13 Apr 2019

Hey ishwar!

Shayari

हे ईश्वर!

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

हे ईश्वर!

हे ईश्वर!
तू इतनी शक्ति दे मुझे कि
मैं सदा तेरे पथ पर अग्रसर रहूँ।
मौत मेरे सामने रहे
पर लब पर तेरा नाम
सदा बना रहे।
हे ईश्वर!

हे ईश्वर!
मुझे तू इस लायक बना कि
तेरी दी हुई खुशियों को
अपने संगियों संग बाँट सकूँ।
और उनके दुख रूपी कष्ट को दूर कर
उन्हें भी तेरे मार्ग पर लगा सकूँ।
हे ईश्वर!

हे ईश्वर!
तू इतना मुझे सामर्थ बना दे कि
मेरे दर पर जो भी आए
सभी सामर्थ
बन कर
यहाँ से जाए।
और तेरे पथ पर
उन्हें भी मैं
अग्रसर कर पाऊँ।
और हम सभी मिल
तेरे जग रूपी बगिया को
भिन्न भिन्न रंगों के
खुशियों के पुष्पों से सुषोभित कर दें।









he ishvar!

tu etni shakti de mujhe ki

main sadaa tere path par agrasar rahun।

maut mere saamne rahe

par lab par teraa naam

sadaa banaa rahe।




he ishvar!

mujhe tu es laayak banaa ki

teri di hui khushiyon ko

apne sangiyon sang baant sakun।

aur unke dukh rupi kasht ko dur kar

unhen bhi tere maarg par lagaa sakun।




he ishvar!

tu etnaa mujhe saamarth banaa de ki

mere dar par jo bhi aaa

sabhi saamarth

ban kar

yahaan se jaaa।

aur tere path par

unhen bhi main

agrasar kar paaun।

aur ham sabhi mil

tere jag rupi bagiyaa ko

bhinn bhinn rangon ke

khushiyon ke pushpon se sushobhit kar den।


Written by Sushil Kumar

Shayari

No comments:

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे। Shayari मेरे भारत देश के मिट्टी की  बात बड़ी ही निराली है। यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में छिपी हुई एक...