30 Apr 2019

Mujhe khed hai.

Shayari

मुझे खेद है

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Rastrawad

मुझे खेद है
आज भी कुछ भारतीय
जातिवाद और धर्मवाद पर वोट देते हैं।
उस मन्दबुद्धि और उसके पूर्वजों के द्वारा
रचाए सारी ढकोसले हैं।
हिंदुस्तान के टुकड़े नहीं होते
अगर राज करने की चाह
इनके दिल में ना होती।
साले अंग्रेजों ने धर्मवाद का जहर घोल
हिन्दुस्तानियो को हिन्दुस्तानियो से लड़वाया था।
और इन जैसे ठेकेदारों की मदद ले
देश का बंटवारा करवाया था।

हम गुलामों को फिर से
इन गद्दारों ने
धर्मवाद और जातिवाद के जंजीरो में
कैद करवाया है।
अंग्रेज चले गए
पर  अपनी सोच छोड़ गए।
हमारे देश को अभिशापित सदा के लिए कर गए।

अगर देश को आगे ले जाना है
इन जंजीरो को तोड़
हमारी सोच को आज़ाद कराना होगा।
जातिवाद और धर्मवाद के ढकोसलों को
अपने जेहन से मिटाना होगा।
राष्ट्रवाद के ज्वाले को फिर से
सारे देशवासियों के दिल में जगाना होगा।
फिर हम सभी सही मायने में
पूर्ण स्वतंत्र कहलाएँगे।
अपने भारत को फिर सही मायने में
उसे बुलन्दियों तक पहुँचाएँगे।

अगर कोई आपसे धर्म और जाति पूछो
गर्व से हुँकारो
हम भारतीय हैं।
Indian

जय हिंद।
जय भारत।








mujhe khed hai

aaj bhi kuchh bhaartiy

jaativaad aur dharmvaad par vot dete hain।

us mandabuddhi aur uske purvjon ke dvaaraa

rachaaa saari dhakosle hain।

hindustaan ke tukde nahin hote

agar raaj karne ki chaah

enke dil men naa hoti।

saale angrejon ne dharmvaad kaa jahar ghol

hindustaaniyo ko hindustaaniyo se ldvaayaa thaa।

aur en jaise thekedaaron ki madad le

desh kaa bantvaaraa karvaayaa thaa।


ham gulaamon ko phir se

en gaddaaron ne

dharmvaad aur jaativaad ke janjiro men

kaid karvaayaa hai।

angrej chale gaye

par  apni soch chhod gaye।

hamaare desh ko abhishaapit sadaa ke lia kar gaye।


agar desh ko aage le jaanaa hai

en janjiro ko tod

hamaari soch ko aajaad karaanaa hogaa।

jaativaad aur dharmvaad ke dhakoslon ko

apne jehan se mitaanaa hogaa।

raashtrvaad ke jvaale ko phir se

saare deshvaasiyon ke dil men jagaanaa hogaa।

phir ham sabhi sahi maayne men

purn svatantr kahlaaange।

apne bhaarat ko phir sahi maayne men

use bulandiyon tak pahunchaaange।


agar koi aapse dharm aur jaati puchho

garv se hunkaaro

ham bhaartiy hain।

Jay hind
Jay bharat.

Written by sushil kumar

Shayari

No comments:

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे। Shayari मेरे भारत देश के मिट्टी की  बात बड़ी ही निराली है। यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में छिपी हुई एक...