2 Apr 2019

Modi hai! Tabhi hum sabhi hain।।

Shayari

मोदी है! तभी हम सभी हैं।।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।।

India

मन में एक आक्रोश था
दिल में भी बड़ा कोप था।
कब बदलेगा समय हमारा
ये सोच सोच
मन शोक में था।

दिल के धड़कन से तेज़ हमारे
मन में ये विचारों की लहर उफनते थे ।
अगले पल
फिर कौन सा कारनामें(भ्रस्टाचार)
हमारे सरकार के देखने को मिलने हैं।
क्या यही दिन देखने को हमने
इन्हें वोट दे जिताए थे।

रोज सैनिक हमारे शहीद हो रहें थे
जनता आतंकवाद और महंगाई के चपेट में थी।
पर सरकार सोई थी अपने किसी दुनिया में
भ्रस्टाचार के नए आयाम जो पाने थे।
सिर झुका था हम सभी का
डर डर के सभी जी रहे थे।
शोध होता था अपने यहाँ
पर परीक्षण
विरोधियों के सहमति से करते थे।
आजादी पाए पचास वर्ष हो चले थे
पर हमारी सोच अभी भी
जंजीरों से जकड़े थे।

फिर हम सब ने उठाई एक क्रांतिकारी कदम
बदल कर रख दिए
सरकार को हम।
आज हमें नहीं है
अपनी करनी पे कोई पछतावा।
क्योंकि देश आज बदल रहा है
और बढ़ाया है सुनहरे पथ पर कदम।
हर क्षेत्र में एक लहर सी दौड़ पड़ी है
और हर भारतीय इस विकास के दौर में
एक नया आयाम पाने को उत्सुक है।
हर किसी के दिल में है शांति
और मन में है एक दृढ़ विश्वास।
देश की प्रगति के लिए
हम सभी बढ़ाएँगे अपना हाथ।

शीश अपना गर्व से आज ऊँचा है
छाती भी अपनी छप्पन इंच चौड़ी है।
विरोधी देशों के दिल मे ख़ौफ़ है
क्योंकि अपना तिरंगा आज
सारे विश्व में
शान से  बेख़ौफ़ तैर रहा है।

मोदी है तो मुमकिन है।।
मोदी है! तभी हम सभी हैं।।

Namo












man men ek aakrosh thaa

dil men bhi bdaa kop thaa।

kab badlegaa samay hamaaraa

ye soch soch

man shok men thaa।


dil ke dhdakan se tej hamaare

man men ye vichaaron ki lahar uphante the ।

agle pal

phir kaun saa kaarnaamen(bhrastaachaar)

hamaare sarkaar ke dekhne ko milne hain।

kyaa yahi din dekhne ko hamne

enhen vot de jitaaa the।


roj sainik hamaare shahid ho rahen the

jantaa aatankvaad aur mahangaai ke chapet men thi।

par sarkaar soi thi apne kisi duniyaa men

bhrastaachaar ke naye aayaam jo paane the।

sir jhukaa thaa ham sabhi kaa

dar dar ke sabhi ji rahe the।

shodh hotaa thaa apne yahaan

par parikshan

virodhiyon ke sahamati se karte the।

aajaadi paaa pachaas varsh ho chale the

par hamaari soch abhi bhi

janjiron se jakde the।


phir ham sab ne uthaai ek kraantikaari kadam

badal kar rakh dia

sarkaar ko ham।

aaj hamen nahin hai

apni karni pe koi pachhtaavaa।

kyonki desh aaj badal rahaa hai

aur bdhaayaa hai sunahre path par kadam।

har kshetr men ek lahar si daud pdi hai

aur har bhaartiy es vikaas ke daur men

ek nayaa aayaam paane ko utsuk hai।

har kisi ke dil men hai shaanti

aur man men hai ek dridh vishvaas।

desh ki pragati ke lia

ham sabhi bdhaaange apnaa haath।


shish apnaa garv se aaj unchaa hai

chhaati bhi apni chhappan ench chaudi hai।

virodhi deshon ke dil me khauf hai

kyonki apnaa tirangaa aaj

saare vishv men

shaan se  bekhauf tair rahaa hai।


modi hai to mumakin hai।।

modi hai! tabhi ham sabhi hain।।



Written by sushil kumar

Shayari



No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...