1 Apr 2019

राष्ट्रवाद के रंग में रंगने को

Shayari


राष्ट्रवाद के रंग में रंगने को

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Jay hind

राष्ट्रवाद के रंग में रंगने को
आओ चले हम
नमो के संग।
जहाँ देखो
लोग नशे में हैं।
राष्ट्रवाद के जश्न में हैं।
Jay hind

क्या हिन्दू
क्या मुस्लिम
आज सारे धर्म
एक ही उमंग में हैं।
बच्चे,जवान और बूढ़े क्या
मिट्टी के हर कण कण से
बस एक ही आवाज़ गूँज रही है।
मोदी से बड़ा कोई राष्ट्रवादी नेता नहीं है
जो इस देश के लिए समर्पित है।
Jay hind

वोट खरीदने बहुत आए यहाँ
सुनहरे सपनों का चक्रव्यूह बना
उसमे फँसा चले गए सभी।
पर बात जहाँ देश की आती है
दिल से बस एक ही नाम
जुबान पर आ जाती है।
आज विश्व में अपना तिरंगा
बड़े शान से हवा में तैर रहा है।
Jay hind

हर हिंदुस्तानी का दिल गर्व से
जय हिंद जय हिंद का उद्घोष कर रहा है।
दुश्मनो के दिल में ख़ौफ़ पैदा कर
हम चैन की नींद सो रहे हैं।
क्योंकि अपना चौकीदार
हर क्षण चौकन्ना रह
अपने देश की गरिमा की रक्षा कर रहा है।
इस लिए दुबारा मोदी जी को वोट दे
उन्हें विजय बनाएँगे।
अपने देश की कायापलट कर
हम दुनिया में श्रेष्ठ कहलाएँगे।
Jay hind

बोलो दिल से
जय हिंद।।
जय भारत।।

Written by sushil kumar

Shayari

No comments:

आराम से चल अभी बहुत दूर जाना।

Shayari आराम से चल अभी बहुत दूर जाना है। kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है। आराम से चल अभी बहुत दूर जाना है। जीवन ...