29 Apr 2019

Niswarth mann

Shayari

निस्वार्थ मन।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



मेरे चरित्र के शब्दकोष में
कुछ शब्दों से कभी भेंट ना हो पाई है।
आज तक समझ नहीं पाया
कुकर्म करने की
इंसान को नौबत क्यों आई है।
ईश्वर के दिए गए अनमोल जीवन में
मैने सदा उनकी मेहर और कृपा पाई।
जितना भी दिया भगवन ने
मैने सदा उसमे ही संतुष्टी पाई।

बेशर्त और  निस्वार्थ प्रेम मेरे नस नस में
आज लहू बन बहा है।
अपने क्या परायो की भी सेवा कर
कभी उम्मीद कुछ दिल में ना जगाई है।

हर लम्हा ईश्वर से बस एक ही फरियाद
हमने की है।
दुख क्लेश का नामोनिशान मिटे जग से
खुशिओं की बारिश में भींग सब हर्षित हो।

आमीन।








mere charitr ke shabdkosh men

kuchh shabdon se kabhi bhent naa ho paai hai।

aaj tak samajh nahin paayaa

kukarm karne ki

ensaan ko naubat kyon aai hai।

ishvar ke dia gaye anmol jivan men

maine sadaa unki mehar aur kripaa paai।

jitnaa bhi diyaa bhagavan ne

maine sadaa usme hi santushti paai।


beshart aur  nisvaarth prem mere nas nas men

aaj lahu ban bahaa hai।

apne kyaa paraayo ki bhi sevaa kar

kabhi ummid kuchh dil men naa jagaai hai।


har lamhaa ishvar se bas ek hi phariyaad

hamne ki hai।

dukh klesh kaa naamonishaan mite jag se

khushion ki baarish men bhing sab harshit ho।


aamin!


Written by sushil kumar

Shayari


No comments:

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...