई भी दिन ऐसा नहीं
जिस दिन आपके सेहत के लिए
मालिक से दुआ और प्रार्थना नहीं की होगी।

मुझे ऐसे जीवन के बारे मे सोच कर भी डर लगता है
जहाँ आपका साथ ना हो।
मैं जब भी जन्म लूँ
मेरा बस एक ही प्रार्थना है मालिक जी आपसे
मुझे मेरे पापा मम्मी ही मुझे मिले
मेरे माँ बाप के रूप में सदा।












paise ki killat bhale hi thi

par maan baabu ji aapne kabhi bhi

mere sapnon ke patang ko

aasmaan ki unchaaeyon ko chhune se

kabhi nahin rokaa।


giraa main

chot aapko lagi।

aansu mere bahe

dil aapkaa royaa।

maan aapkaa mere sar par

tel se champi karnaa।

nahin bhulaa hun main।

aur paapaa aapkaa vo thand ke mausam men

mere chhaati par tel se maalish karnaa

taaki mujhe sardi naa lage।

nahin bhulaa hun main।

aaj bhi sar meraa bhaari bhaari rahtaa hai

par koi tel se champi karne vaalaa nahi hai maan।

aaj mujhe thand men sardi lag hi jaati hai

kyonki koi tel se chhaati maalish karne vaalaa nahi hai paapaa।

mujhe aap paapaa mammi bahut yaad aate hain।

aap kyon nahi hamaare saath aakar rahte hain।

kyaa aapko main yaad nahi aataa hun??






maanaa!

maanaa mainne ki

mahange khilaune mujhe nahin mile

naa hi aaplogon ne mujhe bhaarat darshan karaayaa।

par phir bhi mujhe aaj tak kabhi aphsos nahi huaa।

aur main aapkaa sadaa sadaa ke lia aabhaari rahungaa

kyonki sanskaar ke jo anmol ratn aapne mujhe dia

vo atyadhik anmol the।

jo jivan bhar meraa saath nibhaaange।

enke saamne saare khilaune aur bhaarat darshan vyarth se the।


aaj main jo bhi hun

jaisaa bhi hun

ye aapke sanskaar ke kaaran hi hun।

aur mujhe aap donon par sadaa sadaa ke lia abhimaan hai

aur sadaa abhimaan rahegaa।

main kahin bhi rahun

koi bhi din aisaa nahin

jis din aapke sehat ke lia

maalik se duaa aur praarthnaa nahin ki hogi।


mujhe aise jivan ke baare me soch kar bhi dar lagtaa hai

jahaan aapkaa saath naa ho।

main jab bhi janm lun

meraa bas ek hi praarthnaa hai maalik ji aapse

mujhe mere paapaa mammi hi mujhe mile

mere maan baap ke rup men sadaa।





Written by sushil kumar

Shayari

3 May 2019

Aaj aap naraz ho humse🙄

Shayari

आज आप नाराज़ हो हमसे

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Dil

आज आप नाराज़ हो हमसे
ये हक है आपका।
मैं मानता हूँ
कि कोई गलती हुई होगी हमसे।
शायद आपके दिल को
बड़ी ठेस लगी होगी।

पर एक बात हम भी कह देते हैं आपसे
आपके बर्ताव से दिल हमारा
टूट सा गया है।
इसलिए आगे कभी मेरे करीब
मत आना।
क्योंकि मैं रहूँ ना रहूँ
तुम्हारे आँसू पोंछने को उस लम्हा।






aaj aap naaraaj ho hamse

ye hak hai aapkaa।

main maantaa hun

ki koi galti hui hogi hamse।

shaayad aapke dil ko

bdi thes lagi hogi।


par ek baat ham bhi kah dete hain aapse

aapke bartaav se dil hamaaraa

tut saa gayaa hai।

esalia aage kabhi mere karib

mat aanaa।

kyonki main rahun naa rahun

tumhaare aansu ponchhne ko us lamhaa।



Written by sushil kumar

Shayari

1 May 2019

Main dara sahma sa

Shayari

मैं डरा सहमा सा

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Love

Love


मैं डरा सहमा सा
आया था तेरे पास में।
मन में लेकर बवंडर भावों का
कर रहा था मेरे दिल को विचलित।
किसी जिगरी दोस्त को खोने का सदमा था
जो मेरे दिल का बहुत बड़ा रहनुमा था।
पहली बार किसी करीबी को
मृत्यु के गोद में सोते देखा था।
तेरे बिन जीवन की सोच में
दिल मेरा व्यथा में रोया था।
चाहता था मन हल्का करने को
तेरे कन्धे पर सर रख कर
फूटफूटकर रोने को।
मैं अंदर ही अंदर टूटता सा चला जा रहा था।
शीशे की भाँती चकनाचूर होता सा जा रहा था।
वो पल को महसूस कर ही
मैं काँप सा जा रहा था।
मेरे अंदर एक डर बैठा सा जा रहा था ।
क्या बयान करूँ
मेरी हालत कैसी थी नाजुक।
पर जो तूने मुझे
अपने गले से लगाया था
मैं रो पड़ा भाव भिवोर हो
भभक भभक कर।
मेरी हालत देख
जो तूने मुझसे रोने का कारण पूछा था।
मैं सिसक सिसक कर बोल पड़ा
मैं तेरे बिन जीने के बारे में कभी नहीं सोचा था।




I love you.











main daraa sahmaa saa

aayaa thaa tere paas men।

man men lekar bavandar bhaavon kaa

kar rahaa thaa mere dil ko vichalit।

kisi jigri dost ko khone kaa sadmaa thaa

jo mere dil kaa bahut bdaa rahanumaa thaa।

pahli baar kisi karibi ko

mriatyu ke god men sote dekhaa thaa।

tere bin jivan ki soch men

dil meraa vythaa men royaa thaa।

chaahtaa thaa man halkaa karne ko

tere kandhe par sar rakh kar

phutphutakar rone ko।

main andar hi andar tuttaa saa chalaa jaa rahaa thaa।

shishe ki bhaanti chaknaachur hotaa saa jaa rahaa thaa।

vo pal ko mahsus kar hi

main kaanp saa jaa rahaa thaa।

mere andar ek dar baithaa saa jaa rahaa thaa ।

kyaa bayaan karun

meri haalat kaisi thi naajuk।

par jo tune mujhe

apne gale se lagaayaa thaa

main ro pdaa bhaav bhivor ho

bhabhak bhabhak kar।

meri haalat dekh

jo tune mujhse rone kaa kaaran puchhaa thaa।

main sisak sisak kar bol pdaa

main tere bin jine ke baare men kabhi nahin sochaa thaa।

I love you.

Written by sushil kumar

Shayari

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...